पूर्ण सातत्य वर्तमान काल – परिभाषा, वाक्य, और उदाहरण – हिन्दी

Purna Satatya Vartmankal

पूर्ण सातत्य वर्तमानकाल हिन्दी में – Hindi में Kaal के तीन भेद या प्रकार ‘भूतकाल, वर्तमान काल और भविष्य काल‘ आदि होते है। और वर्तमान काल को पुनः छः भेदों में विभक्त किया गया है ‘सामान्य वर्तमान काल, अपूर्ण वर्तमान काल/तत्कालिक वर्तमान काल, पूर्ण वर्तमान काल, संदिग्ध वर्तमान काल, संभाव्य वर्तमान काल, पूर्ण सातत्य वर्तमान काल’। इस प्रष्ठ में Vartaman kal में से “पूर्ण सातत्य वर्तमान काल” के वाक्य, परिभाषा और उदाहरण आदि की जानकारी दी गई है।

पूर्ण सातत्य वर्तमान काल (Purna Satatya Vartmankal)

परिभाषा: क्रिया के जिस रूप से यह ज्ञात होता है कि क्रिया पहले से आरंभ होकर वर्तमान में लगातार चल रहे है, उसे पूर्ण सातत्य वर्तमान काल (Present Perfect Continuous Tense) कहते हैं। या जिन वाक्यों के अंत में ता रहा है, ती रही है, ते रहे हैं, ता रहा हूँ आदि शब्द आते हैं वे वाक्य पूर्ण सातत्य वर्तमान काल में होते हैं। जैसे-

  • वह मिठाई खाता रहा है।
  • रामू चोरी करता रहा है।

पहचान: जिन वाक्यों के अंत में ता रहा है, ता रहा हूँ, ते रहे हैं, ती रही है, ती रही हूँ आदि शब्द आते है, उन्हें पूर्ण सातत्य वर्तमान काल कहते हैं।

संरचना: पूर्ण सातत्य वर्तमान काल के क्रियाओं की संरचना- धातु + ता रहा हूँ, धातु + ते रहे हैं, धातु + ती रही है, धातु + ती रही हूँ इत्यादि होती है।

पूर्ण सातत्य वर्तमान काल के उदाहरण

1. वह बचपन से फल तोड़ता रहा है।

2. राम खाना खाता रहा है।

3. गुंजन आज भी आपका इंतजार करती रही है।

4. राम सुबह से फल खाता रहा है।

5. वह बचपन से सोता रहा है।

6. वह वर्षों से आता रहा है।

7. वह लौटता रहा है।

8. वह चलता रहा है।

9. वह नहाता रहा है।

10. उसे चोट लगीती रही है।

11. वह खाना खाता रहा है।

12. वह कक्षा कार्य करता रहा है।

13. सीता बाज़ार से आती रही है।

14. वह लौटाता रहा है।

15. वह बात बताती रही है।

16. बच्चे दूध पीता रहा है।

17. वह चलता रहा है।

18. मैं यह काम पहले से ही करता रहा हूँ।

19. श्याम बचपन से ही पढ़ता रहा है।

20. सचिन पहले से ही क्रिकेट खेलता रहा है।

पढ़ें अन्य वर्तमान काल के भेद (Kaal in Hindi)

सामान्य वर्तमान काल, अपूर्ण वर्तमान काल, तत्कालिक वर्तमान काल, पूर्ण वर्तमान काल, संदिग्ध वर्तमान काल, संभाव्य वर्तमान काल, पूर्ण सातत्य वर्तमान काल

Frequently Asked Questions (FAQ)

1. पूर्ण सातत्य वर्तमान काल की परिभाषा लिखिए?

क्रिया के जिस रूप से यह ज्ञात होता है कि क्रिया पहले से आरंभ होकर वर्तमान में लगातार चल रहे है, उसे पूर्ण सातत्य वर्तमान काल कहते हैं। जैसे- राम खाना खाता रहा है। गुंजन आज भी आपका इंतजार करती रही है। राम सुबह से फल खाता रहा है।

2. पूर्ण सातत्य वर्तमान काल किसे कहते हैं?

वर्तमान काल की वह क्रिया जो लगातार या निश्चित समयावधि तक होती रहती है, उसे पूर्ण सातत्य वर्तमान काल कहते हैं। जैसे- वह बचपन से फल तोड़ता रहा है। राम खाना खाता रहा है। गुंजन आज भी आपका इंतजार करती रही है।

3. पूर्ण सातत्य वर्तमान काल क्या हैं?

जिन वाक्यों के अंत में ता रहा है, ता रहा हूँ, ते रहे हैं, ती रही है, ती रही हूँ आदि शब्द आते है, उन्हें पूर्ण सातत्य वर्तमान काल कहते हैं। पूर्ण सातत्य वर्तमान काल के क्रियाओं की संरचना- धातु + ता रहा हूँ, धातु + ते रहे हैं, धातु + ती रही है, धातु + ती रही हूँ इत्यादि होती है। जैसे- मैं यह काम पहले से ही करता रहा हूँ।

4. पूर्ण सातत्य वर्तमान काल के उदाहरण लिखो?

पूर्ण सातत्य वर्तमान काल के उदाहरण निम्नलिखित हैं:- श्याम बचपन से ही पढ़ता रहा है। सचिन पहले से ही क्रिकेट खेलता रहा है। वह बचपन से फल तोड़ता रहा है। राम खाना खाता रहा है। गुंजन आज भी आपका इंतजार करती रही है। राम सुबह से फल खाता रहा है।

5. पूर्ण सातत्य वर्तमान काल के वाक्य लिखिए?

पूर्ण सातत्य वर्तमान काल के वाक्य निम्नलिखित हैं:- वह बचपन से सोता रहा है। वह वर्षों से आता रहा है। वह लौटता रहा है। वह चलता रहा है। वह नहाता रहा है। उसे चोट लगीती रही है। वह खाना खाता रहा है। वह कक्षा कार्य करता रहा है। सीता बाज़ार से आती रही है। वह लौटाता रहा है। वह बात बताती रही है। बच्चे दूध पीता रहा है। वह चलता रहा है।

पढ़ें हिन्दी व्याकरण के अन्य चैप्टर

भाषा, वर्ण, शब्द, पद, वाक्य, संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, क्रिया विशेषण, समुच्चय बोधक, विस्मयादि बोधक, वचन, लिंग, कारक, पुरुष, उपसर्ग, प्रत्यय, संधि, छन्द, समास, अलंकार, रस

You may like these posts

दीपक अलंकार – Deepak Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

दीपक अलंकार परिभाषा– जहाँ पर प्रस्तुत और अप्रस्तुत का एक ही धर्म स्थापित किया जाता है वहाँ पर दीपक अलंकार होता है। यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों...Read more !

पुरुषवाचक सर्वनाम – Purush Vachak Sarvanam : हिन्दी व्याकरण

पुरुषवाचक सर्वनाम जो सर्वनाम वक्ता (बोलनेवाले), श्रोता (सुननेवाले) तथा किसी अन्य के लिए प्रयुक्त होता है, उसे पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- मैं, तू, वह आदि। अथवा जिन सर्वनाम का...Read more !

संधि – संधि की परिभाषा, भेद और उदाहरण – Sandhi in Hindi

संधि की परिभाषा संधि (सम् + धि) शब्द का अर्थ है ‘मेल’। दो निकटवर्ती वर्णों के परस्पर मेल से जो विकार (परिवर्तन) होता है वह संधि कहलाता है। जैसे –...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *