सर्व नपुंसकलिंग शब्द के रूप – Sarv Napunsak Ling Sarvnam Sabd Roop – Sanskrit

सर्व नपुंसकलिंग शब्द के रूप

सर्व नपुंसकलिंग सर्वनाम शब्द (सभी, All, Neuter): नपुंसकलिंग सर्वनाम, सर्वनाम शब्द रूप पांच विभागों में विभक्त है। – १-सर्व्वादि , २- अन्यादि , ३- पूर्वादि , ४- इदमादि और ५- यदादि। सर्वनाम का सम्बोधन नहीं होता है। सर्व, विश्व, उभय, एक, और एकतर इन शब्दों रूप एकसमान ही होते है।।

सर्व नपुंसकलिंग के रूप

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा सर्वम् सर्वे सर्वाणि
द्वितीया सर्वम् सर्वे सर्वाणि
तृतीया सर्वेण सर्वाभ्याम् सर्वै:
चतुर्थी सर्वस्मै सर्वाभ्याम् सर्वेभ्य:
पंचमी सर्वस्मात् सर्वाभ्याम् सर्वेभ्य:
षष्ठी सर्वस्य सर्वयो: सर्वेषाम्
सप्तमी सर्वस्मिन् सर्वयो: सर्वेषु

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

Shabd roop of Sarv Napunsak Ling

Sarv  Napunsak Ling Sarvnam Sabd Roop

Related Posts

पत्र शब्द के रूप – (Patra Ke Roop), Shabd Roop – Sanskrit

Patra Shabd पत्र शब्द (Letter): अकारांत नपुंसकलिंग शब्द , इस प्रकार के सभी अकारांत नपुंसकलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। पत्र जैसे शब्द रूप को...Read more !

फल शब्द के रूप – Fal ke roop – Sanskrit (संस्कृत)

फल शब्द के रूप फल शब्द (Fruit): अकारान्त नपुंसकलिंग , सभी अकारान्त नपुंसकलिंग शब्दों के रूप इसी प्रकार बनाते है। फल के रूप विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन प्रथमा फलम् फले...Read more !

उभय शब्द के रूप (Ubhay Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Ubhay Shabd उभय शब्द (दोनों ओर, दोनों ): उभय शब्द के अकारांत शब्द के शब्द रूप, उभय (Ubhay) शब्द के अंत में “अ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !

तनु/तनू शब्द के रूप – Tanu Ke Shabd Roop – Sanskrit

Tanu Shabd तनु शब्द ( दुबला-पतला): तनु शब्द के उकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, तनु (Tanu) शब्द के अंत में “उ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह उकारान्त...Read more !

जितवत् (जितवान्) शब्द के रूप (Jitavat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Jitavat Shabd जितवत् शब्द (जितवान् ): जितवत् शब्द के तकारांत डवतु प्रत्ययान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, जितवत् (Jitavat) शब्द के अंत में “त्” का प्रयोग हुआ इसलिए यह तकारांत...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.