क – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘क’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक शब्द भी कहा जाता है। व्यवहार में पर्याय या पर्यायवाची शब्द ही अधिक प्रचलित हैं। विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु पर्यायवाची शब्दों की सूची प्रस्तुत है-

क - पर्यायवाची शब्द

‘क’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
कमल नलिन, अरविन्द, उत्पल, अम्भोज, तामरस, पुष्कर, महोत्पल, वनज, कंज, सरसिज, राजीव, पद्म, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, जलजात, शतदल, पुण्डरीक, इन्दीवर।
किरण गभस्ति, रश्मि, अंशु, अर्चि, गो, कर, मयूख, मरीचि, ज्योति, प्रभा।
कामदेव मदन, मनोज, अनंग, आत्मभू, कंदर्प, दर्पक, पंचशर, मनसिज, केम, रतिपति, पुष्पधन्वा, मन्मथ।
कपड़ा मयुख, वस्त्र, चीर, वसन, पट, अंशु, कर, अम्बर, परिधान।
कुबेर कित्ररेश, यक्षराज, धनद, धनाधिप, राजराज।
किस्मत होनी, विधि, नियति, भाग्य।
कच बाल, केश, कुन्तल, चिकुर, अलक, रोम, शिरोरूह।
कबूतर कपोत, रक्तलोचन, पारावत, कलरव, हारिल।
कण्ठ ग्रीवा, गर्दन, गला, शिरोधरा।
कृपा प्रसाद, करुणा, अनुकम्पा, दया, अनुग्रह।
किताब पोथी, ग्रन्थ, पुस्तक।
किनारा तीर, कूल, कगार, तट।
किसान कृषक, भूमिपुत्र, हलधर, खेतिहर, अन्नदाता।
कृष्ण राधापति, घनश्याम, वासुदेव, माधव, मोहन, केशव, गोविन्द, मुरारी, नन्दनन्दन, राधारमण, दामोदर, ब्रजवल्लभ, गोपीनाथ, मुरलीधर, द्वारिकेधीश, यदुनन्दन, कंसारि, रणछोड़, बंशीधर, गिरधारी।
कान कर्ण, श्रुति, श्रुतिपटल, श्रवण, श्रोत, श्रुतिपुट।
कोयल कोकिला, पिक, केकपाली, बसंतदूत, सारिके, कुहुकिनी, वनप्रिया।
क्रोध रोष, कोप, अमर्ष, गुस्सा, आक्रोश, कोह, प्रतिघात।
केर्तिकेय कुमार, षडानन, शरभव, स्कन्द।
कुत्ता श्वा, श्रवान, कुक्कुर।
कल्पद्रुम देवद्रुम, कल्पवृक्ष, पारिजात, मन्दार, हरिचन्दन।
काक कौआ, वायस, केग, करठ, पिशुन।
कंगाल निर्धन, गरीब, रंक, धनहीन।
कंचन स्वर्ण, सोना, कनक, कुंदन, हिरण्य।
कंजूस कृपण, सूम, मक्खीचूस।
कंटक केँटा, खार, सूल।
कंदरा गुफा, खोह, विवर, गुहा।
कछुआ कच्छप, कमठ, कूर्म।
कटक फौज, सेना, पलटन, लश्कर, चतुरंगिणी।
कद्र मान, सम्मान, इज्जत, प्रतिष्ठा।
कमजोर निर्बल, बलहीन, दुर्बल, मरियल, शक्तिहीन।
कमला लक्ष्मी, महालक्ष्मी, श्री, हरप्रिया।
कर्ज उधार, ऋण, कर्जा, उधारी, कुसीद।
कलानाथ चंद्रमा, कलाधर, सुधाकर, सोम, सुधांशु, हिमांशु, तारापति।
कल्याण भलाई, परहित, उपकेर, भला।
कष्ट तकलीफ, पीड़ा, वेदना, दुःख।
काग कौआ, केगा, काक, वायस।
कातिल खूनी, हत्यारा, घातक।
कामधेनु सुरभि, सुरसुरभि, सुरधेनु।
कायर कायरपुरुष, डरपोक, बुजदिल।
काल समय, वक्त, वेला।
कालकूट जहर, विष, गरल, हलाहल।
काला श्याम, कृष्ण, कलूटा, साँवला, स्याह।
किनारा तट, तीर, कगार, कूल, साहिल।
किरण किरन, अंशु, रश्मि, मयूख।
किरीट ताज, मुकुट, शिरोभूषण।
किश्ती कश्ती, नाव, नौके, नैया।
कीर तोता, सुग्गा, सुआ, शुक।
कुंभ घड़ा, गागर, घट, कलश।
कुसुम पुष्प, फूल, प्रसून, पुहुप।
कृश दुबला, क्षीणकेय, कमजोर, दुर्बल, कृशकेय।
कृषि किसानी, खेतीबाड़ी, केश्तकेरी।
केतन ध्वज, झंडा, पताके, परचम।
केवट मल्लाह, माँझी, खेवैया, नाविक।
केसरी शेर, सिंह, नाहर, वनराज, मृगराज, मृगेंद्र।
कोकिल कोकिला, कोयल, पिक, श्यामा।
कोविद विद्वान, पंडित, विशारद।
कुद्ध नाराज, कुपित, क्रोधित, क्रोधी।
क्रूर बेरहम, बेदर्द, बेदर्दी, बर्बर।
क्षिप्र तीव्र, तेज, द्रुत, शीघ्र, तुरंत।
क्षीण कमजोर, कृश, दुर्बल, अशक्त।
क्षीर दूध, गोरस, दुग्ध।
कीर्ति यश, ख्याति, प्रतिष्ठा, शोहरत, प्रसिद्धि।

