बालोद्यान शिक्षण प्रविधि – विशेषताएँ, साधन

Balodhan Shikshan Pravidhi

बालोद्यान शिक्षण प्रविधि (Child Garden Teaching Technique)

बालोद्यान शिक्षण प्रविधि के जन्मदाता जर्मनी के प्रसिद्ध शिक्षाशास्त्री फ्रॉबेल हैं। इन्होंने पाठशाला को एक उद्यान की संज्ञा दी है। इनके अनुसार, “जिस प्रकार पौधे के विकास के लिये खाद, पानी और उपयुक्त वातावरण की आवश्यकता होती है और इन्हें पाकर पौधे में स्वयं विकास होता है, उसी प्रकार छात्र भी उपयुक्त संरक्षण एवं सुविधाओं में विकसित होता है।

फ्रॉबेल ने शिक्षण पद्धति में खेल को महत्त्वपूर्ण स्थान दिया है। इस पद्धति की अग्रलिखित विशेषताएँ हैं-

  1. स्वतन्त्रता,
  2. आत्म-क्रिया,
  3. सहज क्रियात्मकता,
  4. मनोरंजन।

छात्र खेलों या उपहारों से अक्षरों का बनाना और लिखना सरलता से सीख जाते हैं। नयी-नयी वस्तुओं के नाम एवं आकार की जानकारी इन्हें हो जाती है।

फ्रॉबेल ने अपनी शिक्षा पद्धति में दो अन्य साधनों का उपयोग और किया है, जो इस प्रकार हैं-

  1. गीत, कथा तथा
  2. कहानी या अभिनय हैं।

उपहारों के आदान-प्रदान के समय लययुक्त पद्यों का गान होता है, जिससे छात्रों को भाषा का मौखिक ज्ञान हो जाता है। छात्रों को शुद्ध उच्चारण का अभ्यास तथा कविता पाठ का अभ्यास हो जाता है।

छात्रों को कथा एवं कहानी सुनायी जाती है तथा उनका मनोरंजन किया जाता है इससे उनमें कल्पना शक्ति का विकास होता है और शब्द भण्डार की वृद्धि होती है। इस पद्धति से छात्रों को खेल का आनन्द अवश्य मिलता है और वे हँसते-हँसते कठिन प्रकरणों को जान जाते हैं परन्तु इसमें समय बहुत लगता है।

Related Posts

कार्यगोष्ठी प्रविधि – कार्य पद, विशेषताएँ – शिक्षण प्रविधि

कार्यगोष्ठी प्रविधि (Work Seminar Technique) कार्यगोष्ठी प्रविधि, वह शिक्षण प्रविधि है जिसमें अध्यापक और छात्र मिलकर विषय की समस्याओं एवं कठिनाइयों का चयन करते हैं तथा प्रत्येक छात्र को उसकी...Read more !

वार्तालाप/विचार-विनिमय/वाद-विवाद प्रविधि – शिक्षण प्रविधि

वार्तालाप/विचार-विनिमय/वाद-विवाद प्रविधि Conversation or Discussion Technique विचार-विनिमय प्रविधि को वाद-विवाद प्रविधि भी कहा जाता है। आजकल छात्र को एकमात्र निष्क्रिय श्रोता नहीं माना जाता, वरन् उससे यह आशा की जाती...Read more !

आगमन प्रविधि, निगमन प्रविधि – गुण एवं दोष

आगमन प्रविधि (Inductive Technique) आगमन प्रविधि में छात्र विशिष्ट से सामान्य (Specific to general) की ओर अग्रसर होते हैं। छात्र के सामने सर्वप्रथम अनेक उदाहरण रखे जाते हैं और फिर...Read more !

दलीय शिक्षण प्रविधि – उद्देश्य, परिभाषाएँ, पक्ष, भेद, सोपान, लाभ एवं सुझाव

दलीय शिक्षण प्रविधि (Group Teaching Technique) दलीय शिक्षण प्रविधि का जन्म संयुक्त राज्य अमेरिका में हुआ और यद्यपि यह भारत के लिये नयी तकनीक है, लेकिन अमेरिका में इस तकनीक...Read more !

प्रश्नोत्तर प्रविधि – गुण एवं दोष, सोक्रेटिक मेथड

प्रश्नोत्तर प्रविधि (Question-Answer Technique) प्रश्नोत्तर प्रविधि शिक्षण क्षेत्र में अपना महत्त्वपूर्ण स्थान रखती है। इस शिक्षण प्रविधि के जन्मदाता प्रसिद्ध विद्वान् सुकरात (Socrates) थे। अत: इस प्रविधि को सोकरेटिक मेथड...Read more !