सम्बोधन कारक – परिभाषा, चिन्ह, उदाहरण – हिन्दी

सम्बोधन कारक

परिभाषा

जिस शब्द से किसी को पुकारा या बुलाया जाए उसे सम्बोधन कारक कहते हैं। इसकी कोई विभक्ति नहीं होती है। इसको पहचानने करने के लिए (!) चिन्ह लगाया जाता है। इसके चिन्ह हे, अरे, अजी आदि होते हैं।

or

जिससे किसी को बुलाने अथवा पुकारने का भाव प्रकट हो उसे संबोधन कारक कहते है और संबोधन चिह्न (!) लगाया जाता है। जैसे – हे राम ! यह क्या हो गया।

उदाहरण

1. हे राम ! यह क्या हो गया। – इस वाक्य में ‘हे राम!’ सम्बोधन कारक है, क्योंकि यह सम्बोधन है।

2. अरे भैया ! क्यों रो रहे हो ? – इस वाक्य में ‘अरे भैया’ ! संबोधन कारक है।

2. हे गोपाल ! यहाँ आओ। – इस वाक्य में ‘हे गोपाल’ ! संबोधन कारक है।

सम्बोधन कारक की परिभाषा

संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से बुलाने या पुकारने का ज्ञान हो उसे सम्बोधन कहते हैं। अथवा – जहाँ पर पुकारने , चेतावनी देने , ध्यान बटाने के लिए जब सम्बोधित किया जाता है उसे सम्बोधन कारक कहते हैं।

सम्बोधन कारक के उदाहरण

  1. अरे रमेश ! तुम यहां कैसे ?
  2. अजी ! सुनते हो क्या।
  3. हे ईश्वर ! रक्षा करो।
  4. अरे ! बच्चो शोर मत करो।
  5. हे राम ! यह क्या हो गया।
  6. अरे भाई ! यहाँ आओ।
  7. अरे राम! बहुत बुरा हुआ।
  8. अरे भाई ! तुम तो बहुत दिनों में आये।
  9. अरे बच्चों! शोर मत करो।
  10. हे ईश्वर! इन सभी नादानों की रक्षा करना।
  11. अरे! यह इतना बड़ा हो गया।
  12. अजी तुम उसे क्या मरोगे ?
  13. बाबूजी ! आप यहाँ बैठें।
  14. अरे राम ! जरा इधर आना।
  15. अरे ! आप आ गये।
Sambodhan Karak
Sambodhan Karak

मुख्य प्रष्ठ : कारक प्रकरण – विभक्ति
Sanskrit Vyakaran में शब्द रूप देखने के लिए Shabd Roop पर क्लिक करें और धातु रूप देखने के लिए Dhatu Roop पर जायें।

You may like these posts

Sanskrit Baby Boy Names – संस्कृत एवं हिन्दी

Baby boy Sanskrit Baby Boy Names : आज इस प्रष्ठ में Baby boy के Names संस्कृत में बात करने वाले हैं। यहाँ पर हम आपके लिए लेकर आये हैं ‘Baby...Read more !

परिमाणवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा परिमाण वाचक क्रिया विशेषण वे होते हैं जिन क्रियाविशेषण शब्दों से क्रिया के परिमाण अथवा मात्रा से सम्बंधित विशेषता का ज्ञान हो, उन्हें परिमाण वाचक क्रिया विशेषण कहते है...Read more !

अपादान कारक (से) – पंचमी विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

अपादान कारक परिभाषा कर्त्ता अपनी क्रिया द्वारा जिससे अलग होता है, उसे अपादान कारक कहते हैं। अथवा– संज्ञा के जिस रूप से एक वस्तु का दूसरी से अलग होना पाया...Read more !