हेतु हेतु मद भूतकाल – परिभाषा, वाक्य और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण

Hetu Hetu Mad Bhootkaal

हेतु-हेतुमद् भूतकाल हिन्दी में – Hindi में Kaal के तीन भेद या प्रकार ‘भूतकाल, वर्तमान काल और भविष्य काल‘ आदि होते है। और भूतकाल को पुनः छः भेदों में विभक्त किया गया है ‘सामान्य भूतकाल, आसन्न भूतकाल, पूर्ण भूतकाल, अपूर्ण भूतकाल, संदिग्ध भूतकाल, हेतु-हेतुमद् भूतकाल’। इस प्रष्ठ में Bhootkaal में से “हेतु-हेतुमद् भूतकाल” के वाक्य, परिभाषा और उदाहरण आदि की जानकारी दी गई है।

हेतु-हेतुमद् भूतकाल (Hetu Hetu Mad Bhootkaal)

परिभाषा: इसमें भूतकाल की क्रिया किसी कारण पर आधारित होती है, अर्थात जिस क्रिया से ज्ञात हो क्रिया भूतकाल में होनेवाली थी पर किसी कारण से नहीं हो सकी, उसे हेतु-हेतुमद् भूतकाल (Conditional Past Tense) कहते हैं। जैसे-

  • यदि वह आता, तो मैं जाता।
  • यदि वर्षा होती, तो खेती नहीं सूखती।

पहचान: हेतु-हेतुमद् में पहली क्रिया दूसरी क्रिया पर निर्भर होती है। पहली क्रिया तो पूरी नहीं होती लेकिन दूसरी भी पूरी नहीं हो पाती।

संरचना: ‘हेतु’ का अर्थ होता है- ‘कारक’ या ‘प्रयोजन’। हेतुहेतुमद्भूत काल (Past Conditional) की क्रिया से यह स्पष्ट होता है कि बीते हुए समय में कोई कार्य या व्यापार सम्पन्न होता; लेकिन किसी कारण से नहीं हो सका।

हेतु हेतु मद् भूतकाल के उदाहरण

1. यदि राधा आती, तो श्याम होता।

2. यदि शिक्षक बाजार जाता, तो बच्चे शोर मचाते।

3. मैं आगरा जाती तो ताजमहल देखती।

4. सुरेश मेहनत करता तो सफल हो जाता।

5. यदि वर्षा होती तो फसल अच्छी होती।

6. वह जाता।

7. यदि मैं आता तो वह चला जाता।

8. श्याम थोड़ी और अगर मेहनत करता तो निश्चित रूप से ही वह सफल हो सकता था।

9. अगर वह दिल्ली जाती तो, वहां पर कुतुब मीनार देख लेती।

10. अगर वर्षा हो जाती तो निश्चित रूप से ही फसल अच्छी हो जाती।

11. अंशु इंजीनियर बन गई होती यदि पॉलिटेक्निक की परीक्षा पास हो जाती।

12. यदि तुम पढ़ते तो परीक्षा पास करते।

13. यदि वर्षा होती तो पैदावार अच्छी होती।

14. अगर सोनी पढ़ती तो अवश्य पास होती।

15. यदि मैं आती तो प्रिया जाती।

16. यदि वर्षा होती तो फसल अच्छी होती।

17. यदि माता जी होती तो खाना बना देतीं।

18. मैं घर पर होता तो चोरी नहीं होती।

19. अगर में जल्दी जाता तो सामान मिल जाता।

20. समय पर आते तो बस नहीं छूटती।

21. अगर धूप आती तो गर्मी बढ़ जाती।

22. बाढ़ आ जाती तो सारा गाँव डूब जाता।

23. यदि श्याम ने पत्र लिखा होता तो मैं अवश्य आता।

24. यदि में लेट नहीं होता, थो मुझे सजा नहीं मिलती।

25. यदि तुमने परिश्रम किया होता, तो पास हो जाते।

पढ़ें अन्य भूतकाल के भेद (Kaal in Hindi)

सामान्य भूतकाल, आसन्न भूतकाल, पूर्ण भूतकाल, अपूर्ण भूतकाल, संदिग्ध भूतकाल, हेतु-हेतुमद् भूतकाल

Frequently Asked Questions (FAQ)

1. हेतु हेतु मद भूतकाल की परिभाषा लिखिए?

