आ – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘आ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक शब्द भी कहा जाता है। व्यवहार में पर्याय या पर्यायवाची शब्द ही अधिक प्रचलित हैं। विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु पर्यायवाची शब्दों की सूची प्रस्तुत है-

आ - पर्यायवाची शब्द

‘आ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द :

शब्द पर्यायवाची
आँख लोचन, अक्षि, नैन, अम्बक, नयन, नेत्र, चक्षु, दृग, विलोचन, दृष्टि, अक्षि।
आकाश नभ, गगन, द्यौ, तारापथ, पुष्कर, अभ्र, अम्बर, व्योम, अनन्त, आसमान, अंतरिक्ष, शून्य, अर्श।
आनंद हर्ष, सुख, आमोद, मोद, प्रसन्नता, आह्राद, प्रमोद, उल्लास।
आश्रम कुटी, स्तर, विहार, मठ, संघ, अखाड़ा ।
आम रसाल, आम्र, अतिसौरभ, मादक, अमृतफल, चूत, सहकार, च्युत (आम का पेड़), सहुकार।
आंसू नेत्रजल, नयनजल, चक्षुजल, अश्रु।
आत्मा जीव, देव, चैतन्य, चेतनतत्तव, अंतःकरण।
आँगन अँगना, अजिरा, प्राङ्गण।
आँधी तूफान, बवंडर, झंझावत, अंधड़।
आईना दर्पण, आरसी, शीशा।
आकाश आसमान, नभ, गगन, व्योम, फलक।
आक्रोश क्रोध, रोष, कोप, रिष, खीझ।
आखेटक शिकारी, बहेलिया, अहेरी, लुब्धक, व्याध।
आगंतुक मेहमान, अतिथि, अभ्यागत।
आग पावक, अनल, अग्नि, बाड़व, वहि।
आचरण चाल-चलन, बर्ताव, व्यवहार, चरित्र।
आचार्य शिक्षक, अध्यापक, प्राध्यापक, गुरु।
आजादी स्वाधीनता, स्वतंत्रता, मुक्ति।
आजीविका व्यवसाय, रोजी-रोटी, वृत्ति, धंधा।
आज्ञा हुक्म, फरमान, आदेश।
आतिथ्य मेहमानदारी, मेजबानी, मेहमाननवाजी, खातिरदारी।
आत्मा रूह, जीवात्मा, जीव, अंतरात्मा।
आदत स्वभाव, प्रकृति, प्रवृत्ति।
आदमी मानव, मनुष्य, मनुज, मानुष, इंसान।
आनन चेहरा, मुखड़ा, मुँह, मुखमंडल, मुख।
आबंटन विभाजन, वितरण, बाँट, वंटन।
आबरू सम्मान, प्रतिष्ठा, इज्जत।
आयु उम्र,वय, जीवनकाल।
आयुष्मान दीर्घायु, दीर्घजीवी, चिरंजीवी, चिरायु।
आरंभ श्रीगणेश, शुभारंभ, प्रारंभ, शुरुआत, समारंभ।
आरसी दर्पण, आईना, मुकुर, शीशा।
आवास निवास-स्थान, घर, निलय, निकेत, निवास।
आवेदन प्रार्थना, याचना, निवेदन।
आशीर्वाद शुभकामना, आशीष, आशिष, दुआ।

पर्यायवाची शब्द सूची



इ, ई
उ, ऊ
ऋ,ए,ऐ,ओ,औ





छ,ज,ट,ठ
ड,ढ़,त,थ,द







य,र,ल,व
श,स,ष,ह

Related Posts

कारणमाला अलंकार – कारणमालालंकारः – KARAN MALA – ALANKAR

कारणमाला अलंकार (कारणमालालंकारः) परिभाषा: ‘यथोत्तरं चेत्पूर्वस्य पूर्वस्यार्थस्य हेतुता। तदा कारणमाला स्यात्’ – जहाँ अगले-अगले अर्थ के पहले-पहले अर्थ हेतु हों, वहाँ कारणमालालंकार होता है। (यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण(Hindi Grammar) के...Read more !

अनुप्रास अलंकार – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण – hindi, sanskrit

अनुप्रास अलंकार अनुप्रास शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – अनु + प्रास। यहाँ पर अनु का अर्थ है- बार -बार और प्रास का अर्थ होता है – वर्ण।...Read more !

उपसर्ग (Upsarg) – परिभाषा, भेद और उदाहरण- Upsarg in Hindi

उपसर्ग की परिभाषा संस्कृत एवं संस्कृत से उत्पन्न भाषाओं में उस अव्यय या शब्द को उपसर्ग (prefix) कहते हैं जो कुछ शब्दों के आरंभ में लगकर उनके अर्थों का विस्तार...Read more !

दृष्टान्त अलंकार – Drashtant Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

दृष्टान्त अलंकार  परिभाषा–जहाँ उपमेय और उपमान के साधारण धर्म में बिम्ब-प्रतिबिम्ब भाव दिखाया जाए, वहाँ दृष्टान्त अलंकार होता है। या  जहाँ दो सामान्य या दोनों विशेष वाक्यों में बिम्ब-प्रतिबिम्ब भाव...Read more !

ध – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘ध’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक...Read more !