उपमा और उत्प्रेक्षा अलंकार युग्म में अंतर

UPMA AUR UTPREKSHA MEIN ANTAR
उपमा और उत्प्रेक्षा अलंकार युग्म में अंतर

उपमा और उत्प्रेक्षा

उपमा में उपमेय और उपमान की समानता गुण, धर्म, क्रिया आदि के आधार पर बताई जाती है यथा-

फूलों सा चेहरा तेरा

यहां चेहरे (मुख) की तुलना फूलों से कोमलता के कारण की गई है।

उत्प्रेक्षा में उपमेय में उपमान की कल्पना या संभावना की जाती है। यथा-

मुख मानो चन्द्रमा है।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

You may like these posts

म – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘म’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक...Read more !

पूर्ण वर्तमान काल – परिभाषा, वाक्य और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण

पूर्ण वर्तमानकाल हिन्दी में – Hindi में Kaal के तीन भेद या प्रकार ‘भूतकाल, वर्तमान काल और भविष्य काल‘ आदि होते है। और वर्तमान काल को पुनः छः भेदों में...Read more !

The Best and Top 5 Hindi Vyakaran Book For Exams

Hindi Vyakaran भाषा संबंधी नियमों से संबद्ध पुस्तक। वह विद्या जिसके अंतर्गत बोलचाल और साहित्य में प्रयुक्त भाषा के स्वरूप, उसके गठन, अवयवों तथा प्रकारों, उनके पारस्परिक संबंधों और रचनाविधान...Read more !