सम्प्रेषण का महत्त्व, सम्प्रेषण की प्रकृति एवं विशेषताएँ

Sampreshan Ka Mahatva

सम्प्रेषण का महत्त्व (Importance of Communication)

सम्प्रेषण प्रशासन का महत्त्वपूर्ण सिद्धान्त है। किसी संगठन का कार्य करने के लिये सम्प्रेषण होना आवश्यक है। यदि संगठन की पूरी जानकारी होगी तो उसमें रुचि होगी और लगाव भी होगा। शोध कार्य से पता चलता है कि संगठन का सफल संचालन तभी होता है जब उसमें काम करने वाले व्यक्ति सहयोग करें।

लोकतन्त्र की यह पहली आवश्यकता है कि जनता प्रशासन से अधिक से अधिक मात्रा में जुड़े। इसलिये व्यापार तथा शासन दोनों क्षेत्रों में उत्तम सम्प्रेषण व्यवस्था होनी चाहिये। आज इसकी आवश्यकता को ध्यान रखते हुए सभी राज्य सरकारों ने सूचना एवं प्रसारण विभाग खोले हैं।

इस प्रकार सम्प्रेषण के महत्त्व के सम्बन्ध में स्पष्ट है कि:-

  1. “संचार या सम्प्रेषण प्रशासनिक संगठन की रक्त धारा है।”
    “Communication is the blood current of administrative organisation.”
  2. मेषफार के अनुसार-“मनुष्य जीवन के सभी पक्षों में सम्प्रेषण की क्रिया एक केन्द्रीय तत्त्व है।”
  3. पिफनर ने संचार को प्रबन्ध का हृदय (Heart of management) बताया है।
Sampreshan Ki Prakriti Evam Visheshtayen

सम्प्रेषण की प्रकृति एवं विशेषताएँ (Nature and Characteristics of Communication)

सम्प्रेषण की प्रकृति एवं विशेषताओं को निम्नलिखित प्रकार से देखा जा सकता है:-

  1. सम्प्रेषण सदैव एक गत्यात्मक (Dynamic) प्रक्रिया होती है।
  2. सम्प्रेषण प्रक्रिया में परस्पर अत:क्रिया तथा पृष्ठपोषण होना आवश्यक होता है।
  3. सम्प्रेषण एक मनोवैज्ञानिक तथा सामाजिक प्रणाली है।
  4. सम्प्रेषण सर्व व्यापक है। बिना सम्प्रेषण के शिक्षण कार्य असम्भव है।
  5. सम्प्रेषण द्विपक्षीय होता है-(1) सन्देश देने वाला। (2) सन्देश प्राप्त कराने वाला।
  6. सम्प्रेषण के लिये सम्प्रेषित तथ्यों, सूचनाओं और विचारों आदि का प्राप्तकर्ता के लिये सार्थक होना आवश्यक है।
  7. सम्प्रेषण में विचारों और भावनाओं का आदान-प्रदान होता है।
  8. सम्प्रेषण एक उद्देश्यपूर्ण प्रक्रिया है जो कम से कम दो व्यक्तियों के मध्य होती है।
  9. सम्प्रेषण में शिष्टता एवं नम्रता का प्रयोग किया जाता है।

सम्प्रेषण से संबंधित अन्य टॉपिक:- सम्प्रेषण की अवधारणा एवं सम्प्रेषण का अर्थ और परिभाषाएँ, सम्प्रेषण का उद्देश्य, सम्प्रेषण के सिद्धांत, सम्प्रेषण की प्रक्रिया, सम्प्रेषण प्रक्रिया के तत्त्व एवं सम्प्रेषण के माध्यम, सम्प्रेषण का महत्त्व, सम्प्रेषण की प्रकृति एवं विशेषताएँ, सम्प्रेषण कौशल, सम्प्रेषण की विधियाँ, शैक्षिक प्रशासन एवं संगठन में सम्प्रेषण, शैक्षिक सम्प्रेषण, सम्प्रेषण एवं विद्यालय, विद्यालय प्रबन्ध में सम्प्रेषण की उपयोगिता, शिक्षण अधिगम में सम्प्रेषण की उपयोगिता, सम्प्रेषण के प्रकार, कक्षाकक्ष में सम्प्रेषण, सम्प्रेषण प्रक्रिया के तरीके, सम्प्रेषण प्रक्रिया को उपयोगी बनाने के उपाय, सम्प्रेषण प्रक्रिया को प्रभावित करने वाले घटक या कारक, सम्प्रेषण की रुकावटें, सम्प्रेषण की बाधाएँ या समस्याएँ, शिक्षण अधिगम में प्रभावशाली सम्प्रेषण

Related Posts

सम्प्रेषण के सिद्धांत (Principles of Communication)

सम्प्रेषण के सिद्धांत कोई भी व्यक्ति अपने विचारों, भावनाओं या किसी सम्प्रत्यय को किसी दूसरे व्यक्ति से व्यक्त करता है। अतः सम्प्रेषण द्विपक्षीय प्रक्रिया (Two way process) है। सम्प्रेषण के...Read more !

सम्प्रेषण कौशल (Communication Skill) – प्रभावशाली बनाने के तरीके

सम्प्रेषण कौशल (Communication Skill) सम्प्रेषण कौशल दो शब्दों से मिलकर बना है- (1) सम्प्रेषण, (2) कौशल। कौशल का अर्थ होता है ‘कुशलता से कार्य करने की योग्यता‘ (Ability to work...Read more !

व्यक्तिगत सम्प्रेषण – अर्थ, गुण, दोष एवं प्रयोग

कक्षा में जो भी क्रियाएँ होती हैं वे सभी सम्प्रेषण में आती हैं तथा शिक्षण का पूर्ण करती है। कक्षा सम्प्रेषण के प्रकारों के लिये शिक्षा में वैयक्तिक शिक्षण के...Read more !

सम्प्रेषण (Communication) – अवधारणा, अर्थ और परिभाषाएँ

सम्प्रेषण शिक्षा की ‘रीढ़ की हड्डी’ है। बिना सम्प्रेषण के अधिगम और शिक्षण नहीं हो सकता है। ‘सम्प्रेषण’ दो शब्दों से मिलकर बना है- सम + प्रेषण, अर्थात् समान रूप...Read more !

सम्प्रेषण की रुकावटें (Obstructions of Communication)

सम्प्रेषण की रुकावटें (Obstructions of Communication) सम्प्रेषण की प्रभावशीलता में सम्प्रेषण परिस्थितियों तथा वातावरण का बहुत महत्त्वपूर्ण हाथ होता है; जैसे– यदि कक्षा में पढ़ाते समय बिजली चली जाती है...Read more !