विराम चिन्ह – परिभाषा, प्रकार, उदाहरण और उनका प्रयोग – Viram Chinh in Hindi

Viram Chinh (Viraam Chinh)

विराम चिन्ह (punctuation mark) हिन्दी व्याकरण का महत्वपूर्ण भाग है जिसका अर्थ है ठहराव, विश्राम, रुकना। यदि लिखते Viram चिन्हों का सही से प्रयोग ना किया जाए तो कभी-कभी अर्थ का अनर्थ हो जाता है। इसीलिए इस पोस्ट Viram Chinh In Hindi में viram chinh के प्रयोग, परिभाषा, प्रकार, उदाहरण के बारे में विस्तार से सीखेंगे।

This Post Contains:
  1. विराम चिन्ह किसे कहते हैं?
  2. विराम चिन्ह की परिभाषा
  3. विराम चिन्ह के उदाहरण
  4. विराम चिन्ह का प्रयोग
  5. विराम चिह्न के प्रकार
    1. अल्प विराम (Comma) ( , )
    2. अर्द्ध विराम (Semi colon) ( ; )
    3. पूर्ण विराम (Full-Stop) ( )
    4. उप विराम (Colon) [ : ]
    5. विस्मयादिबोधक चिह्न (Sign of Interjection) ( ! )
    6. प्रश्नवाचक चिह्न (Question mark) ( ? )
    7. कोष्ठक (Bracket) ( ( ) )
    8. योजक चिह्न (Hyphen) ( )
    9. अवतरण चिह्न या उद्धरण चिह्न (Inverted Comma) ( ) या ( )
    10. लाघव चिह्न/ संक्षेपसूचक (Abbreviation sign) ( o )
    11. विवरण चिन्ह/ आदेश चिह्न (Sign of following) ( :- )
    12. रेखांकन चिह्न (Underline) ( _ )
    13. लोप चिह्न/ पदलोप चिन्ह (Mark of Omission)( )
    14. पुनरुक्ति सूचक चिन्ह (Repeat Pointer Symbol) ( ,, )
    15. विस्मरण चिन्ह/ त्रुटिपूरक चिन्ह/ हंसपद (Oblivion Sign) ( ^ )
    16. अवग्रह/ दीर्घ उच्चारण चिन्ह (Long Pronunciation Sign) (  )
    17. तुल्यता सूचक चिन्ह (Equal Sign) ( = )
    18. निर्देशक चिन्ह (Dash Sign) ( )
  6. Practice Worksheet
  7. MCQs
  8. FAQs

विराम चिन्ह किसे कहते हैं?

विराम चिन्ह : विराम का अर्थ है ‘रुकना’ या ‘ठहरना’, अर्थात वाक्य को लिखते अथवा बोलते समय बीच में कहीं थोड़ा-बहुत रुकना पड़ता है जिससे भाषा स्पष्ट, अर्थवान एवं भावपूर्ण हो जाती है। लिखित भाषा में इस ठहराव को दिखाने के लिए कुछ विशेष प्रकार के चिह्नों का प्रयोग करते हैं। इन्हें ही विराम-चिह्न कहा जाता है।

विराम चिन्ह की परिभाषा (Viram Chinh Ki Paribhsha)

विराम चिन्ह का अर्थ है ठहराव, विश्राम, रुकना। अर्थात वाक्य लिखते समय विराम को प्रकट करने के लिए लगाये जाने वाले चिन्ह को ही “विराम चिन्ह” कहते हैं।

विराम चिन्ह के उदाहरण (Viram Chinh Ke udaharan)

  • मोहन पढ़ रहा है । (सामान्य सूचना)
  • ताजमहल किसने बनवाया ? (प्रश्नवाचक)
  • श्याम आया है ! (आश्चर्य का भाव)

विराम चिन्ह का प्रयोग

यदि विराम चिन्ह का वाक्य में सही से प्रयोग न किया जाए तो वाक्य अर्थहीन और अस्पष्ट या फिर एक दूसरे के विपरीत हो जाता है।

उदहारण के लिए-

  1. रोको मत जाने दो।
  2. रोको, मत जाने दो। – अब यहाँ पर न जाने देने की बात हो रही है।
  3. रोको मत, जाने दो। – और यहाँ पर जाने देने की बात हो रही है।

उपर्युक्त उदाहरणों में-

पहले वाक्य में अर्थ स्पष्ट नहीं होता, जबकि द्वतीय और त्रतीय वाक्य में अर्थ तो स्पष्ट हो जाता है लेकिन एक-दूसरे का उल्टा अर्थ मिलता है जबकि तीनो वाक्यों में वही शब्द है। दूसरे वाक्य में ‘रोको’ के बाद अल्पविराम लगाने से रोकने के लिए कहा गया है जबकि तीसरे वाक्य में ‘रोको मत’ के बाद अल्पविराम लगाने से किसी को न रोक कर जाने के लिए कहा गया हैं।

विराम चिह्न के प्रकार: Viram chinh ke bhed

हिन्दी के सभी Viram Chinh In Hindi में हिंदी में 18 प्रकार के Viram chinh भेद निम्नलिखित हैं:

# विराम चिह्न का नाम
(Punctuation Mark Name)
विराम चिन्ह
(Punctuation Mark)
1. अल्प विराम (Comma) :
2. अर्द्ध विराम (Semi colon) ;
3. पूर्ण विराम (Full-Stop)
4. उप विराम (Colon) :
5. विस्मयादिबोधक चिह्न (Sign of Interjection) !
6. प्रश्नवाचक चिह्न (Question mark) ?
7. कोष्ठक (Bracket) ( )
8. योजक चिह्न (Hyphen)
9. अवतरण चिह्न या उद्धरण चिह्न (Inverted Comma) ”… ”
10. लाघव चिह्न/ संक्षेपसूचक (Abbreviation sign) o
11. विवरण चिन्ह/ आदेश चिह्न (Sign of following) :-
12. रेखांकन चिह्न (Underline) _
13. लोप चिह्न/ पदलोप चिन्ह (Mark of Omission)
14. पुनरुक्ति सूचक चिन्ह (Repeat Pointer Symbol) ,,
15. विस्मरण चिन्ह/ त्रुटिपूरक चिन्ह/ हंसपद (Oblivion Sign) ^
16. अवग्रह/ दीर्घ उच्चारण चिन्ह (Long Pronunciation Sign)
17. तुल्यता सूचक चिन्ह (Equal Sign) =
18. निर्देशक चिन्ह (Dash Sign)

1. अल्प विराम (Comma) ( , )

जहाँ थोड़ी सी देर रुकना पड़े, वहाँ अल्प विराम चिन्ह का प्रयोग किया जाता हैं अर्थात एक से अधिक वस्तुओं को दर्शाने के लिए अल्प विराम चिन्ह (,) लगाया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • राम, सीता, लक्षम और हनुमान ये सभी भगवान् के रूप में पूजे जाते हैं।
  • मैंने भारत में पहाड़, झरने, नदी, खेत, ईमारत आदि चीजें देखीं थी।

अल्प विराम, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Comma” कहते हैं।

2. अर्द्ध विराम (Semi colon) ( ; )

जहाँ अल्प विराम (Alpa Viram Chinh) की अपेक्षा कुछ अधिक देर तक रुकना पड़े, वहाँ अर्द्ध विराम (Ardh Viram) का प्रयोग करते है ।

उदाहरण के लिए-

  • सूर्यास्त हो गया; लालिमा का स्थान कालिमा ने ले लिया ।
  • सूर्योदय हो गया; चिड़िया चहकने लगी और कमल खिल गए ।

अर्द्ध विराम, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Semi colon” कहते हैं।

3. पूर्ण विराम (Full-Stop) ( )

जब वाक्य खत्म हो जाता है तब वाक्य के अंत में पूर्ण विराम (।) लगाया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • राम खाना खाता है।
  • मोहन स्कूल जाता है।
  • राम जा दोस्त मोहन है।
  • मैंने अपना काम पूरा कर लिया।

पूर्ण विराम, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Full-Stop” कहते हैं।

4. उप विराम (Colon) [ : ]

