हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी – He Hansvahini Gyandayini – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/सरस्वती वंदना

“हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी, अम्ब विमल मति दे, अम्ब विमल मति दे” नामक गीत श्री संजीव वर्मा जी लिखा है।

He Hansvahini Gyandayini
हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/सरस्वती वंदना : हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे॥ जग सिरमौर बनाएं भारत, वह बल विक्रम दे। वह बल विक्रम दे॥

हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी

हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी
अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे॥
जग सिरमौर बनाएं भारत,
वह बल विक्रम दे। वह बल विक्रम दे॥
हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी
अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे॥
जग सिरमौर बनाएं भारत,
वह बल विक्रम दे। वह बल विक्रम दे॥

साहस शील हृदय में भर दे,
जीवन त्याग-तपोमर कर दे,
संयम सत्य स्नेह का वर दे,
स्वाभिमान भर दे। स्वाभिमान भर दे॥1
हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी
अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे॥
जग सिरमौर बनाएं भारत,
वह बल विक्रम दे। वह बल विक्रम दे॥

लव, कुश, ध्रुव, प्रहलाद बनें हम
मानवता का त्रास हरें हम,
सीता, सावित्री, दुर्गा मां,
फिर घर-घर भर दे। फिर घर-घर भर दे॥
हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी
अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे॥

इन्हें भी देखें: तू ही राम है तू रहीम है, इतनी शक्ति हमें देना दाता, जयति जय जय माँ सरस्वती, तुम्हीं हो माता पिता तुम्हीं हो, दया कर दान विद्या का, मानवता के मन मन्दिर में, माँ शारदे कहाँ तू वीणा, हम होंगे कामयाब एक दिन


He Hansvahini Gyandayini

he hansavaahinee gyaanadaayinee
amb vimal mati de. amb vimal mati de.
jag siramaur banaen bhaarat,
vah bal vikram de. vah bal vikram de.
he hansavaahinee gyaanadaayinee
amb vimal mati de. amb vimal mati de.
jag siramaur banaen bhaarat,
vah bal vikram de. vah bal vikram de.

sheel sheel hrday mein bhar de,
jeevan tyaag-tapomar kar de,
sanyam saty sneh ka var de,
svaabhimaan bhar de. svaabhimaan bhar de.1
he hansavaahinee gyaanadaayinee
amb vimal mati de. amb vimal mati de.
jag siramaur banaen bhaarat,
vah bal vikram de. vah bal vikram de.

lav, kush, dhruv, prahalaad bane ham
maanavata traas haren ham,
seeta, saavitree, durga maan,
phir ghar-ghar de. phir ghar-ghar de.
he hansavaahinee gyaanadaayinee
amb vimal mati de. amb vimal mati de.

अन्य हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना:सुबह सवेरे लेकर तेरा नाम प्रभु, वह शक्ति हमें दो दया निधे, पूजनीय प्रभु हमारे भाव उज्वल कीजिये, तू ही राम है तू रहीम है, इतनी शक्ति हमें देना दाता, ऐ मालिक तेरे बंदे हम, वर दे वीणावादिनी वर दे

You may like these posts

हे प्रभो आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए – Hey Prabhu Anand Data Gyan Humko Deejiye – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत

‘हे प्रभु आनंद-दाता ज्ञान हमको दीजिए’ महाकवि पंडित रामनरेश त्रिपाठी द्वारा रचित के काव्य साहित्य की देन है। यह गीत रचना स्कूलों में प्रार्थना के रूप में गाया जाता है।...Read more !

हमको मन की शक्ति देना – Hamko Man ki Shakti Dena – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना

हमको मन की शक्ति देना हमको मन की शक्ति, देना मन विजय करें दूसरों की जय से पहले खुद की जय करें हमको मन की शक्ति, देना मन विजय करें...Read more !

दया कर दान विद्या का – Daya Kar Daan Vidya Ka – हिन्दी प्रार्थना/कविता/गीत/वंदना

दया कर दान विद्या का दया कर दान विद्या का, हमें परमात्मा देना, दया करना हमारी आत्मा में, शुद्धता देना। हमारे ध्यान में आओ, प्रभु आँखों में बस जाओ, अँधेरे...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *