सन्देह अलंकार – Sandeh Alankar – परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

सन्देह अलंकार - Sandeh Alankar

सन्देह अलंकार

परिभाषा: रूप-रंग, आदि के साद्रश्य से जहां उपमेय में उपमान का संशय बना रहे या उपमेय के लिए दिए गए उपमानों में संशय रहे, वहाँ सन्देह अलंकार होता है।

जब उपमेय और उपमान में समता देखकर यह निश्चय नहीं हो पाता कि उपमान वास्तव में उपमेय है या नहीं। जब यह दुविधा बनती है , तब संदेह अलंकार होता है अथार्त जहाँ पर किसी व्यक्ति या वस्तु को देखकर संशय बना रहे वहाँ संदेह अलंकार होता है। यह अलंकार उभयालंकार का भी एक अंग है।
यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों में से एक हैं।

सन्देह अलंकार के उदाहरण

1.

सारी बीच नारी है कि नारी बीच सारी है।
सारी ही की नारी है कि नारी ही की सारी है।

स्पष्टीकरण– साड़ी के बीच नारी है या नारी के बीच साडी इसका निश्चय नहीं हो पाने के कारण सन्देह अलंकार है।
2.

यह काया है या शेष उसी की छाया,
क्षण भर उनकी कुछ नहीं समझ में आया।

सन्देहालंकारः संस्कृत

‘ससन्देहस्तु भेदोक्तौ तदनुक्तौ च संशयः’ – उपमेय में जब उपमान का संशय हो, तब संदेह अलंकार होता है। नीचे लिखे उदाहरणों को देखें-

Examples of Sandeh Alankar

1.

जय मार्तण्डः किंम? स खलु तुरगैः सप्तभिरितः
कृशानुः किं? सर्वाः प्रसरति दिशौ नैष नियतम् ।
कृतान्तः किं? साक्षान्महिषवहनोऽसाविति चिरं ।
समालोक्याजौ त्वां विधदति विकल्पान् प्रतिभटाः ।।

2.

इन्दुः किं क्व कलङ्कः सरसिजमेतत्किमम्बु कुत्र गतम् ।
ललित सविलासवचनैर्मुखमिति हरिणाक्षि! निश्चित परतः ।।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

You may like these posts

Sanskrit (संस्कृत) – What is Sanskrit? History, Origin and Country of Sanskrit

Sanskrit (संस्कृतम्) is a language of ancient India with a documented history of about 4000 years. It is the primary liturgical language of Hinduism; the predominant language of most works...Read more !

Sanskrit shlok – संस्कृत में श्लोक – Sanskrit shlokas with Hindi meaning

संस्कृत श्लोक (Sanskrit shlok) भारतीय संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। संस्कृत भाषा में श्लोकों का आरंभ वेदों से माना जाता है: ऋग्वेद में श्लोक की संख्या 10462 है जिन्हें ऋचाएं...Read more !

संबंध कारक (का, के, की, रा…) – षष्ठी विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

संबंध कारक परिभाषा शब्द के जिस रूप से एक का दूसरे से संबंध पता चले, उसे संबंध कारक कहते हैं। अथवा – संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप की वजह...Read more !