जब किसी कथन को अलग दिखाना हो तो वहाँ पर उप विराम (Up Viram) का प्रयोग करते हैं ।

उदाहरण के लिए-

  • प्रदूषण : एक अभिशाप ।
  • विज्ञान : वरदान या अभिशाप ।

उप विराम, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Colon” कहते हैं।

5. विस्मयादिबोधक चिह्न (Sign of Interjection) ( ! )

विस्मयादिबोधक चिन्ह (!)का प्रयोग वाक्य में हर्ष, विवाद, विस्मय, घृणा, आश्रर्य, करुणा, भय इत्यादि का बोध कराने के लिए किया जाता है अथार्त इसका प्रयोग अव्यय शब्द से पहले किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • हाय !, आह !, छि !, अरे !, शाबाश !
  • हाय ! वह मार गया।
  • आह ! कितना सुहावना मौसम है।
  • वाह ! कितना सुंदर वृक्ष है।

विस्मयादिबोधक चिह्न, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Sign of Interjection” कहते हैं।

6. प्रश्नवाचक चिह्न (Question mark) ( ? )

प्रश्न चिन्ह (Prashn Chinh) का प्रयोग प्रश्नवाचक वाक्यों के अंत में किया जाता है ।

उदाहरण के लिए-

  • वह क्या लिख रहा है ?
  • ताजमहल किसने बनवाया ?

प्रश्नवाचक चिह्न, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Question mark” कहते हैं।

7. कोष्ठक (Bracket) ( (),{},[] )

कोष्ठक चिन्ह (Koshthak Chinh) का प्रयोग अर्थ को और अधिक स्पस्ट करने के लिए शब्द अथवा वाक्यांश को कोष्ठक के अन्दर लिखकर किया जाता है ।

उदाहरण के लिए-

  • विश्वामित्र (क्रोध में काँपते हुए) ठहर जा ।
  • धर्मराज (युधिष्ठिर) सत्य और धर्म के संरक्षक थे ।

कोष्ठक चिन्ह, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Bracket” कहते हैं।

8. योजक चिह्न (Hyphen) ( )

योजक चिन्ह (Yojak Chinh) का प्रयोग समस्त पदों के मध्य में किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • सुख-दुःख, लाभ-हानि, दिन-रात, यश-अपयश, तन-मन-धन ।
  • देश के दीवानों ने तन-मन-धन से देश की रक्षा के लिए प्रयत्न किया ।

योजक चिह्न, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Hyphen” कहते हैं।

9. अवतरण चिह्न या उद्धरण चिह्न (Inverted Comma) ( ) या ( )

किसी की कही हुई बात को उसी तरह प्रकट करने के लिए अवतरण चिह्न (“…”) का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • तुलसीदास ने सत्य कहा है, “पराधीन सपनेहु सुख नाहीं।”
  • जयशंकर प्रसाद ने कहा है- “जीवन विश्र्व की सम्पत्ति है।”
  • राम ने कहा, “सत्य बोलना सबसे बड़ा धर्म है।”
  • रामधारी सिंह ‘दिनकर’ श्रेष्ठ कवि हैं।

अवतरण चिह्न, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Inverted Comma” कहते हैं।

10. लाघव चिह्न/ संक्षेपसूचक (Abbreviation sign) ( o )

किसी बड़े तथा प्रसिद्ध शब्द को संक्षेप में लिखने के लिए उस शब्द का पहला अक्षर लिखकर उसके आगे शून्य (०) लगा देते हैं। यह शून्य ही लाघव-चिह्न कहलाता है।

उदाहरण के लिए-

  • डॉंक़्टर के लिए ― डॉं०
  • पंडित के लिए ― पं०
  • इंजिनियर के लिए ― इंजी०
  • उत्तर प्रदेश के लिए ― उ० प्र०

लाघव चिह्न, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Abbreviation sign” कहते हैं।

11. विवरण चिन्ह/ आदेश चिह्न (Sign of following) ( :- )

विवरण चिन्ह (:-)का प्रयोग वाक्यांश के विषयों में कुछ सूचक निर्देश आदि देने के लिए किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • आम के निम्न फायदे है:-
  • संज्ञा के तीन मुख्य भेद होते हैं:-
  • वचन के दो भेद है:-

विवरण चिन्ह, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Sign of following” कहते हैं।

12. रेखांकन चिह्न (Underline) ( _ )

