श, स, ष, ह – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘श, स, ष, ह’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक शब्द भी कहा जाता है। व्यवहार में पर्याय या पर्यायवाची शब्द ही अधिक प्रचलित हैं। विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु पर्यायवाची शब्दों की सूची प्रस्तुत है-

श - पर्यायवाची शब्द

‘श’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
शेर हरि, मृगराज, व्याघ्र, मृगेन्द्र, केहरि, केशरी, वनराज, सिंह, शार्दूल, हरि, मृगराज।
शिव भोलेनाथ, शम्भू, त्रिलोचन, महादेव, नीलकंठ, शंकर।
शरीर देह, तनु, काया, कलेवर, वपु, गात्र, अंग, गात।
शत्रु रिपु, दुश्मन, अमित्र, वैरी, प्रतिपक्षी, अरि, विपक्षी, अराति।
शिक्षक गुरु, अध्यापक, आचार्य, उपाध्याय।
शेषनाग अहि, नाग, भुजंग, व्याल, उरग, पन्नग, फणीश, सारंग।
शुभ्र गौर, श्वेत, अमल, वलक्ष, धवल, शुक्ल, अवदात।
शहद पुष्परस, मधु, आसव, रस, मकरन्द।

ष – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
षंड हीजड़ा, नपुंसक, नामर्द।
षडानन षटमुख, कार्तिकेय, षाण्मातुर।
स - पर्यायवाची शब्द

स – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
सरस्वती गिरा, शारदा, भारती, वीणापाणि, विमला, वागीश, वागेश्वरी।
सेना ऊनी, कटक, दल, चमू, अनीक, अनीकिनी।
साधु सज्जन, भद्र, सभ्य, शिष्ट, कुलीन।
सलिल अम्बु, जल नीर, तोय, सलिल, पानी, वारि।
सगर्भ बंधु, भाई, सजात, सहोदर, भ्राता, सोदर।
सगर्भा भगिनी, सजाता, सहोदर, बहिन, सोदरा।
समुद्र सागर, पयोधि, उदधि, पारावार, नदीश, नीरनिधि, अर्णव, पयोनिधि, अब्धि, वारीश, जलधाम, नीरधि, जलधि, सिंधु, रत्नाकर, वारिधि।
समूह दल, झुंड, समुदाय, टोली, जत्था, मण्डली, वृंद, गण, पुंज, संघ, समुच्चय।
सरस्वती गिरा, भाषा, भारती, शारदा, ब्राह्यी, वाक्, जातरूप, हाटक, वीणापाणि, विमला, वागीश, वागेश्वरी।
सुमन कुसुम, मंजरी, प्रसून, पुष्प, फूल ।
सीता वैदेही, जानकी, भूमिजा, जनकतनया, जनकनन्दिनी, रामप्रिया।
सर्प साँप, अहि, भुजंग, ब्याल, फणी, पत्रग, नाग, विषधर, उरग, पवनासन।
सोना स्वर्ण, कंचन, कनक, सुवर्ण, हाटक, हिरण्य, जातरूप, हेम, कुंदन।
सूर्य रवि, सूरज, दिनकर, प्रभाकर, आदित्य, मरीची, दिनेश, भास्कर, दिनकर, दिवाकर, भानु, अर्क, तरणि, पतंग, आदित्य, सविता, हंस, अंशुमाली, मार्तण्ड।
संसार जग, विश्व, जगत, लोक, दुनिया।
सिंह केसरी, शेर, महावीर, व्याघ्र, पंचमुख, मृगेन्द्र, केहरी, केशी, ललित, हरि, मृगपति, वनराज, शार्दूल, नाहर, सारंग, मृगराज।
सम सर्व, समस्त, सम्पूर्ण, पूर्ण, समग्र, अखिल, निखिल।
समीप सन्निकट, आसन्न, निकट, पास।
सभा अधिवेशन, संगीति, परिषद, बैठक, महासभा।
सुन्दर कलित, ललाम, मंजुल, रुचिर, चारु, रम्य, मनोहर, सुहावना, चित्ताकर्षक, रमणीक, कमनीय, उत्कृष्ट, उत्तम, सुरम्य।
सन्ध्या सायंकाल, शाम, साँझ, प्रदोषकाल, गोधूलि।
स्त्री सुन्दरी, कान्ता, कलत्र, वनिता, नारी, महिला, अबला, ललना, औरत, कामिनी, रमणी।
सुगंधि सौरभ, सुरभि, महक, खुशबू।
स्वर्ग सुरलोक, देवलोक, दिव्यधाम, ब्रह्मधाम, द्यौ, परमधाम, त्रिदिव, दयुलोक।
स्वर्ण सुवर्ण, कंचन, हेन, हारक, जातरूप, सोना, तामरस, हिरण्य।
सहेली अलि, भटू, संगिनी, सहचारिणी, आली, सखी, सहचरी, सजनी, सैरन्ध्री।
संसार लोक, जग, जहान, भूमण्डल, दुनियाँ, भव, जगत, विश्व।
ह - पर्यायवाची शब्द

