भ – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘भ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक शब्द भी कहा जाता है। व्यवहार में पर्याय या पर्यायवाची शब्द ही अधिक प्रचलित हैं। विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु पर्यायवाची शब्दों की सूची प्रस्तुत है-

भ - पर्यायवाची शब्द

‘भ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
भौंरा अलि, मधुव्रत, शिलीमुख, मधुप, मधुकर, द्विरेप, षट्पद, भृंग, भ्रमर।
भोजन खाना, भोज्य सामग्री, खाद्यय वस्तु, आहार।
भय भीति, डर, विभीषिका।
भाई तात, अनुज, अग्रज, भ्राता, भ्रातृ।
भंगुर नाशवान, नश्वर, अनित्य, क्षर, मर्त्य, विनश्वर।
भंडारी रसोइया, खानसामा, महाराज, रसोईदार।
भंवरा भौंरा, भ्रमर, मधुकर, मधुप, मिलिंद, अलि, अलिंद, भृंग।
भक्त आराधक, अर्चक, पुजारी, उपासक, पूजक।
भगिनी बहन, बहना, स्वसा, अग्रजा।
भद्र शिष्ट, शालीन, कुलीन, सभ्य, सलीकेदार, बासलीक़ा।
भरतखंड भारतवर्ष, आर्यावर्त, भारत, हिंदुस्तान, हिंदोस्ताँ।
भरोसा यकीन, विश्वास, ऐतबार, अक़ीदा, आश्वास।
भव संसार, दुनिया, जग, जहाँ, विश्व, खलक, खल्क।
भविष्य भावी, अनागत, भविष्यतकाल, मुस्तकबिल, भविष्यद।
भारती शारदा, सरस्वती, वाग्देवी, वीणावादिनी, विद्या, वागेश्वरी, वागीशा।
भाल मस्तक, पेशानी, माथा, ललाट।
भाला बर्छा, बरछा, नेजा, कुंत, शलाका।
भीष्म गंगापुत्र, शांतनुसुत, भीष्मपितामह, देवव्रत।
भुजा भुज, बाहु, बाँह, बाजू।
भेद फर्क, अंतर, भिन्नता, विषमता।
भ्रष्ट पथभ्रष्ट, पतित, बदचलन, दुश्चरित्र, आचरणहीन।
भ्रू भौंह, भौं, भृकुटि, भँव, त्यौरी।
भूषण जेवर, गहना, आभूषण, अलंकार।

पर्यायवाची शब्द सूची



इ, ई
उ, ऊ
ऋ,ए,ऐ,ओ,औ





छ,ज,ट,ठ
ड,ढ़,त,थ,द







य,र,ल,व
श,स,ष,ह

Paryayvachi Shabd

You may like these posts

अन्त्यानुप्रास अलंकार (Antyanupras Alankar)

अन्त्यानुप्रास अलंकार की परिभाषा जहाँ अंत में तुक मिलती हो वहाँ पर अन्त्यानुप्रास अलंकार होता है। यह Alankar, शब्दालंकार के 6 भेदों में से Anupras Alankar का एक भेद हैं।...Read more !

सन्देह अलंकार – Sandeh Alankar – परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

सन्देह अलंकार परिभाषा: रूप-रंग, आदि के साद्रश्य से जहां उपमेय में उपमान का संशय बना रहे या उपमेय के लिए दिए गए उपमानों में संशय रहे, वहाँ सन्देह अलंकार होता...Read more !

उत्प्रेक्षा अलंकार – Utpreksha Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

उत्प्रेक्षा अलंकार जहाँ पर उपमान के न होने पर उपमेय को ही उपमान मान लिया जाए। अथार्त जहाँ पर अप्रस्तुत को प्रस्तुत मान लिया जाए वहाँ पर उत्प्रेक्षा अलंकार होता...Read more !