पाठ्य-पुस्तक प्रविधि – शिक्षण प्रविधि

Pathya Pustak Pravidhi

पाठ्य-पुस्तक प्रविधि (Text Book Technique)

शिक्षण की प्रविधियों में पाठ्य-पुस्तक प्रविधि सबसे अधिक प्रचलित प्रविधि है। अन्य शब्दों में, “यह प्रविधि पाठ्य-पुस्तक को आधार मानती है, जैसे कोई अन्य प्रविधि किसी समस्या या योजना को आधार मानकर चलती है।” इस प्रविधि का प्रयोग भाषाशिक्षण में किया जाता है।

आजकल कुछ विद्वान् इस प्रविधि को ‘तू पढ़ मैं सुनूँ‘ या ‘तू पढ़ प्रविधि‘ के नाम से भी पुकारते हैं जो कि युक्तिसंगत नहीं है बल्कि इसका बिगड़ा हुआ रूप है, क्योंकि विद्यार्थी बारी-बारी से पढ़ते हैं और अध्यापक सुनता है अथवा अध्यापक पढ़ता है तो विद्यार्थी सुनते हैं।

इस प्रकार पुस्तक का प्रयोग करने को ‘पाठ्य-पुस्तक प्रविधि‘ नहीं कहा जा सकता। इसका प्रयोग तो शिक्षण सामग्री के रूप में होता है और शिक्षण-सामग्री का प्रयोग करते समय कौन-कौन सी सावधानियाँ रखनी चाहिये? यह बात अध्यापक को ज्ञात होनी चाहिये, तभी वह इस प्रविधि का प्रयोग कर सकता है।

पाठ्य-पुस्तक प्रविधि के लाभ (Merits of text book technique)

पाठ्य पुस्तक प्रविधि के निम्नलिखित लाभ हैं:-

  1. इस प्रविधि के प्रयोग से हिन्दी की पाठ्यवस्तु, विभिन्न विधाओं, इतिहास तथा शब्दावली आदि का ज्ञान प्राप्त होता है एवं पद्य पाठों को कण्ठस्थ कराया जा सकता है।
  2. इस प्रविधि द्वारा शिक्षक निर्दिष्ट कार्य को पूरा करने में समर्थ होता है।
  3. अध्यापक को विषय-सामग्री सम्बन्धी तैयारी नहीं करनी पड़ती है।
  4. पाठ्य-पुस्तकें विद्यार्थियों को लक्ष्य करके लिखी जाती हैं, अत: विद्यार्थियों के लिये लाभकारी होती हैं।
  5. यदि कोई बात कक्षा में पूर्णरूप से समझ में नहीं आती है तो विद्यार्थी पुस्तक की सहायता से उस बात को समझ सकता है।
  6. यदि छात्र कभी कक्षा में किसी कारणवश अनुपस्थित रह जाता है तो वह उस दिन का कार्य पुस्तक की सहायता से पूर्ण कर सकता है।
  7. पाठ्य-पुस्तकें विभिन्न प्रकार की सामग्री का सुझाव देती हैं।
  8. अध्यापक को पाठ्यक्रम नहीं देखना पड़ता क्योंकि पाठ्य-पुस्तकें पाठ्यक्रम के अनुसार ही लिखी होती हैं।

पाठ्य-पुस्तक प्रविधि के दोष (Demerits of text book technique)

पाठ्य पुस्तक प्रविधि का प्रयोग करने से कुछ हानियाँ होने का भय रहता है अर्थात् इस प्रविधि के कुछ दोष भी हैं, जिनका विवरण निम्नलिखित है:-

इसके अत्यधिक प्रयोग से शिक्षण-प्रक्रिया का उद्देश्य पूरा नहीं होता क्योंकि सम्भव है कि विद्यार्थी अथवा शिक्षक का दृष्टिकोण निश्चित पृष्ठों को पूरा करने तक ही सीमित रहे।

पाठ्य-पुस्तक में भूल रहने की सम्भावना बनी रहती है, जिससे विद्यार्थियों में को उस समय हानि होने का भय रहता है, जबकि अध्यापक उस भूल को सुधारने में सक्षम न हो।

पाठ्य-पुस्तक के प्रयोग से विद्यार्थियों की स्मरण शक्ति का विकास अधिक होता है, जबकि अन्य पक्षों का उतना विकास नहीं हो पाता।

Related Posts

स्त्रोत-सन्दर्भ प्रविधि – अर्थ, सोपान, गुण एवं दोष

स्त्रोत-सन्दर्भ प्रविधि (Source Reference Technique) स्रोत-सन्दर्भ एक प्रभावशाली शिक्षण प्रविधि है। इस प्रविधि का अर्थ स्पष्ट करने से पूर्व यह आवश्यक है कि ‘स्रोत‘ और ‘संदर्भ‘ शब्द का अर्थ समझा...Read more !

कार्यगोष्ठी प्रविधि – कार्य पद, विशेषताएँ – शिक्षण प्रविधि

कार्यगोष्ठी प्रविधि (Work Seminar Technique) कार्यगोष्ठी प्रविधि, वह शिक्षण प्रविधि है जिसमें अध्यापक और छात्र मिलकर विषय की समस्याओं एवं कठिनाइयों का चयन करते हैं तथा प्रत्येक छात्र को उसकी...Read more !

पर्यवेक्षित अध्ययन प्रविधि – शिक्षण प्रविधि

पर्यवेक्षित अध्ययन प्रविधि का जन्म अमेरिका महान शिक्षाविद मॉरिसन द्वारा किया गया। इसको निरीक्षित, निरीक्षण, परिवीक्षित, समाजीकृत, अभिव्यक्ति विधि, पारिपाक विधि, उपचारी विधि, पर्यवेक्षण आदि नामों से भी जाना जाता...Read more !

प्रश्नोत्तर प्रविधि – गुण एवं दोष, सोक्रेटिक मेथड

प्रश्नोत्तर प्रविधि (Question-Answer Technique) प्रश्नोत्तर प्रविधि शिक्षण क्षेत्र में अपना महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है। इस शिक्षण प्रविधि के जन्मदाता प्रसिद्ध विद्वान् सुकरात (Socrates) थे। अत: इस प्रविधि को सोकरेटिक मेथड...Read more !

वार्तालाप/विचार-विनिमय/वाद-विवाद प्रविधि – शिक्षण प्रविधि

वार्तालाप/विचार-विनिमय/वाद-विवाद प्रविधि Conversation or Discussion Technique विचार-विनिमय प्रविधि को वाद-विवाद प्रविधि भी कहा जाता है। आजकल छात्र को एकमात्र निष्क्रिय श्रोता नहीं माना जाता, वरन् उससे यह आशा की जाती...Read more !