विभावना अलंकार – Vibhavana Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

Vibhavana Alankar
Vibhavana Alankar

विभावना अलंकार

परिभाषा – जहाँ पर कारण के न होते हुए भी कार्य का हुआ जाना पाया जाए वहाँ पर विभावना अलंकार होता है। अर्थात हेतु क्रिया (कारण) का निषेध होने पर भी फल की उत्पत्ति विभावनालंकार है।

यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों में से एक हैं।

विभावना अलंकार के उदाहरण

बिनु पग चलै सुनै बिनु काना।
कर बिनु कर्म करै विधि नाना।
आनन रहित सकल रस भोगी।
बिनु वाणी वक्ता बड़ जोगी।

विभावनालंकारः, संस्कृत

“क्रियायाः प्रतिषेधेऽपि फलव्यक्तिर्विभावना।
हेतुरूप क्रियाया निषेधेऽपि तत्फलप्रकाशनं विभावना।”

हेतु क्रिया (कारण) का निषेध होने पर भी फल की उत्पत्ति विभावनालंकार है।

उदाहरणस्वरूप:

कसमितलताभिरहताऽप्यधत रुजमलिकलैग्दष्टापि।
परिवर्तते स्म नलिनीलहरीभिरलोलिताप्यघूर्णतसा ।

स्पष्टीकरण– यहाँ लताओं की चोट पीड़ा का हेतु हो सकती थी, भौरे का काटना तड़पने और कमलिनी की लहरों के चक्कर में फंसना चक्कर आने का कारण हो सकता था; परंतु उन कारणों का निषेध करने पर भी कार्य का प्रकाशन किया गया है।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

You may like these posts

संदिग्ध वर्तमान काल – परिभाषा, वाक्य और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण

संदिग्ध वर्तमानकाल हिन्दी में – Hindi में Kaal के तीन भेद या प्रकार ‘भूतकाल, वर्तमान काल और भविष्य काल‘ आदि होते है। और वर्तमान काल को पुनः छः भेदों में...Read more !

संस्कृत में गिनती – Sanskrit mein 1 se 100 tak Ginti – Sanskrit Counting

संस्कृत गिनती: संस्कृत में 1 से 100 तक की गिनती इस प्रष्ठ में दी हुई है। जिसे आप आसानी से एक से सौ के बाद एक लाख तक बढ़ा सकते...Read more !

प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम् – Prakriti Bhava Sandhi, Sanskrit Vyakaran

प्रकृति भाव संधि प्रकृति भाव संधि का सूत्र ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम् होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है।...Read more !