उपमा और रूपक अलंकार युग्म में अंतर

उपमा और रूपक 

उपमा में उपमेय और उपमान की समानता बताई जाती है, यथा-

हरि पद कोमल कमल से

यहां ईश्वर के चरणों की समानता कमल की कोमलता से बताई गई है।


रूपक में उपमेय पर उपमान का अभेद आरोप होता है। यथा-

मन मधुकर पन कै तुलसी रघुपति पद कमल बसैहौं।

यहां मन पर भ्रमर का तथा पद पर कमल का अभेद आरोप किया गया है अतः रूपक अलंकार है।

upama aur roopak mein antar - difference between upama and roopak alankar

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

दीपक अलंकार – Deepak Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

दीपक अलंकार परिभाषा– जहाँ पर प्रस्तुत और अप्रस्तुत का एक ही धर्म स्थापित किया जाता है वहाँ पर दीपक अलंकार होता है। यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों...Read more !

वर्णों का उच्चारण स्थान : हिन्दी, संस्कृत व्याकरण

उच्चारण स्थान तालिका uccharan sthan ki list मुख के अंदर स्थान-स्थान पर हवा को दबाने से भिन्न-भिन्न वर्णों का उच्चारण होता है । मुख के अंदर पाँच विभाग हैं, जिनको...Read more !

अन्त्यानुप्रास अलंकार (Antyanupras Alankar)

अन्त्यानुप्रास अलंकार की परिभाषा  जहाँ अंत में तुक मिलती हो वहाँ पर अन्त्यानुप्रास अलंकार होता है। यह Alankar, शब्दालंकार के 5 भेदों में से Anupras Alankar का एक भेद हैं।...Read more !

स्वभावोक्ति अलंकार – Svabhavokti Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

स्वभावोक्ति अलंकार  परिभाषा– बालकादि की अपनी स्वाभाविक क्रिया अथवा रूप का वर्णन ही स्वभावोक्ति अलंकार है। अर्थात किसी वस्तु के स्वाभाविक वर्णन को स्वभावोक्ति अलंकार कहते हैं। यह अलंकार, हिन्दी...Read more !

च – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘च’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक...Read more !