क्रिया के जिस रुप से कार्य के भूतकाल में होने या किए जाने की शर्त पाई जाए, उसे हेतु हेतुमद भूत कहते है। जैसे- यदि राधा आती, तो श्याम होता। यदि शिक्षक बाजार जाता, तो बच्चे शोर मचाते। मैं आगरा जाती तो ताजमहल देखती। सुरेश मेहनत करता तो सफल हो जाता।

2. हेतु हेतु मद भूतकाल किसे कहते हैं?

यह भूतकाल की ऐसी क्रिया है, जिसके माध्यम से हम इस बात की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं कि भूतकाल में कोई कार्य हो सकता था किंतु किसी अन्य कार्य की वजह से वह कार्य पूरा नहीं हो पाया, उसे हेतु हेतु मद भूतकाल कहा जाता है। उदाहरण के लिए- यदि मैं आती तो प्रिया जाती। यदि वर्षा होती तो फसल अच्छी होती। यदि माता जी होती तो खाना बना देतीं। मैं घर पर होता तो चोरी नहीं होती।

3. हेतु हेतु मद भूतकाल क्या हैं?

जिन क्रिया पदों से भूतकाल में कार्य होने का संकेत तो मिलता है, परन्तु किसी कारण से कार्य हो नहीं पाया, उसे हेतु-हेतुमद् भूतकाल कहते हैं। जैसे- मैं घर पर होता तो चोरी नहीं होती। अगर में जल्दी जाता तो सामान मिल जाता। समय पर आते तो बस नहीं छूटती। अगर धूप आती तो गर्मी बढ़ जाती। बाढ़ आ जाती तो सारा गाँव डूब जाता।

4. हेतु हेतु मद भूतकाल के उदाहरण लिखो?

हेतु हेतु मद भूतकाल के उदाहरण निम्नलिखित हैं:- यदि शिक्षक बाजार जाता, तो बच्चे शोर मचाते। मैं आगरा जाती तो ताजमहल देखती। सुरेश मेहनत करता तो सफल हो जाता। यदि वर्षा होती तो फसल अच्छी होती। वह जाता। यदि मैं आता तो वह चला जाता। श्याम थोड़ी और अगर मेहनत करता तो निश्चित रूप से ही वह सफल हो सकता था। अगर वह दिल्ली जाती तो, वहां पर कुतुब मीनार देख लेती। अगर वर्षा हो जाती तो निश्चित रूप से ही फसल अच्छी हो जाती।

5. हेतु हेतु मद भूतकाल के वाक्य लिखिए?

हेतु हेतु मद भूतकाल के वाक्य निम्नलिखित हैं:- यदि तुम पढ़ते तो परीक्षा पास करते। यदि वर्षा होती तो पैदावार अच्छी होती। अगर सोनी पढ़ती तो अवश्य पास होती। यदि मैं आती तो प्रिया जाती। यदि वर्षा होती तो फसल अच्छी होती। यदि माता जी होती तो खाना बना देतीं। मैं घर पर होता तो चोरी नहीं होती। अगर में जल्दी जाता तो सामान मिल जाता। समय पर आते तो बस नहीं छूटती। अगर धूप आती तो गर्मी बढ़ जाती। बाढ़ आ जाती तो सारा गाँव डूब जाता। यदि श्याम ने पत्र लिखा होता तो मैं अवश्य आता।

पढ़ें हिन्दी व्याकरण के अन्य चैप्टर

भाषा, वर्ण, शब्द, पद, वाक्य, संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, क्रिया विशेषण, समुच्चय बोधक, विस्मयादि बोधक, वचन, लिंग, कारक, पुरुष, उपसर्ग, प्रत्यय, संधि, छन्द, समास, अलंकार, रस

You may like these posts

कारणमाला अलंकार – कारणमालालंकारः – KARAN MALA – ALANKAR

कारणमाला अलंकार (कारणमालालंकारः) परिभाषा: ‘यथोत्तरं चेत्पूर्वस्य पूर्वस्यार्थस्य हेतुता। तदा कारणमाला स्यात्’ – जहाँ अगले-अगले अर्थ के पहले-पहले अर्थ हेतु हों, वहाँ कारणमालालंकार होता है। (यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण(Hindi Grammar) के...Read more !

छ, ज, झ, ट, ठ – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘छ, ज, झ, ट, ठ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं।...Read more !

काल – हिन्दी में काल क्या होते हैं, काल की परिभाषा, भेद, प्रकार और उदाहरण

काल (Tense) : Kaal Hindi Grammar काल किसे कहते है, काल की परिभाषा क्या है, काल के उदाहरण क्या हैं, काल के सभी भेदों और उपभेदों के बारे में सम्पूर्ण...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *