स्वभावोक्ति अलंकार – Svabhavokti Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

स्वभावोक्ति अलंकार - Svabhavokti Alankar

स्वभावोक्ति अलंकार 

परिभाषा– बालकादि की अपनी स्वाभाविक क्रिया अथवा रूप का वर्णन ही स्वभावोक्ति अलंकार है। अर्थात किसी वस्तु के स्वाभाविक वर्णन को स्वभावोक्ति अलंकार कहते हैं।

यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण(Hindi Grammar) के Alankar के भेदों में से एक हैं।

स्वभावोक्ति अलंकार के उदाहरण

1.

सीस मुकुट कटी काछनी , कर मुरली उर माल।
इहि बानिक मो मन बसौ , सदा बिहारीलाल।।

2.

चितवनी भोरे भाय की गोरे मुख मुसकानी।
लगनी लटकी आलीर गरे चित खटकती नित आनी।।

स्पष्टीकरण– नायक नायिका की सखी से कहता है कि उस नायिका के भोलेपन की चितवन गोरे मुख की हँसी और वह लटक लटक कर सखी के गले लिपटना ये चेष्टाएँ नित्य मेरे चित्त में खटका करती रहती हैं, यहाँ नायिका के चित्रित आँगिक व्यापारों में सभी स्वाभाविक हैं,  इसमें वस्तु दृष्य अथवा चेस्टाओं का स्वाभाविक अंकन हुआ है।

स्वभावोक्ति अलंकारः संस्कृत

“स्वभावोक्तिस्तडिम्भादेः स्वक्रियारूप वर्णनम् ” – पालकादि की अपनी स्वाभाविक क्रिया अथवा रूप का वर्णन ही स्वभावोक्ति
अलंकार है।

उदाहरणस्वरूप :

2.

पश्चादंम्री पसार्य त्रिकनतिविततं द्राधयित्वाङ्गमुच्चः
रासज्यामुग्नकण्ठो मुखमरसि सटां धूलिधम्रा विधूय ।
घासाग्रासाभिलाषादनवरतचलपोथतण्डस्तरङ्गो
मन्दं शब्दायमानो विलिखति शयनादुत्थितः मांखुरेण ।।

स्पष्टीकरण– यहाँ घोड़े की स्वाभाविक क्रियाओं के वर्णन से स्वभावोक्ति अलंकार की छटा दिखती है।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

विसर्ग संधि – परिभाषा, उदाहरण, प्रकार और नियम – Visarg Sandhi, Sanskrit Vyakaran

विसर्ग संधि विसर्ग का स्वर या व्यंजन के साथ मेल होने पर जो परिवर्तन होता है, उसे विसर्ग संधि कहते है। उदाहरण – निः + चय = निश्चय, दुः +...Read more !

विशेषण – परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Visheshan in Hindi

विशेषण (Visheshan in Hindi) संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्दों की विशेषता (गुण, दोष, संख्या, परिमाण आदि) बताने वाले शब्द विशेषण कहलाते हैं। जैसे – बड़ा, काला, लंबा, दयालु, भारी, सुन्दर, कायर,...Read more !

स्थानवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा स्थानवाचक क्रिया विशेषण वे होते हैं जो क्रिया के होने वाली जगह का बोध कराते है। अर्थात जहां क्रिया हो रही है उस जगह का ज्ञान कराने वाले शब्द...Read more !

वचन – परिभाषा, भेद और उदाहरण, Vachan in Hindi

वचन वचन का शाब्दिक अर्थ संख्यावचन होता है। संख्यावचन को ही वचन कहते हैं। वचन का एक अर्थ कहना भी होता है। संज्ञा के जिस रूप से किसी व्यक्ति ,...Read more !

ENGLISH TO SANSKRIT TRANSLATION

‘Translation’ means – Expressing the wospoken in one language in another language Here we discuss how to Translate English language in Sanskrit language – discuss this will do So Sanskrit...Read more !