उपमा और उत्प्रेक्षा अलंकार युग्म में अंतर

उपमा और उत्प्रेक्षा

उपमा में उपमेय और उपमान की समानता गुण, धर्म, क्रिया आदि के आधार पर बताई जाती है यथा-

फूलों सा चेहरा तेरा

यहां चेहरे (मुख) की तुलना फूलों से कोमलता के कारण की गई है।


उत्प्रेक्षा में उपमेय में उपमान की कल्पना या संभावना की जाती है। यथा-

मुख मानो चन्द्रमा है।
UPMA AUR UTPREKSHA MEIN ANTAR

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

पुरुष – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Purush in hindi

पुरुष की परिभाषा: वे व्यक्ति जो संवाद के समय भागीदार होते हैं, उन्हें पुरुष कहा जाता है। जैसे: मेरा नाम सचिन है। इस वाक्य में वक्ता(सचिन) अपने बारे में बता...Read more !

छेकानुप्रास अलंकार (Chhekanupras Alankar)

छेकानुप्रास अलंकार की परिभाषा  जहाँ पर स्वरुप और क्रम से अनेक व्यंजनों की आवृति एक बार हो वहाँ छेकानुप्रास अलंकार होता है वहाँ छेकानुप्रास अलंकार होता है। यह Alankar, शब्दालंकार...Read more !

क – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘क’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक...Read more !

पद (Pad Parichay) – Phrases – पद क्या होता है ?

पद परिचय वाक्य में प्रयुक्त शब्द को पद कहा जाता है वाक्य में प्रयुक्त शब्दों में संज्ञा , सर्वनाम , विशेषण , क्रिया विशेषण , संबंधबोधक आदि अनेक शब्द होते...Read more !

Paryayvachi Shabd (पर्यायवाची शब्द) – Synonyms in Hindi, समानार्थी शब्द – Hindi

Hindi के Paryayvachi Shabd – Hindi Paryayvachi Shabd जिन शब्दों के अर्थ में समानता होती है, उन्हें समानार्थक या पर्यायवाची शब्द कहते है। या किसी शब्द-विशेष के लिए प्रयुक्त समानार्थक...Read more !