किसी भी वाक्य में महत्त्वपूर्ण शब्द, पद, वाक्य को रेखांकित करने के लिए रेखांकन चिन्ह (_)का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • हरियाणा और उत्तर प्रदेश को यमुना नदी प्रथक करती है।
  • गोदान उपन्यास, प्रेमचंद द्वारा लिखित सर्वश्रेष्ठ कृति है।
  • कृष्ण ने बरगद के पेड़ के निचे उपदेश दिया था।

रेखांकन चिह्न, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Underline” कहते हैं।

13. लोप चिह्न/ पदलोप चिन्ह (Mark of Omission)( )

जब वाक्य या अनुच्छेद में कुछ अंश छोड़ कर लिखना हो तो लोप चिह्न (…) का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • राम ने मोहन को गली दी…।
  • मैं सामान उठा दूंगा पर…।
  • में घर अवश्य चलूँगा… पर तुम्हारे साथ।

लोप चिह्न, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Mark of Omission” कहते हैं।

14. पुनरुक्ति सूचक चिन्ह (Repeat Pointer Symbol) ( ,, )

पुनरुक्ति सूचक चिन्ह (,,) का प्रयोग ऊपर लिखे किसी वाक्य के अंश को दोबारा लिखने से बचने के लिए किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  1. रमेश कक्षा दश में पढ़ता है।
  2. ,, के पिता एक किसान हैं।

यहाँ ,, का प्रयोग रमेश के लिए हुआ है।

पुनरुक्ति सूचक चिन्ह, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Repeat Pointer Symbol” कहते हैं।

15. विस्मरण चिन्ह/ त्रुटिपूरक चिन्ह/ हंसपद (Oblivion Sign) ( ^ )

विस्मरण चिन्ह (^) का प्रयोग लिखते समय किसी शब्द को भूल जाने पर किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • राम ^ जाएगा। (मथुरा)
  • श्याम ^ में रहते थे। (गाँव)
  • राम बहुत ^ लड़का है। (सीधा)
  • मैंने तुमसे वो बात ^ की थी? (कब)

विस्मरण चिन्ह, Viram Chinh को अंग्रेजी में “Oblivion Sign” कहते हैं।

नोट:- विस्मरण चिन्ह का प्रयोग प्रायः टाइपिंग में नहीं होता है। इसका प्रयोग अधिकांशतः पेन से कॉपी पर लिखते समय ही किया जाता है।

Hanspad ya Trutipurak Chinh (Oblivion Sign) ka Prayog

16. अवग्रह/ दीर्घ उच्चारण चिन्ह (Long Pronunciation Sign) (  )

अवग्रह () एक देवनागरी चिह्न है, इसका प्रयोग संधि के कारण विलुप्त हुए ‘‘ के लिए किया जाता है। परंतु आधुनिक भारतीय भाषाओं में अवग्रह चिन्ह का प्रयोग अतिदीर्घ स्वर या दीर्घ उच्चारण या पुकारने के लिए किया जाता है। अतः इसे ही दीर्घ उच्चारण चिन्ह कहते हैं।

जब किसी वाक्य या शब्द में किसी विशेष शब्द के उच्चारण में अन्य शब्दों की अपेक्षा अधिक समय लगता है तो वहां पर “दीर्घ उच्चारण चिन्ह (ऽ)” का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • माँऽऽऽ
  • बुआऽऽऽ

पाणिनी का सूत्र है- एङः पदान्तादति। अर्थात्- पद के अन्त में ए/ओ के बाद यदि अकार आये तो अकार लुप्त हो जाता है तथा ए/ओ का पूर्वरूप (पहले जैसा) हो जाता है। यहाँ इसी लुप्त हुए ‘अ’ को अवग्रह चिह्न ‘ऽ’ से प्रदर्शित करते हैं।

उदाहरण के लिए-

  • बालको +अयम्=बालकोऽयम्।

इसे पूर्वरूप स्वर सन्धि कहते हैं। यह अयादि सन्धि का अपवाद है। इसी प्रकार-

  • सोऽहम्
  • बालकोऽयम्
  • प्रभोऽनुग्रहण

वहीं छन्दः में इस चिह्न को गुरुमात्रा (आ, ई, ऊ आदि) प्रदर्शित करने में भी प्रयुक्त करते हैं।

