पर शब्द के रूप (Par Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Par Shabd

पर शब्द (दूसरा, अन्य): पर शब्द के अकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, पर (Par) शब्द के अंत में “अ” का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारान्त हैं। अतः Par Shabd के Shabd Roop की तरह पर जैसे सभी अकारान्त पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। पर शब्द के शब्द रूप संस्कृत में सभी विभक्तियों एवं तीनों वचन में शब्द रूप (Par Shabd Roop) नीचे दिये गये हैं।

पर के शब्द रूप – Shabd roop of Par

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा परः परौ परे, पराः
द्वितीया परम् परौ परान्
तृतीया परेन पराभ्याम् परैः
चतुर्थी परस्मै पराभ्याम् परेभ्यः
पंचमी परस्मात् पराभ्याम् परेभ्यः
षष्ठी परस्य परयोः परेषाम्
सप्तमी परस्मिन् परयोः परेषु
सम्बोधन हे पर ! हे परौ ! हे परे, पराः !

पर शब्द का अर्थ/मतलब

पर शब्द का अर्थ दूसरा, अन्य, और, अपने को छोड़ शेष, स्वातिरिक्त, गैर, परलोक; पराया, दूसरे का, जो अपना न हो, जैसे- पर द्रव्य, पर पुरुष, पर पीड़ा; भिन्न, जुदा, अतिरिक्त; पीछे का, उत्तर, बाद का, जैसे, पूर्व और पर; जो सीमा के बाहर हो, यौ॰—परब्रह्म; आगे बढ़ा हुआ, सबके ऊपर, श्रेष्ठ; प्रवृत्त, लीन, तत्पर, जैसे- स्वार्थपर (केवल समास में) होता है। पर शब्द अकारान्त शब्द है इसका मतलब भी ‘दूसरा, अन्य’ होता है।

पर जैसे और महत्वपूर्ण शब्द रूप

उपर्युक्त शब्द रूप पर शब्द के अकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप हैं पर जैसे शब्द रूप (Par shabd Roop) देखने के लिए Shabd Roop List पर जाएँ।
#BBD0E0
»

Related Posts

दक्षिण शब्द के रूप (Dakshin Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Dakshin Shabd दक्षिण शब्द (South, एक दिशा है): दक्षिण शब्द के अकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, दक्षिण (Dakshin) शब्द के अंत में “अ” का प्रयोग हुआ इसलिए यह अकारान्त...Read more !

लोक शब्द के रूप – Lok Ke Roop – संस्कृत

लोक शब्द लोक शब्द : अकारांत पुल्लिंग संज्ञा , सभी पुल्लिंग संज्ञाओ के रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे -देव, बालक, राम, वृक्ष, सूर्य, सुर, असुर, मानव, अश्व, गज, ब्राह्मण, क्षत्रिय,...Read more !

मरिचि शब्द के रूप – Marichi Ke Shabd Roop – Sanskrit

Marichi Shabd मरिचि शब्द (महाभारत के अनुसार सात ऋषियों में से एक नाम -मरिचि, अत्रि, अंगिरा, पुलह, क्रतु, पुलस्त्य और वसिष्ठ): मरिचि शब्द के इकारांत पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप,...Read more !

दातृ शब्द के रूप – Datra ke roop – Sanskrit (संस्कृत)

दातृ शब्द के रूप दातृ शब्द (दाता / दानी): ऋकारांत पुलिंग संज्ञा, सभी ऋकारांत पुलिंग संज्ञापदों के रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे – धातृ, ज्ञातृ, नेतृ , जेतृ, होतृ,...Read more !

जाग्रत् शब्द के रूप (Jagrat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Jagrat Shabd जाग्रत् शब्द (जो जागता हो, सजग, सावधान): जाग्रत् शब्द के तकारान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, जाग्रत् (Jagrat) शब्द के अंत में ‘त’ की मात्रा का प्रयोग हुआ...Read more !