अपूर्ण भूतकाल – परिभाषा, वाक्य और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण

Apurna Bhootkaal

अपूर्ण भूतकाल हिन्दी में – Hindi में Kaal के तीन भेद या प्रकार ‘भूतकाल, वर्तमान काल और भविष्य काल‘ आदि होते है। और भूतकाल को पुनः छः भेदों में विभक्त किया गया है ‘सामान्य भूतकाल, आसन्न भूतकाल, पूर्ण भूतकाल, अपूर्ण भूतकाल, संदिग्ध भूतकाल, हेतु-हेतुमद् भूतकाल’। इस प्रष्ठ में Bhootkaal में से “अपूर्ण भूतकाल” के वाक्य, परिभाषा और उदाहरण आदि की जानकारी दी गई है।

अपूर्ण भूतकाल (Apurna Bhootkaal)

परिभाषा: क्रिया के जिस रूप से काम के भूतकाल में जारी रहने का पता चलता है, उसे अपूर्ण भूतकाल कहते हैं। अर्थात क्रिया भूतकाल में आरंभ हो चुकी हो और अभी पूरी ना हुई हो, बराबर चल रही हो, उसे अपूर्ण भूतकाल (Past Continuous Tense) कहते हैं। जैसे-

  • वर्षा आ रही थी।
  • लड़के आ रहे थे।
  • लड़के आते रहते थे।

पहचान: अपूर्ण भूतकाल के वाक्यों के अंत में रहा था, रही थी, रहे थे आदि आते हैं वे अपूर्ण भूतकाल होते हैं।

संरचना: अपूर्ण भूतकाल की संरचना इस प्रकार होती हैं- धातु + रहा/रहे/रही + था /थे/थी या, धातु + ता/ते/ती + था/थे/थी

अपूर्ण भूतकाल के उदाहरण

1. सीता पढ़ रही थी।

2. श्याम जा रहा था।

3. राधा गीत गा रही थी।

4. ममता तब जा रही थी।

5. मीना नृत्य कर रही थी।

6. बच्चों ने पुस्तक पढ़ी थी।

7. सीता बाजार जा रही थी।

8. राधा पूजा कर रही थी।

9. राम पुरस्कार पा रहा था।

10. कालू भोजन कर रहा था।

11. मोहन मैदान में घूम रहा था।

12. वह हॉकी खेल रहा था।

13. सुनील पढ़ रहा था।

14. राहुल लिख रहा था।

15. बच्चे खेल रहे थे।

16. सुरेश गीत गा रहा था।

17. चिट्ठी लिखी जा रही थी।

18. अनीता खाना खा रही थी।

19. बच्चे नाच रही थे।

20. राहुल सब्जी खरीदने गया था।

21. मैंने उसे आने को कहा था।

22. वैज्ञानिक सूर्यग्रहण का नजारा देख रहे थे।

23. वैज्ञानिक सूर्यग्रहण का नजारा देखते थे।

24. उस समय ताजमहल का निर्माण-कार्य चल रहा था।

25. नैनीताल में मूसलाधार वर्षा हो रही थी।

पढ़ें अन्य भूतकाल के भेद (Kaal in Hindi)

सामान्य भूतकाल, आसन्न भूतकाल, पूर्ण भूतकाल, अपूर्ण भूतकाल, संदिग्ध भूतकाल, हेतु-हेतुमद् भूतकाल

Frequently Asked Questions (FAQ)

1. अपूर्ण भूतकाल की परिभाषा लिखिए?

क्रिया के जिस रुप से क्रिया का भूतकाल में होना पाया जाए, लेकिन पूर्ण हुआ या नहीं ज्ञात न हो, उसे अपूर्ण भूत कहते है। जैसे- मोहन मैदान में घूम रहा था।, वह हॉकी खेल रहा था।, सुनील पढ़ रहा था।

2. अपूर्ण भूतकाल किसे कहते हैं?

ऐसी क्रिया जिसके अंतर्गत इस बात के बारे में पता चलता हो कि कोई भी कार्य भूतकाल में शुरु हो चुका हो और उसकी समाप्ति की कोई भी सूचना प्राप्त ना हुई हो, वह प्रायः अपूर्ण भूतकाल के अंतर्गत आती है। उदाहरण के लिए- बच्चे नाच रही थे।, राधा पूजा कर रही थी।, राहुल सब्जी खरीदने गया था।, मैंने उसे आने को कहा था।

3. अपूर्ण भूतकाल क्या हैं?

इस काल की क्रिया से यह ज्ञात होता है कि भूतकाल में कार्य निरन्तर जारी था। जैसे- रमेश पुस्तक पढ़ रहा था। सुरेश खाना खा रहा था।

4. अपूर्ण भूतकाल के उदाहरण लिखो?

अपूर्ण भूतकाल के उदाहरण निम्नलिखित हैं:- कालू भोजन कर रहा था। मोहन मैदान में घूम रहा था। वह हॉकी खेल रहा था। सुनील पढ़ रहा था। राहुल लिख रहा था। बच्चे खेल रहे थे। सुरेश गीत गा रहा था। चिट्ठी लिखी जा रही थी। अनीता खाना खा रही थी।

5. अपूर्ण भूतकाल के वाक्य लिखिए?

अपूर्ण भूतकाल के वाक्य निम्नलिखित हैं:- सीता पढ़ रही थी। श्याम जा रहा था। राधा गीत गा रही थी। ममता तब जा रही थी। मीना नृत्य कर रही थी। बच्चों ने पुस्तक पढ़ी थी। सीता बाजार जा रही थी। राधा पूजा कर रही थी। राम पुरस्कार पा रहा था।

पढ़ें हिन्दी व्याकरण के अन्य चैप्टर

भाषा, वर्ण, शब्द, पद, वाक्य, संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, क्रिया विशेषण, समुच्चय बोधक, विस्मयादि बोधक, वचन, लिंग, कारक, पुरुष, उपसर्ग, प्रत्यय, संधि, छन्द, समास, अलंकार, रस

You may like these posts

अव्यय – परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Avyay in Hindi

अव्यय जिन शब्दों के रूप में लिंग, वचन, कारक आदि के कारण कोई परिवर्तन नही होता है उन्हें अव्यय (अ + व्यय) या अविकारी शब्द कहते है । अव्यय की...Read more !

समुच्चय बोधक – परिभाषा भेद और उदाहरण, Conjuction In hindi

समुच्चय बोधक समुच्चय बोधक (Conjuction): दो शब्दों या वाक्यों को जोड़ने वाले संयोजक शब्द को समुच्चय बोधक कहते हैं। जिन शब्दों की वजह से दो या दो से ज्यादा वाक्य...Read more !

उपसर्ग (Upsarg) – परिभाषा, भेद और उदाहरण- Upsarg in Hindi

उपसर्ग की परिभाषा संस्कृत एवं संस्कृत से उत्पन्न भाषाओं में उस अव्यय या शब्द को उपसर्ग (prefix) कहते हैं जो कुछ शब्दों के आरंभ में लगकर उनके अर्थों का विस्तार...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *