अनुप्रास अलंकार – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण – hindi, sanskrit

 anupras alankar

अनुप्रास अलंकार

अनुप्रास शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – अनु + प्रास।
यहाँ पर अनु का अर्थ है- बार -बार और प्रास का अर्थ होता है – वर्ण। जब किसी वर्ण की बार – बार आवर्ती हो तब जो चमत्कार होता है उसे अनुप्रास अलंकार कहते है। यह अलंकार शब्दालंकार के 6 भेदों में से एक हैं।

अनुप्रास अलंकार की परिभाषा

अनुप्रास अलंकार में किसी एक व्यंजन वर्ण की आवृत्ति होती है। आवृत्ति का अर्थ है दुहराना जैसे– ‘तरनि-तनूजा तट तमाल तरूवर बहु छाये।” उपर्युक्त उदाहरणों में ‘त’ वर्ण की लगातार आवृत्ति है, इस कारण से इसमें अनुप्रास अलंकार है।

अनुप्रास अलंकार का उदाहरण

जन रंजन मंजन दनुज मनुज रूप सुर भूप।
विश्व बदर इव धृत उदर जोवत सोवत सूप।।

अनुप्रास अलंकार के अन्य उदाहरण

उदाहरण 1.

लाली मेरे लाल की जित देखौं तित लाल।

उदाहरण 2.

विमलवाणी ने वीणा ली कमल कोमल कर में सप्रीत।

उदाहरण 3.

प्रतिभट कटक कटीले केते काटि-काटि कालिका-सी किलकि कलेऊ देत काल को।

उदाहरण 4.

सेस महेस दिनेस सुरेसहु जाहि निरंतर गावै।

उदाहरण 5.

बंदऊँ गुरुपद पदुम परागा।
सुरुचि सुवास सरस अनुरागा।

उदाहरण 6.

मुदित महीपति मंदिर आए।
सेवक सचिव सुमंत बुलाए।

उदाहरण 7.

चारु चंद्र की चंचल किरणें, खेल रही हैं जल-थल में।

उदाहरण 8.

प्रसाद के काव्य-कानन की काकली कहकहे लगाती नजर आती है।

उदाहरण 9.

लाली देखन मैं गई मैं भी हो गई लाल।।

उदाहरण 10.

संसार की समर स्थली में धीरता धारण करो।

उदाहरण 11.

जे न मित्र दुख होहिं दुखारी, तिन्हहि विलोकत पातक भारी।
निज दुख गिरि सम रज करि जाना, मित्रक दुख रज मेरु समाना।।


अनुप्रासालंकारः (संस्कृत)

वर्णसाम्यमनुप्रासः । स्वरवैसादृश्येऽपिव्यंजनदृशत्वं वर्णसाम्यम् । रसायनुगतः प्रकृष्टो न्यासोऽनुप्रासः । इस अलंकार में किसी व्यंजन वर्ण की आवृत्ति होती है। ‘आवृत्ति का मतलब
है—दुहराना । अर्थात् जब किसी वाक्य में कोई खास व्यंजन वर्ण या पद अथवा वाक्यांश लगातार आकर उसके सौंदर्य को बढ़ा दे, तब वहाँ ‘अनुप्रास अलंकार’ होता है।

उदाहरणस्वरूपः

1.

ततोऽरुणपरिस्पन्दमन्दीकृतवपुः शशी ।
दधे कामपरिक्षामकामिनीगण्डपाण्डुताम् ।। ।

2.

अपसारय घनसारं कुरु हारं दूर एवं किं कमलैः ।
अलमलमानि! मृणालैरिति वदति दिवानिशंबात्य ।।

3.

यस्य न सविधै दयिता दवदहनस्तुहिनदीधितिस्तस्य।
यस्य च सविधे दयिता दवदहनस्तुहिनदीधितिस्तस्य ।।

अनुप्रास अलंकार के भेद

  1. छेकानुप्रास अलंकार
  2. वृत्यानुप्रास अलंकार
  3. लाटानुप्रास अलंकार
  4. अन्त्यानुप्रास अलंकार
  5. श्रुत्यानुप्रास अलंकार

सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

संस्कृत अलंकार – Alankar in Sanskrit, काव्य सौंदर्य, संस्कृत व्याकरण

‘अलंकार शब्द’ ‘अलम्’ और ‘कार’ के योग से बना है, जिसका अर्थ होता है- आभूषण या विभूषित करनेवाला । शब्द और अर्थ दोनों ही काव्य के शरीर माने जाते हैं...Read more !

UPTET 2019 Sanskrit New Syllabus , Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test

UPTET 2019 Sanskrit Syllabus UPTET उत्तर प्रदेश शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित कराई जाने वाली एक राज्य स्तरीय परीक्षा है। जिसकी पाठ्यवस्तु मे संस्कृत भी एक विषय होता है। अधिकतर अभ्यर्थी संस्कृत...Read more !

स्वर संधि – अच् संधि, परिभाषा, उदाहरण, प्रकार और नियम – Swar Sandhi, Sanskrit Vyakaran

स्वर संधि (अच् संधि) दो स्वरों के मेल से होने वाले विकार (परिवर्तन) को स्वर-संधि कहते हैं। स्वर संधि को अच् संधि भी कहते हैं। उदाहरण – हिम+आलय= हिमालय, अत्र...Read more !

लकार – संस्कृत की लकारें, प्रकार or भेद – संस्कृत में सभी लकार

लकार संस्कृत भाषा में दस लकारें होती हैं – लट् लकार (Present Tense), लोट् लकार (Imperative Mood), लङ्ग् लकार (Past Tense), विधिलिङ्ग् लकार (Potential Mood), लुट् लकार (First Future Tense...Read more !

व्यंजन संधि – हल् संधि, परिभाषा, उदाहरण, प्रकार और नियम – Vyanjan Sandhi, Sanskrit Vyakaran

व्यंजन संधि (हल् संधि) व्यंजन का स्वर या व्यंजन के साथ मेल होने पर जो परिवर्तन होता है , उसे व्यंजन संधि कहते है। व्यंजन संधि को हल् संधि भी...Read more !