सर्व नपुंसकलिंग शब्द के रूप – Sarv Napunsak Ling Sarvnam Sabd Roop – Sanskrit

सर्व नपुंसकलिंग शब्द के रूप

सर्व नपुंसकलिंग सर्वनाम शब्द (सभी, All, Neuter): नपुंसकलिंग सर्वनाम, सर्वनाम शब्द रूप पांच विभागों में विभक्त है। – १-सर्व्वादि , २- अन्यादि , ३- पूर्वादि , ४- इदमादि और ५- यदादि। सर्वनाम का सम्बोधन नहीं होता है। सर्व, विश्व, उभय, एक, और एकतर इन शब्दों रूप एकसमान ही होते है।।

सर्व नपुंसकलिंग के रूप

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा सर्वम् सर्वे सर्वाणि
द्वितीया सर्वम् सर्वे सर्वाणि
तृतीया सर्वेण सर्वाभ्याम् सर्वै:
चतुर्थी सर्वस्मै सर्वाभ्याम् सर्वेभ्य:
पंचमी सर्वस्मात् सर्वाभ्याम् सर्वेभ्य:
षष्ठी सर्वस्य सर्वयो: सर्वेषाम्
सप्तमी सर्वस्मिन् सर्वयो: सर्वेषु

अन्य महत्वपूर्ण शब्द रूप

Shabd roop of Sarv Napunsak Ling

Sarv Napunsak Ling Sarvnam Sabd Roop

You may like these posts

विश्वसृज् शब्द के रूप (Vishvasraj Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Vishvasraj Shabd विश्वसृज् शब्द (Rehabilitation, विश्वसृजः): विश्वसृज् शब्द के जकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, विश्वसृज् (vishvasraj) शब्द के अंत में ‘ज्’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह जकारान्त...Read more !

वाच् / वाक् शब्द के रूप – Vaach/Vak Ke Roop – Sanskrit

Vaach Shabd वाच् शब्द (Speech, वाणी): चकारांत स्त्रीलिंग शब्द , इस प्रकार के सभी चकारांत स्त्रीलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण एवं भाषा...Read more !

ऊर्मि शब्द के रूप – Urmi Ke Shabd Roop – Sanskrit

Urmi Shabd ऊर्मि शब्द ( तरंग, हलकी लहर): ऊर्मि शब्द के इकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, ऊर्मि (Urmi) शब्द के अंत में “इ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !