निजवाचक सर्वनाम – Nij Vachak Sarvanam : हिन्दी व्याकरण

निजवाचक सर्वनाम

वह सार्वनामिक शब्द जो स्वयं के लिए प्रयोग करते हैं जैसे – आप , अपना आदि जिससे स्वयं का बोध हो वह निजवाचक कहलाते हैं।
अथवा
जो सर्वनाम तीनों पुरूषों (उत्तम, मध्यम और अन्य) में निजत्व का बोध कराता है, उसे निजवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- मैं खुद लिख लूँगा। तुम अपने आप चले जाना। वह स्वयं गाडी चला सकती है। उपर्युक्त वाक्यों में खुद, अपने आप और स्वयं शब्द निजवाचक सर्वनाम हैं।

प्रयोग की दृष्टि से सर्वनाम के 6 प्रकार हैं। अर्थात सर्वनाम के 6 भेद होते हैं। जो इस प्रकार हैं- पुरुषवाचक सर्वनाम, निश्चयवाचक सर्वनाम, अनिश्चयवाचक सर्वनाम, संबंधवाचक सर्वनाम, प्रश्नवाचक सर्वनाम, निजवाचक सर्वनाम

निजवाचक सर्वनाम के उदाहरण

  • मैं अपना कार्य स्वयं करता हूं।
  • मेरी माता भोजन अपने आप बनाती है।
  • मैं अपनी गाड़ी से जाऊंगा।
  • मैं अपने पिताजी के साथ जाऊंगा।

अपना ‘ , ‘ अपनी ‘ , ‘ आप  ‘ जिस सार्वनामिक शब्दों से अपने या अपने तो का बोध हो उसे निजवाचक कहते हैं।

***

सर्वनाम के भेद: प्रयोग की दृष्टि से सर्वनाम के 6 प्रकार हैं। अर्थात सर्वनाम के 6 भेद होते हैं। जो इस प्रकार हैं-

  1. पुरुषवाचक सर्वनाम
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम
  3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  4. संबंधवाचक सर्वनाम
  5. प्रश्नवाचक सर्वनाम
  6. निजवाचक सर्वनाम
nij vachak sarvanam
nijvachak sarvanam

You may like these posts

काव्यलिंग अलंकार – Kavyalinga Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

काव्यलिंग अलंकार परिभाषा: हेतु का वाक्यार्थ अथवा पदार्थ रूप में कथन करना ही काव्यलिङ्गालङ्कार है। अर्थात जहाँ पर किसी युक्ति से समर्थित की गयी बात को काव्यलिंग अलंकार कहते हैं...Read more !

प्रश्नवाचक सर्वनाम – Prashn Vachak Sarvanam : हिन्दी व्याकरण

प्रश्नवाचक सर्वनाम वाक्य में प्रयुक्त वह शब्द जिससे किसी व्यक्ति , वस्तु अथवा स्थान के विषय में प्रश्न उत्पन्न हो, उसे प्रश्नवाचक कहते हैं। जैसे- क्या, कौन, कहां ,  कब, ...Read more !

अतिश्योक्ति अलंकार – Atisanyokti Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

अतिश्योक्ति अलंकार  परिभाषा- जहाँ किसी वस्तु का इतना बढ़ा-चढ़ाकर वर्णन किया जाए कि सामान्य लोक सीमा का उल्लंघन हो जाए वहाँ अतिशयोक्ति अलंकार होता है। अर्थात जब किसी व्यक्ति या वस्तु...Read more !