विभावना अलंकार – Vibhavana Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

विभावना अलंकार - Vibhavana Alankar

विभावना अलंकार

परिभाषा – जहाँ पर कारण के न होते हुए भी कार्य का हुआ जाना पाया जाए वहाँ पर विभावना अलंकार होता है। अर्थात हेतु क्रिया (कारण) का निषेध होने पर भी फल की उत्पत्ति विभावनालंकार है।
यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों में से एक हैं।

विभावना अलंकार के उदाहरण

बिनु पग चलै सुनै बिनु काना।
कर बिनु कर्म करै विधि नाना।
आनन रहित सकल रस भोगी।
बिनु वाणी वक्ता बड़ जोगी।

विभावनालंकारः संस्कृत

“क्रियायाः प्रतिषेधेऽपि फलव्यक्तिर्विभावना।
हेतुरूप क्रियाया निषेधेऽपि तत्फलप्रकाशनं विभावना।”
हेतु क्रिया (कारण) का निषेध होने पर भी फल की उत्पत्ति विभावनालंकार है।

उदाहरणस्वरूप :

कसमितलताभिरहताऽप्यधत रुजमलिकलैग्दष्टापि।
परिवर्तते स्म नलिनीलहरीभिरलोलिताप्यघूर्णतसा ।

स्पष्टीकरण– यहाँ लताओं की चोट पीड़ा का हेतु हो सकती थी, भौरे का काटना तड़पने और
कमलिनी की लहरों के चक्कर में फंसना चक्कर आने का कारण हो सकता था; परंतु
उन कारणों का निषेध करने पर भी कार्य का प्रकाशन किया गया है।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

इ और ई – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘इ और ई’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द...Read more !

अधिकरण कारक (में, पर) – सप्तमी विभक्ति – संस्कृत, हिंदी

अधिकरण कारक जिस शब्द से क्रिया के आधार का बोध हो, उसे अधिकरण कारक कहते हैं। अथवा – शब्द के जिस रूप से क्रिया के आधार का बोध होता है...Read more !

Samanarthi Shabd – युग्म शब्द, समोच्चरित भिन्नार्थक शब्द, Shabd Yugm

समानार्थी शब्द वे शब्द जिनका अर्थ एक समान होता हैं, पर्यायवाची शब्द या समानार्थी शब्द कहलाते हैं। ‘पर्याय’ का अर्थ है ‘समान’ तथा ‘वाची’ का अर्थ है ‘बोले जाने वाले’ अर्थात जिन...Read more !

समास प्रकरण – संस्कृत व्याकरण – Samas in Sanskrit

समास-प्रकरण “अमसनम् अनेकेषां पदानाम् एकपदीभवनं समासः ।” – जब अनेक पद अपने जोड़नेवाले विभक्ति-चिह्नादि को छोड़कर परस्पर मिलकर एक पद बन जाते हैं, तो उस एक पद बनने की क्रिया...Read more !

पद (Pad Parichay) – Phrases – पद क्या होता है ?

पद परिचय वाक्य में प्रयुक्त शब्द को पद कहा जाता है वाक्य में प्रयुक्त शब्दों में संज्ञा , सर्वनाम , विशेषण , क्रिया विशेषण , संबंधबोधक आदि अनेक शब्द होते...Read more !