अन्त्यानुप्रास अलंकार (Antyanupras Alankar)

अन्त्यानुप्रास अलंकार की परिभाषा 

जहाँ अंत में तुक मिलती हो वहाँ पर अन्त्यानुप्रास अलंकार होता है।
यह Alankar, शब्दालंकार के 5 भेदों में से Anupras Alankar का एक भेद हैं।

 अन्त्यानुप्रास अलंकार का उदाहरण 

लगा दी किसने आकर आग।
कहाँ था तू संशय के नाग ? 

Example of Antyanupras Alankar 

लगा दी किसने आकर आग।
कहाँ था तू संशय के नाग ?

अनुप्रास अलंकार के भेद

  1. छेकानुप्रास अलंकार
  2. वृत्यानुप्रास अलंकार
  3. लाटानुप्रास अलंकार
  4. अन्त्यानुप्रास अलंकार
  5. श्रुत्यानुप्रास अलंकार

अनुप्रास अलंकार:जब किसी काव्य को सुंदर बनाने के लिए किसी वर्ण की बार-बार आवृति हो तो वह अनुप्रास अलंकार कहलाता है। किसी विशेष वर्ण की आवृति से वाक्य सुनने में सुंदर लगता है। इस अलंकार में किसी वर्ण या व्यंजन की एक बार या अनेक वणों या व्यंजनों की अनेक धार आवृत्ति होती है। जैसे: –

“कानन कठिन भयंकर भारी, 
घोर घाम वारी ब्यारी।”
जैसा की आप देख सकते हैं ऊपर दिए गए वाक्य में ‘क’, ‘भ’ आदि वर्णों की आवृति हो रही है, एवं हम जानते हैं की जब किसी वाक्य में किसी वर्ण या व्यंजन की एक से अधिक बार आवृति होती है तब वहां अनुप्रास अलंकार होता है। अतएव यह उदाहरण अनुप्रास अलंकार के अंतर्गत आएगा।

जे न मित्र दुख होहिं दुखारी, तिन्हहि विलोकत पातक भारी।
निज दुख गिरि सम रज करि जाना, मित्रक दुख रज मेरु समाना।।

ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा की आप देख सकते हैं यहां ‘द’ वर्ण की बार बार आवृति हो रही है , एवं हम जानते हैं की जब किसी वाक्य में किसी वर्ण या व्यंजन की एक से अधिक बार आवृति होती है तब वहां अनुप्रास अलंकार होता है। अतएव यह उदाहरण अनुप्रास अलंकार के अंतर्गत आएगा।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

कर्म कारक (को) – द्वितीया विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

कर्म कारक – वह वस्तु या व्यक्ति जिस पर वाक्य में की गयी क्रिया का प्रभाव पड़ता है वह कर्म कारक कहलाता है। कर्म कारक का विभक्ति चिन्ह ‘को’ होता...Read more !

वर्तनी – शब्द एवं वाक्य शुद्धीकरण, Shuddh ashuddh – हिन्दी व्याकरण

वर्तनी: किसी शब्द को लिखने मे प्रयुक्त वर्णो के क्रम को वर्तनी या अक्षरी कहते हैं। अँग्रेजी मे वर्तनी को ‘Spelling’ तथा उर्दू मे हिज्जे कहते हैं। किसी भाषा की समस्त...Read more !

तद्धित प्रत्यय (Taddhit Pratyay, तद्धितांत) – संस्कृत व्याकरण

तद्धित प्रत्यय (Taddhit Pratyay) तद्धित प्रत्यय की परिभाषा (Definition of Taddhit Pratyay) जो प्रत्यय धातुओं को छोड़कर अन्य सभी शब्दों (संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण आदि) के अंत में जोड़े जाते है,...Read more !

परिमाणवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा परिमाण वाचक क्रिया विशेषण वे होते हैं जिन क्रियाविशेषण शब्दों से क्रिया के परिमाण अथवा मात्रा से सम्बंधित विशेषता का ज्ञान हो, उन्हें परिमाण वाचक क्रिया विशेषण कहते है...Read more !

Insects meaning and name in Hindi, Sanskrit and English – 52 Kide (Insect) Ke Naam

Insects name in Hindi, Sanskrit and English In this chapter you will know the names of Insect in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Insects name’s List &...Read more !