पर्यायवाची शब्द सूची



इ, ई
उ, ऊ
ऋ,ए,ऐ,ओ,औ





छ,ज,ट,ठ
ड,ढ़,त,थ,द







य,र,ल,व
श,स,ष,ह

Related Posts

पुरुष – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Purush in hindi

पुरुष की परिभाषा: वे व्यक्ति जो संवाद के समय भागीदार होते हैं, उन्हें पुरुष कहा जाता है। जैसे: मेरा नाम सचिन है। इस वाक्य में वक्ता(सचिन) अपने बारे में बता...Read more !

पुरुषवाचक सर्वनाम – Purush Vachak Sarvanam : हिन्दी व्याकरण

पुरुषवाचक सर्वनाम जो सर्वनाम वक्ता (बोलनेवाले), श्रोता (सुननेवाले) तथा किसी अन्य के लिए प्रयुक्त होता है, उसे पुरूषवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- मैं, तू, वह आदि। अथवा जिन सर्वनाम का...Read more !

दीपक अलंकार – Deepak Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

दीपक अलंकार परिभाषा– जहाँ पर प्रस्तुत और अप्रस्तुत का एक ही धर्म स्थापित किया जाता है वहाँ पर दीपक अलंकार होता है। यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों...Read more !

वृत्यानुप्रास अलंकार (Vratyanupras Alankar)

वृत्यानुप्रास अलंकार की परिभाषा  जब एक व्यंजन की आवर्ती अनेक बार हो वहाँ वृत्यानुप्रास अलंकार कहते हैं। यह Alankar, शब्दालंकार के 5 भेदों में से Anupras Alankar का एक भेद...Read more !

संदेह और भ्रांतिमान अलंकार युग्म में अंतर

संदेह और भ्रांतिमान जहां समानता के कारण अनिश्चय की स्थिति बनी रहती है वहां सन्देह अलंकार होता है। यथा- कैघों व्योम बीथिका भरे हैं भूरि धूमकेतु वीर रस वीर तरवारि...Read more !