भिषज् (भिषक्) शब्द के रूप (Bhishaj Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Bhishaj Shabd

भिषज् शब्द (वैद्य, चिकित्सक, ओषधि, दवा): भिषज् शब्द के जकारान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, भिषज् (Bhishaj) शब्द के अंत में ‘ज्’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह जकारान्त हैं। अतः Bhishaj Shabd के Shabd Roop की तरह भिषज् जैसे सभी जकारान्त पुल्लिङ्ग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। भिषज् शब्द के शब्द रूप संस्कृत में सभी विभक्तियों एवं तीनों वचन में शब्द रूप (Bhishaj Shabd Roop) नीचे दिये गये हैं।

भिषज् के शब्द रूप – Shabd roop of Bhishaj

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा भिषक् भिषजौ भिषजः
द्वितीया भिषजम् भिषजौ भिषजः
तृतीया भिषजा भिषग्भ्याम् भिषग्भिः
चतुर्थी भिषजे भिषग्भ्याम् भिषग्भ्यः
पंचमी भिषजः भिषग्भ्याम् भिषग्भ्यः
षष्ठी भिषजः भिषजोः भिषजाम्
सप्तमी भिषजि भिषजोः भिषक्षु
सम्बोधन हे भिषक् ! हे भिषजौ ! हे भिषजः !

भिषज् शब्द का अर्थ/मतलब

भिषज् शब्द का अर्थ वैद्य, चिकित्सक, ओषधि, दवा होता है। भिषज् शब्द जकारान्त शब्द है इसका मतलब भी ‘वैद्य, चिकित्सक, ओषधि, दवा’ होता है।

भिषज् जैसे और महत्वपूर्ण शब्द रूप

उपर्युक्त शब्द रूप भिषज् शब्द के जकारान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप हैं भिषज् जैसे शब्द रूप (Bhishaj shabd Roop) देखने के लिए Shabd Roop List पर जाएँ।

संस्कृत में धातु रूप देखने के लिए Dhatu Roop पर क्लिक करें और नाम धातु रूप देखने के लिए Nam Dhatu Roop पर जायें।

You may like these posts

श्रीमत् शब्द के रूप – Shrimat Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Shrimat Shabd श्रीमत् शब्द (धनवान् , wealthy): ‘मत्’ प्रत्यायान्त पुंल्लिंग शब्द, सभी ‘मत्’ प्रत्यायान्त पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। श्रीमत् के शब्द रूप –...Read more !

कुक्षि शब्द के रूप – Kukshi Ke Shabd Roop – Sanskrit

Kukshi Shabd कुक्षि शब्द (पेट, उदर, गर्भ, आंतें): इकारांत पुल्लिंग शब्द, इस प्रकार के सभी इकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। कुक्षि के शब्द...Read more !

स्मृति शब्द के रूप – Smrati Ke Shabd Roop – Sanskrit

Smrati Shabd स्मृति शब्द (स्मरणशक्ति, याददाश्त, अनुस्मरण, Memory): स्मृति शब्द के इकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, स्मृति (Smrati) शब्द के अंत में “इ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !