मॉण्टेसरी प्रविधि (Montessori Technique) – शिक्षण प्रविधि

Montessori Shikshan Pravidhi

मॉण्टेसरी प्रविधि (Montessori Technique)

मॉण्टेसरी पद्धति की प्रवर्तिका इटली की महिला डॉ. मॉण्टेसरी हैं। उन्होंने मनोवैज्ञानिक प्रशिक्षण को शिक्षा में बड़ा महत्त्व दिया है। उनके मतानुसार छात्र स्वेच्छा से उठे-बैलें,खेले एवं कार्य करें। उसे आदेश देना अथवा बन्धित करना उपयुक्त नहीं है। उन्होंने ज्ञानेन्द्रियों की शिक्षा पर भी बल दिया है।

मॉण्टेसरी का पाठशाला कार्यक्रम निम्नलिखित तीन वर्गों में विभाजित होता है:-

  1. व्यावहारिक जीवन की क्रियाएँ,
  2. ज्ञानेन्द्रियों की शिक्षा,
  3. प्रारम्भिक पाठ्य-विषय।

डॉ. मॉण्टेसरी ने लिखने की शिक्षा को पढ़ने के पूर्व उपयुक्त माना है। उनके अनुसार लिखने की क्रिया शारीरिक तथा पढ़ने की क्रिया मानसिक है। अत: छात्र को लेखनी पकड़ने, अक्षरों का स्वरूप जानने एवं अक्षरों का ध्वन्यात्मक विश्लेषण करने का क्रमशः अभ्यास मिलना चाहिये।

इसके लिये उन्होंने कागज पर आकृतियों का निर्माण, रेगमाल के कटे शब्दों पर अँगुलियों को फेरना तथा अँगुलियों को फेरते समय ध्वनि उच्चारण की क्रियाओं पर बल दिया है।

शब्दोच्चारण को उन्होंने श्यामपट्ट पर लिखे भागों को पढ़कर सीखने योग्य माना है तथा कार्ड्स पर दिये गये निर्देशों को छात्र मानते हैं तथा अपना कार्य करते हैं।

You may like these posts

शिक्षण की युक्तियाँ तथा प्रविधियाँ – शिक्षा शास्त्र

शिक्षण की प्रविधियों तथा युक्तियों की भूमिका Introduction to the Devices and Techniques of Teaching शिक्षण एक गतिशील तथा सुनियोजित प्रक्रिया है। शिक्षण का उद्देश्य है कि विद्यार्थी अधिक से...Read more !

कार्यगोष्ठी प्रविधि – कार्य पद, विशेषताएँ – शिक्षण प्रविधि

कार्यगोष्ठी प्रविधि (Work Seminar Technique) कार्यगोष्ठी प्रविधि, वह शिक्षण प्रविधि है जिसमें अध्यापक और छात्र मिलकर विषय की समस्याओं एवं कठिनाइयों का चयन करते हैं तथा प्रत्येक छात्र को उसकी...Read more !

डाल्टन प्रविधि या प्रयोगशाला योजना – शिक्षण प्रविधि

डाल्टन प्रविधि (Dalton Technique) डाल्टन प्रविधि अथवा प्रयोगशाला योजना का प्रवर्तन अमेरिका की मिस पार्क हर्स्ट के द्वारा किया गया। इस शिक्षण प्रविधि में विद्यालय का संगठन बहुत महत्त्वपूर्ण होता...Read more !