17. तुल्यता सूचक चिन्ह (Equal Sign) ( = )

तुल्यता सूचक चिन्ह का प्रयोग किसी वस्तु, संख्या, गुण आदि को बराबर या समान या समकक्ष या तुल्य प्रदर्शित करने के लिए किया जाता है। इसका प्रयोग अधिकांशतः गणित में किया जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • नौ = 9 = 7+2 = 5+4
  • सोना = 60000 रुपये/10 ग्राम
  • 10 रुपये = 2 रोटी

अतः “जिस चिन्ह का प्रयोग किसी वस्तु, संख्या, गुण आदि को बराबर या समान या समकक्ष या तुल्य प्रदर्शित करने के लिए किया जाता है, उसे तुल्यता सूचक चिन्ह कहते हैं।”

18. निर्देशक चिन्ह (Dash Sign) ( )

निर्देशक चिन्ह ( ― ) का प्रयोग विषय, विवाद, सम्बन्धी, प्रत्येक शीर्षक के आगे, उदाहरण के पश्चात, कथोपकथन के नाम के आगे किया जाता है । इसको रेखा चिन्ह ( ― ) के नाम से भी जाना जाता है।

उदाहरण के लिए-

  • अध्यापक ― तुम जा सकते हो ।
  • जैसे ― क्रिकेट, हॉकी, सतरंज ।

जबकि योजक चिन्ह (Hyphen) का प्रयोग दो शब्दों को जोड़ने या समस्तपद के लिए किया जाता है। समस्तपद से तात्पर्य दो शब्दों के मध्य किसी शब्द का लोप हो जाने पर जो शब्द बनता है उसे समस्तपद कहते हैं। समस्तपद से तात्पर्य समास से होता है, परंतु जहां प्रायः द्वन्द्व समास होता है, वहाँ योजक चिन्ह का प्रयोग होता है। उदाहरण के लिए-

  • सुख-दुःख = सुख और दुःख
  • लाभ-हानि = लाभ और हानि
  • दिन-रात = दिन और रात

Practice Worksheet

Viram Chinha Practice Worksheet
Practice Worksheet of Viram Chinh in Hindi

MCQs

प्रश्न 1. निम्नलिखित में से अर्द्ध विराम का चिह्र कौन सा है?

  1. !
  2. ,
  3. ;
  4. :

उत्तर: 3, ‘ ; ’ अर्द्ध विराम चिह्न है।

प्रश्न 2. विराम चिह्न की प्रयोग की दृष्टि से निम्नलिखित में से कौन सा वाक्य सही नहीं है?

  1. वह दूर से, बहुत दूर से, आ रहा है।
  2. सुनो, सुनो, वह गा रही है।
  3. नहीं, नहीं ऐसा कभी नहीं हो सकता।
  4. क्रोध, चाहे जैसा भी हो, मनुष्य को दुर्बल बनाता है।

उत्तर: 1, वह दूर से, बहुत दूर से, आ रहा है।

प्रश्न 3. (…) इस विराम चिह्न का नाम है:

  1. लाघव चिह्न
  2. उपविराम
  3. लोप चिह्न
  4. योजक चिह्न

उत्तर: 3, लोप चिह्न

प्रश्न 4. “अनुशासन वाह्य नहीं ____ भीतरी नियंत्रण है।” इस वाक्य के रिक्त स्थान पर किस विराम चिह्न का प्रयोग किया जाएगा।

  1. अर्द्ध विराम
  2. विस्मयादि बोधक
  3. उपविराम
  4. अल्प विराम

उत्तर: 4, अल्प विराम

प्रश्न 5. किस विराम चिह्न का प्रयोग संवाद -लेखन एकांकी लेखन या नाटक लेखन में वक्ता के नाम के बाद किया जाता है?

  1. योजक चिह्न
  2. उपविराम चिह्न
  3. आदेश चिह्न
  4. रेखांकन चिह्न

उत्तर: 2, उपविराम चिह्न

FAQs

विराम चिह्न क्या होता है? इसका अर्थ लिखो?

