नापित शब्द के रूप (Naapit Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Naapit Shabd

नापित शब्द (नाई, नाऊ, हज्जाम): नापित शब्द के अकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, नापित (Naapit) शब्द के अंत में “अ” का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारान्त हैं। अतः Naapit Shabd के Shabd Roop की तरह नापित जैसे सभी अकारान्त पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। नापित शब्द के शब्द रूप संस्कृत में सभी विभक्तियों एवं तीनों वचन में शब्द रूप (Naapit Shabd Roop) नीचे दिये गये हैं।

नापित के शब्द रूप – Shabd roop of Naapit

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा नापितः नापितौ नापिताः
द्वितीया नापितम् नापितौ नापितान्
तृतीया नापितेण नापिताभ्याम् नापितैः
चतुर्थी नापिताय नापिताभ्याम् नापितेभ्यः
पंचमी नापितात् नापिताभ्याम् नापितेभ्यः
षष्ठी नापितस्य नापितयोः नापिताणाम्
सप्तमी नापिते नापितयोः नापितेषु
सम्बोधन हे नापित ! हे नापितौ ! हे नापिताः !

नापित शब्द का अर्थ/मतलब

नापित शब्द का अर्थ नाई, नाऊ, हज्जाम होता है। नापित शब्द अकारान्त शब्द है इसका मतलब भी ‘नाई, नाऊ, हज्जाम’ होता है। नापित संज्ञा पुं॰ [सं॰] वह जो सिर के बाल मुँड़ने (या काटने), और नाखुन आदि काटने का काम करता हो । नाई । नाऊ । हज्जाम । विशेष—धर्मशास्त्र में नापित की गणना अच्छे शुद्रों में है । स्मृतियों में नापित संकर जाति के अंतर्गत माने गए हैं । पराशर स्मृति में लिखा है कि शुद्रा के गर्भ से ब्राह्मण द्धारा उत्पन्न संतान का यदि ब्राह्मण द्धारा संस्कार न हुआ हो तो वह नापित कहलाता है । पर परशुराम के अनुसार कुबेरी पुरुष और पट्टिकारी स्त्री के संयोग से नापितों की उत्पत्ति हुई । मनु ने नापितों की गिनती भोज्यान्न शुद्रों में की है । पर्या॰—क्षुरी । मुंडी । दिवाकीर्ति । अंत्यावसायी । सुत्री । नखकुट्ट । ग्रामीणी । चंद्रिल । भांडपुट ।

नापित जैसे और महत्वपूर्ण शब्द रूप

उपर्युक्त शब्द रूप नापित शब्द के अकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप हैं नापित जैसे शब्द रूप (Naapit shabd Roop) देखने के लिए Shabd Roop List पर जाएँ।

संस्कृत में धातु रूप देखने के लिए Dhatu Roop पर क्लिक करें और नाम धातु रूप देखने के लिए Nam Dhatu Roop पर जायें।

Related Posts

अस्मद् (मैं, हम लोग) शब्द के रूप – Main, Asmad Ke Roop – Sanskrit

अस्मद् शब्द अस्मद् शब्द (I, मैं, हम लोग): अस्मद् सर्वनाम, अस्मद् सर्वनाम के तीनों लिंगो में रूप एकसमान होते हैं। इदमादि – इदम् , अस्मद् , युष्मद् , अदस् शब्दो...Read more !

पति शब्द के रूप – Pati Ke Roop – Sanskrit (संस्कृत)

पति शब्द के रूप पति शब्द (स्वामी): इकारांत पुल्लिंग संज्ञा, सभी इकारांत पुल्लिंग संज्ञापदों के रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे – कवि, हरि, ऋषि, यति, विधि, जलधि, गिरि, रवि,...Read more !

प्रीति शब्द के रूप (Preeti Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Preeti Shabd प्रीति शब्द (Love, प्यार, प्रेम, प्रीति, मुहब्बत, प्रणय, चाह): प्रीति शब्द के इकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, प्रीति (Preeti) शब्द के अंत में “इ” की मात्रा का...Read more !

भृस्ज् शब्द के रूप (Bhrasj Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Bhrasj Shabd भृस्ज् शब्द (भृट, भृड): भृस्ज् शब्द के जकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, भृस्ज् (Bhrasj) शब्द के अंत में ‘ज्’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह जकारान्त...Read more !

अन्ध शब्द के रूप – Andh Ke Shabd Roop – Sanskrit

अन्ध शब्द (अंधेरा, अंधा, अज्ञानी, एक दुर्जन व्यक्ति): अन्ध शब्द के अकारान्त पुल्लिङ्ग् शब्द के शब्द रूप, अन्ध (Andh) शब्द के अंत में “अ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !