सुह्रद् शब्द के रूप – Suhrad Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Suhrad Shabd

सुह्रद् शब्द (दोस्त , friend): दकारांत स्त्रीलिंग शब्द , इस प्रकार के सभी दकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा में शब्द रूप अति महत्व रखते हैं। और धातु रूप (Dhatu Roop) भी बहुत ही आवश्यक होते हैं।

सुह्रद् के शब्द रूप इस प्रकार हैं-

सुह्रद् के शब्द रूप – Suhrad Shabd Roop

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा सुह्रत्/सुह्रद् सुह्रदौ सुह्रदः
द्वितीया सुह्रदम् सुह्रदौ सुह्रदः
तृतीया सुह्रदा सुह्रद्भ्याम् सुह्रद्भिः
चतुर्थी सुह्रदे सुह्रद्भ्याम् सुह्रद्भ्यः
पंचमी सुह्रदः सुह्रद्भ्याम् सुह्रद्भ्यः
षष्ठी सुह्रदः सुह्रदोः सुह्रदाम्
सप्तमी सुह्रदि सुह्रदोः सुह्रत्सु
सम्बोधन हे सुह्रत् ! हे सुह्रदौ ! हे सुह्रदः !

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

महत्वपूर्ण शब्द रूप की Shabd Roop List देखें और साथ में shabd roop yad karane ki trick भी, सभी शब्द रूप संस्कृत में।

Shabd roop of Suhrad -Image

Related Posts

टङ्क शब्द के रूप – Tadak Ke Shabd Roop – Sanskrit

Tadak Shabd टङ्क शब्द: वह जो टंकण-यंत्र से टंकित किया जाए; वाक्य में प्रयोग – शीर्षक को मोटे टंक में टंकित करो । समानार्थी शब्द – टंक , टाइप. टङ्क....Read more !

शरत् शब्द के रूप (Sharat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Sharat Shabd शरत् शब्द (वर्ष, साल- एक ऋतु जो आजकल आश्विन और कार्तिक मास में मानी जाती है।): शरत् शब्द के तकारान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, शरत् (Sharat) शब्द...Read more !

अग्नि शब्द के रूप – Aag, Agni ke roop, Shabd Roop – Sanskrit

Agni Shabd अग्नि शब्द (Fire): इकारान्त पुल्लिंग संज्ञा, सभी इकारान्त पुल्लिंग संज्ञापदों के रूप इसी प्रकार बनाते है। अग्नि के रूप – Shabd Roop विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन प्रथमा अग्निः...Read more !

सानु शब्द के रूप (Sanu Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Sanu Shabd सानु शब्द (पर्वत शिखर or छोर, सिरा, Peak): सानु शब्द के उकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, सानु (Sanu) शब्द के अंत में “उ” की मात्रा का प्रयोग...Read more !

शशिधर शब्द के रूप – Shashidhar Ke Shabd Roop – Sanskrit

Shashidhar Shabd शशिधर शब्द का अर्थ(meaning): ‘शशिधर’ का अर्थ भिन्न है। जो चन्द्रमा को धारण करता है , वह ‘शशिधर’ कहलाता है। इस तरह से ‘शशिधर’ शिव का पर्याय बना;...Read more !