सन्देह अलंकार – Sandeh Alankar – परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

सन्देह अलंकार - Sandeh Alankar

सन्देह अलंकार

परिभाषा: रूप-रंग, आदि के साद्रश्य से जहां उपमेय में उपमान का संशय बना रहे या उपमेय के लिए दिए गए उपमानों में संशय रहे, वहाँ सन्देह अलंकार होता है।

जब उपमेय और उपमान में समता देखकर यह निश्चय नहीं हो पाता कि उपमान वास्तव में उपमेय है या नहीं। जब यह दुविधा बनती है , तब संदेह अलंकार होता है अथार्त जहाँ पर किसी व्यक्ति या वस्तु को देखकर संशय बना रहे वहाँ संदेह अलंकार होता है। यह अलंकार उभयालंकार का भी एक अंग है।
यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों में से एक हैं।

सन्देह अलंकार के उदाहरण

1.

सारी बीच नारी है कि नारी बीच सारी है।
सारी ही की नारी है कि नारी ही की सारी है।

स्पष्टीकरण– साड़ी के बीच नारी है या नारी के बीच साडी इसका निश्चय नहीं हो पाने के कारण सन्देह अलंकार है।
2.

यह काया है या शेष उसी की छाया,
क्षण भर उनकी कुछ नहीं समझ में आया।

सन्देहालंकारः संस्कृत

‘ससन्देहस्तु भेदोक्तौ तदनुक्तौ च संशयः’ – उपमेय में जब उपमान का संशय हो, तब संदेह अलंकार होता है। नीचे लिखे उदाहरणों को देखें-

Examples of Sandeh Alankar

1.

जय मार्तण्डः किंम? स खलु तुरगैः सप्तभिरितः
कृशानुः किं? सर्वाः प्रसरति दिशौ नैष नियतम् ।
कृतान्तः किं? साक्षान्महिषवहनोऽसाविति चिरं ।
समालोक्याजौ त्वां विधदति विकल्पान् प्रतिभटाः ।।

2.

इन्दुः किं क्व कलङ्कः सरसिजमेतत्किमम्बु कुत्र गतम् ।
ललित सविलासवचनैर्मुखमिति हरिणाक्षि! निश्चित परतः ।।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

आ – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘आ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक...Read more !

Colours (Color) name in Hindi (Rango Ke Naam), Sanskrit and English

Colours (Color) name in Hindi, Sanskrit and English In this chapter you will know the names of Colour (Color) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Colours name’s...Read more !

समानाधिकरण तत्पुरुष समास – परिभाषा, उदाहरण, सूत्र, अर्थ – संस्कृत, हिन्दी

समानाधिकरण तत्पुरुष समास की परिभाषा समानाधिकरण तत्पुरुष समास को ‘कर्मधारय समास‘ भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें दोनों पद समान विभक्तिवाले होते हैं। इसमें विशेषण / विशेष्य तथा उपमान /...Read more !

अव्ययीभाव समास – परिभाषा, उदाहरण, सूत्र, अर्थ – संस्कृत, हिन्दी

अव्ययीभाव समास की परिभाषा “अनव्ययम् अव्ययं भवति इत्यव्ययीभावः” – अव्ययीभाव समास में पूर्वपद ‘अव्यय और उत्तरपद अनव्यय होता है; किन्तु समस्तपद अव्यय हो जाता है। इसमें पूर्वपद की प्रधानता होती...Read more !

तत्सम-तद्भव (Tatsam-Tadbhav) शब्द, परिभाषा, पहचानने के नियम और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण

तत्सम-तद्भव: संस्कृत भाषा के कुछ शब्द ऐसे होते हैं जो हिंदी में भी बिना परिवर्तन के प्रयुक्त होते हैं। उन शब्दों को तत्सम शब्द कहते हैं। तद्भव शब्द वे शब्द...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.