विराम चिह्न का अर्थ है ठहराव, विश्राम, रुकना। अर्थात वाक्य लिखते समय विराम को प्रकट करने के लिए लगाए जाने वाले चिह्न को विराम चिह्न कहते हैं।

Viram Chinha Ke Bhed - Viram Chinhon Ke Naam

हिंदी में प्रचलित प्रमुख विराम चिह्न के नाम लिखो?

(1) अल्प विराम ( , ) (2) अर्द्ध विराम ( ; ) (3) पूर्ण विराम ( । ) (4) उप विराम [ : ] (5) विस्मयादिबोधक चिह्न ( ! ) (6) प्रश्नवाचक चिह्न ( ? ) (7) कोष्ठक ( () ) (8) योजक चिह्न ( – ) (9) अवतरण चिह्न या उद्धरणचिह्न ( ”… ” ) (10) लाघव चिह्न) ( o ) (11) आदेश चिह्न/सूचना ( :- ) (12) रेखांकन चिह्न (_) (13) लोप चिह्न (…) आदि हिन्दी के प्रमुख Viram Chinh हैं।

संयोजक या योजक चिह्न किसे कहते हैं?

हिंदी में अल्पविराम के बाद योजक चिह्न का प्रयोग अधिक होता है। दो शब्दों में परस्पर संबंध स्पष्ट करने के लिए तथा उन्हें जोड़कर लिखने के लिए योजक-चिह्न का प्रयोग किया जाता है। इसे ‘विभाजक-चिह्न’ भी कहते है।

इकहरा उद्धरण चिन्ह और दोहरा उद्धरण चिन्ह क्या हैं?

किसी वाक्य में किसी खास शब्द पर जोर देने के लिए अवतरण या उद्धरण चिन्ह (‘ ‘) का प्रयोग किया जाता है। उद्धरण के दो रूप होते हैं इकहरा (‘) व दोहरा (“) चिह्न। जब किसी पुस्तक से कोई वाक्य अथवा अवतरण ज्यों का त्यों लिया जाए तो वहां दोहरे (“) चिह्न का प्रयोग होता है। जहाँ पर कोई विशेष शब्द, पद, वाक्य खण्ड इत्यादि को लिखा जाये तो वहाँ इकहरा (‘) चिह्न प्रयोग में लाया जाता है।

  • रामधारी सिंह ‘दिनकर’ श्रेष्ठ कवि हैं।
  • जयशंकर प्रसाद ने कहा है- “जीवन विश्र्व की सम्पत्ति है।”

‘उद्धरण’ के लिए प्रयुक्त किया जानेवाला चिह्न बताइए?

‘उद्धरण’ के लिए ‘…’ का प्रयोग होता है। किसी वाक्य में किसी खास शब्द पर जोर देने के लिए अवतरण या उद्धरण चिन्ह (‘ ‘) का प्रयोग किया जाता है।

‘अल्पविराम’ का कौन सा चिन्ह होता है, बताइए?

अल्पविराम के लिए Comma (,) चिन्ह होता है, जहाँ थोड़ी सी देर रुकना पड़े, वहाँ अल्प विराम चिन्ह का प्रयोग किया जाता हैं।

प्रश्नवाचक चिन्ह का प्रयोग कहाँ किया जाता है?

प्रश्नवाचक वाक्यों के अंत में प्रश्नवाचक चिन्ह (?) का प्रयोग किया जाता हैं। जैसे- तुम कहाँ जा रहे हो?, क्या सीता बाजार जा रही है?

विराम चिन्ह को इंग्लिश में क्या कहते हैं?

विराम चिन्ह को इंग्लिश में Punctuation Mark कहते हैं।

विराम चिन्हों का प्रयोग क्यों किया जाता है?

विराम चिन्हों का प्रयोग लिखावट और वाक्यरचना में विभिन्न तरीकों से किया जाता है ताकि लिखित भाषा को स्पष्ट और भावाभिव्यक्ति बनाया जा सके।

उम्मीद है कि आपको “विराम चिन्ह” पर आपको यह लेख पसंद आया होगा और आपका ज्ञानवर्धन हुआ होगा। अतः आपसे निवेदन है कि इस पोस्ट को अपने मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें। और “MY COACHING” पर अपने ज्ञान को बढ़ाते रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *