मानवता के मन मन्दिर में – Manavta ke Man Mandir me – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना

Manavta ke Man Mandir mein
हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना: मानवता के मन मन्दिर में, ज्ञान का दीप जला दो, करुणा निधान भगवान मेरे, भारत को स्वर्ग बना दो॥

मानवता के मन मन्दिर में

मानवता के मन मन्दिर में,
ज्ञान का दीप जला दो,
करुणा निधान भगवान मेरे,
भारत को स्वर्ग बना दो॥

करुणा निधान भगवान मेरे,
भारत को स्वर्ग बना दो॥

दुःख दरिद्रता का नाश करो,
मानव के कष्ट मिटा दो,
अमृत की वर्षा बरसाकर,
भूख की आग मिटा दो,
खेतों में हरियाली भर दो,
धान के ढेर लगा दो॥

करुणा निधान भगवान मेरे
भारत को स्वर्ग बना दो॥

मानवता के मन मन्दिर में
ज्ञान का दीप जला दो
करुणा निधान भगवान मेरे
भारत को स्वर्ग बना दो॥

नव प्रभात फिर महक उठे,
मेरे भारत की फुलवारी!
सब हो एक समान जगत में,
कोई न रहे भिखारी!
एक बार माँ वसुंधरा को
नव शृंगार करा दो॥

करुणा निधान भगवान मेरे,
भारत को स्वर्ग बना दो!
भारत को स्वर्ग बना दो,
भारत को स्वर्ग बना दो॥


Manavta ke Man Mandir mein

maanavata ke man mandir mein
gyaan ka deep jala do
karuna nidaan bhagavaan mere
bhaarat ko svarg bana do

karuna nidaan bhagavaan mere
bhaarat ko svarg bana do

dukh daridrata ka naash karo
maanav kee vipatti mita do
amrt ​​​​ka varshaakar
bhookh kee aag ka paanee do
kheto mein hariyaalee bhar do
dhaan ke dher laga do

karuna nidaan bhagavaan mere
bhaarat ko svarg bana do

maanavata ke man mandir mein
gyaan ka deep jala do
karuna nidaan bhagavaan mere
bhaarat ko svarg bana do

nav prabhaat phir mahak uthe
mere bhaarat kee phulavaaree
sab ho ek dhaarmik jagat mein
nahin rahe bhikhaaree
ek baar maan vasundhara ko
nav shrrngaar karen

karuna nidaan bhagavaan mere
bhaarat ko svarg bana do
bhaarat ko svarg bana do
bhaarat ko svarg bana do

अन्य हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना: सुबह सवेरे लेकर तेरा नाम प्रभु, वह शक्ति हमें दो दया निधे, पूजनीय प्रभु हमारे भाव उज्वल कीजिये, तू ही राम है तू रहीम है, इतनी शक्ति हमें देना दाता, जयति जय जय माँ सरस्वती, तुम्हीं हो माता पिता तुम्हीं हो, दया कर दान विद्या का, मानवता के मन मन्दिर में, माँ शारदे कहाँ तू वीणा, हम होंगे कामयाब एक दिन, हमको मन की शक्ति देना, हर देश में तू हर भेष में तू, हे प्रभो आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए, हे शारदे माँ, हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी, ऐ मालिक तेरे बंदे हम, वर दे वीणावादिनी वर दे

You may like these posts

हर देश में तू, हर भेष में तू – Har Desh Mein Tu Har Bhesh Mein Tu – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना

हर देश में तू, हर भेष में तू, तेरे नाम अनेक तू एक ही है हर देश में तू, हर भेष में तू, तेरे नाम अनेक तू एक ही है,...Read more !

ऐ मालिक तेरे बंदे हम – Ae malik tere bande hum – हिंदी प्रार्थना/गीत/कविता/वंदना

‘ऐ मालिक तेरे बंदे हम ऐसे हो हमारे करम’ लिखने वाले गीतकार ‘भरत व्यास’ थे। भारत व्यास (Bharat Vyaas: 1918-1982) एक प्रसिद्ध भारतीय गीतकार थे, जिन्होंने 1950 और 1960 के...Read more !

हम होंगे कामयाब एक दिन – Hum Honge Kamyab Ek Din – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना

हम होंगे कामयाब एक दिन हम होंगे कामयाब, हम होंगे कामयाब, हम होंगे कामयाब, एक दिन मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास हम होंगे कामयाब एक दिन… होगी शांति...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *