सम्बोधन कारक – परिभाषा, चिन्ह, उदाहरण – हिन्दी

सम्बोधन कारक

परिभाषा

जिस शब्द से किसी को पुकारा या बुलाया जाए उसे सम्बोधन कारक कहते हैं। इसकी कोई विभक्ति नहीं होती है। इसको पहचानने करने के लिए (!) चिन्ह लगाया जाता है। इसके चिन्ह हे, अरे, अजी आदि होते हैं।

or

जिससे किसी को बुलाने अथवा पुकारने का भाव प्रकट हो उसे संबोधन कारक कहते है और संबोधन चिह्न (!) लगाया जाता है। जैसे – हे राम ! यह क्या हो गया।

उदाहरण

1. हे राम ! यह क्या हो गया। – इस वाक्य में ‘हे राम!’ सम्बोधन कारक है, क्योंकि यह सम्बोधन है।

2. अरे भैया ! क्यों रो रहे हो ? – इस वाक्य में ‘अरे भैया’ ! संबोधन कारक है।

2. हे गोपाल ! यहाँ आओ। – इस वाक्य में ‘हे गोपाल’ ! संबोधन कारक है।

सम्बोधन कारक की परिभाषा

संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से बुलाने या पुकारने का ज्ञान हो उसे सम्बोधन कहते हैं। अथवा – जहाँ पर पुकारने , चेतावनी देने , ध्यान बटाने के लिए जब सम्बोधित किया जाता है उसे सम्बोधन कारक कहते हैं।

सम्बोधन कारक के उदाहरण

  1. अरे रमेश ! तुम यहां कैसे ?
  2. अजी ! सुनते हो क्या।
  3. हे ईश्वर ! रक्षा करो।
  4. अरे ! बच्चो शोर मत करो।
  5. हे राम ! यह क्या हो गया।
  6. अरे भाई ! यहाँ आओ।
  7. अरे राम! बहुत बुरा हुआ।
  8. अरे भाई ! तुम तो बहुत दिनों में आये।
  9. अरे बच्चों! शोर मत करो।
  10. हे ईश्वर! इन सभी नादानों की रक्षा करना।
  11. अरे! यह इतना बड़ा हो गया।
  12. अजी तुम उसे क्या मरोगे ?
  13. बाबूजी ! आप यहाँ बैठें।
  14. अरे राम ! जरा इधर आना।
  15. अरे ! आप आ गये।
Sambodhan Karak
Sambodhan Karak

मुख्य प्रष्ठ : कारक प्रकरण – विभक्ति
Sanskrit Vyakaran में शब्द रूप देखने के लिए Shabd Roop पर क्लिक करें और धातु रूप देखने के लिए Dhatu Roop पर जायें।

Related Posts

जीवनी और जीवनीकार – लेखक और रचनाएँ, हिन्दी

हिन्दी की जीवनी और जीवनीकार  हिन्दी की प्रथम जीवनी ‘नाभा दास’ लिखित “भक्तमाल” है। किसी व्यक्ति विशेष के सम्पूर्ण जीवन वृतांत को जीवनी कहते है। जीवनी का अंग्रेजी अर्थ “बायोग्राफी”...Read more !

निबन्ध – निबंध कैसे लिखे?

निबन्ध निबन्ध शब्द हिन्दी में संस्कृत से ग्रहण किया गया है, परन्तु आज इससे अंग्रेजी ‘ऐसे’ का बोध होता है, फ्रेंच में इसे ‘एसाई’ कहते थे, वहीं अँग्रेजी में ‘ऐसे’...Read more !

नञ् समास – Na, Nav Tatpurush/Bahubrihi Samas – संस्कृत, हिन्दी

नञ् समास की परिभाषा नञ् (न) का सुबन्त के साथ समास ‘नञ् समास‘ कहलाता है। यदि उत्तर पद का अर्थ प्रधान हो तो ‘नञ् तत्पुरुष‘ और यदि अन्य पद की प्रधानता...Read more !

अवधी, बघेली, छत्तीसगढ़ी – बोली, भाषा – पूर्वी हिन्दी

पूर्वी हिन्दी पूर्वी हिन्दी का विकास अर्धमागधी प्राकृत से हुआ है। पश्चिमी हिन्दी और भोजपुरी के बीच के क्षेत्र को पूर्वी हिन्दी का क्षेत्र माना जाता है। पूर्वी हिन्दी के...Read more !

एकांकी – एकांकी क्या है?

एकांकी हिन्दी में ‘एकांकी’ जो अंग्रेजी ‘वन एक्ट प्ले’ के लिए हिन्दी नाम है, आधुनिक का में हिन्दी के अंग्रेजी से संपर्क का परिणाम है, पर भारत के लिए यह...Read more !