ह – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
हस्त हाथ, कर, पाणि, बाहु, भुजा।
हिमालय हिमगिरी, हिमाचल, गिरिराज, पर्वतराज, नगपति, हिमपति, नगराज, हिमाद्रि, नगेश।
हिरण सुरभी, कुरग, मृग, सारंग, हिरन।
होंठ अक्षर, ओष्ठ, ओंठ।
हनुमान पवनसुत, पवनकुमार, महावीर, रामदूत, मारुततनय, अंजनीपुत्र, आंजनेय, कपीश्वर, केशरीनंदन, बजरंगबली, मारुति।
हिमांशु हिमकर, निशाकर, क्षपानाथ, चन्द्रमा, चन्द्र, निशिपति।
हंस कलकंठ, मराल, सिपपक्ष, मानसौक।
हृदय छाती, वक्ष, वक्षस्थल, हिय, उर।
हाथ हस्त, कर, पाणि।
हाथी नाग, हस्ती, राज, कुंजर, कूम्भा, मतंग, वारण, गज, द्विप, करी, मदकल।

पर्यायवाची शब्द सूची



इ, ई
उ, ऊ
ऋ,ए,ऐ,ओ,औ





छ,ज,ट,ठ
ड,ढ़,त,थ,द







य,र,ल,व
श,स,ष,ह

Related Posts

यमक अलंकार – परिभाषा, उदाहरण, अर्थ – हिन्दी संस्कृत

यमक अलंकार यमक अलंकार में किसी काव्य का सौन्दर्य बढ़ाने के लिए एक शब्द की बार-बार आवृति होती है। प्रयोग किए गए शब्द का अर्थ हर बार अलग होता है।...Read more !

छ, ज, झ, ट, ठ – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘छ, ज, झ, ट, ठ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं।...Read more !

अनिश्चयवाचक सर्वनाम – Anishchay Vachak Sarvanam : हिन्दी व्याकरण

अनिश्चयवाचक सर्वनाम जिस सर्वनाम से किसी निश्चित व्यक्ति या पदार्थ का बोध नहीं होता, उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- बाहर कोई है। मुझे कुछ नहीं मिला। अथवा जो सर्वनाम...Read more !

रस – परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण, Ras in Hindi

Ras (रस)- रस क्या होते हैं? रस की परिभाषा रस : रस का शाब्दिक अर्थ है ‘आनन्द’। काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनन्द की अनुभूति होती है, उसे...Read more !

विशेषण – परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Visheshan in Hindi

विशेषण (Visheshan in Hindi) संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्दों की विशेषता (गुण, दोष, संख्या, परिमाण आदि) बताने वाले शब्द विशेषण कहलाते हैं। जैसे – बड़ा, काला, लंबा, दयालु, भारी, सुन्दर, कायर,...Read more !