मॉण्टेसरी प्रविधि (Montessori Technique) – शिक्षण प्रविधि

Montessori Shikshan Pravidhi

मॉण्टेसरी प्रविधि (Montessori Technique)

मॉण्टेसरी पद्धति की प्रवर्तिका इटली की महिला डॉ. मॉण्टेसरी हैं। उन्होंने मनोवैज्ञानिक प्रशिक्षण को शिक्षा में बड़ा महत्त्व दिया है। उनके मतानुसार छात्र स्वेच्छा से उठे-बैलें,खेले एवं कार्य करें। उसे आदेश देना अथवा बन्धित करना उपयुक्त नहीं है। उन्होंने ज्ञानेन्द्रियों की शिक्षा पर भी बल दिया है।

मॉण्टेसरी का पाठशाला कार्यक्रम निम्नलिखित तीन वर्गों में विभाजित होता है:-

  1. व्यावहारिक जीवन की क्रियाएँ,
  2. ज्ञानेन्द्रियों की शिक्षा,
  3. प्रारम्भिक पाठ्य-विषय।

डॉ. मॉण्टेसरी ने लिखने की शिक्षा को पढ़ने के पूर्व उपयुक्त माना है। उनके अनुसार लिखने की क्रिया शारीरिक तथा पढ़ने की क्रिया मानसिक है। अत: छात्र को लेखनी पकड़ने, अक्षरों का स्वरूप जानने एवं अक्षरों का ध्वन्यात्मक विश्लेषण करने का क्रमशः अभ्यास मिलना चाहिये।

इसके लिये उन्होंने कागज पर आकृतियों का निर्माण, रेगमाल के कटे शब्दों पर अँगुलियों को फेरना तथा अँगुलियों को फेरते समय ध्वनि उच्चारण की क्रियाओं पर बल दिया है।

शब्दोच्चारण को उन्होंने श्यामपट्ट पर लिखे भागों को पढ़कर सीखने योग्य माना है तथा कार्ड्स पर दिये गये निर्देशों को छात्र मानते हैं तथा अपना कार्य करते हैं।

Related Posts

पाठ्य-पुस्तक प्रविधि – शिक्षण प्रविधि

पाठ्य-पुस्तक प्रविधि (Text Book Technique) शिक्षण की प्रविधियों में पाठ्य-पुस्तक प्रविधि सबसे अधिक प्रचलित प्रविधि है। अन्य शब्दों में, “यह प्रविधि पाठ्य-पुस्तक को आधार मानती है, जैसे कोई अन्य प्रविधि...Read more !

प्रश्नोत्तर प्रविधि – गुण एवं दोष, सोक्रेटिक मेथड

प्रश्नोत्तर प्रविधि (Question-Answer Technique) प्रश्नोत्तर प्रविधि शिक्षण क्षेत्र में अपना महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है। इस शिक्षण प्रविधि के जन्मदाता प्रसिद्ध विद्वान् सुकरात (Socrates) थे। अत: इस प्रविधि को सोकरेटिक मेथड...Read more !

दलीय शिक्षण प्रविधि – उद्देश्य, परिभाषाएँ, पक्ष, भेद, सोपान, लाभ एवं सुझाव

दलीय शिक्षण प्रविधि (Group Teaching Technique) दलीय शिक्षण प्रविधि का जन्म संयुक्त राज्य अमेरिका में हुआ और यद्यपि यह भारत के लिये नयी तकनीक है, लेकिन अमेरिका में इस तकनीक...Read more !

स्त्रोत-सन्दर्भ प्रविधि – अर्थ, सोपान, गुण एवं दोष

स्त्रोत-सन्दर्भ प्रविधि (Source Reference Technique) स्रोत-सन्दर्भ एक प्रभावशाली शिक्षण प्रविधि है। इस प्रविधि का अर्थ स्पष्ट करने से पूर्व यह आवश्यक है कि ‘स्रोत‘ और ‘संदर्भ‘ शब्द का अर्थ समझा...Read more !

अनुसन्धान या ह्यूरिस्टिक प्रविधि – गुण एवं दोष

अनुसन्धान या ह्यूरिस्टिक प्रविधि (Heuristic Technique) आर्मस्ट्रांग इस शिक्षण प्रविधि के जन्मदाता थे। यह प्रविधि स्वयं खोज करने या स्वयं सीखने की प्रविधि है। इसमें बालक को स्वयं तथ्यों का...Read more !