प – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘प’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक शब्द भी कहा जाता है। व्यवहार में पर्याय या पर्यायवाची शब्द ही अधिक प्रचलित हैं। विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु पर्यायवाची शब्दों की सूची प्रस्तुत है-

प - पर्यायवाची शब्द

‘प’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
पति भर्ता, वल्लभ, स्वामी, प्राणाधार, प्राणप्रिय, प्राणेश, आर्यपुत्र।
पत्नी भार्या, दारा, बेगम, कलत्र, प्राणप्रिया, वधू, वामा, अर्धांगिनी, सहधर्मिणी, गृहणी, बहु, वनिता, जोरू, वामांगिनी।
पक्षी खेचर, दविज, पतंग, पंछी, खग, विहग, परिन्दा, शकुन्त, अण्डज, चिडिया, गगनचर, पखेरू, विहंग, नभचर।
पर्वत पहाड़, गिरि, अचल, भूमिधर, तुंग आद्रि, शैल, धरणीधर, धराधर, नग, भूधर, महीधर।
पण्डित सुधी, विद्वान, कोविद, बुध, धीर, मनीषी, प्राज्ञ, विचक्षण।
पुत्र बेटा, लड़का, आत्मज, सुत, वत्स, तनुज, तनय, नंदन।
पुत्री बेटी, आत्मजा, तनूजा, दुहिता, नन्दिनी, लड़की, सुता, तनया।
पृथ्वी धरा, धरती, भू, इला, उर्वी, धरित्री, धरणी, अवनि, मेदिनी, क्षिति, मही, वसुंधरा, वसुधा, जमीन, भूमि।
पुष्प फूल, सुमन, कुसुम, मंजरी, प्रसून, पुहुप।
पानी जल, नीर, सलिल, अंबु, अंभ, उदक, तोय, जीवन, वारि, पय, अमृत, मेघपुष्प, सारंग।
पार्वती अपर्णा, अंबिका, आर्या, उमा, गौरी, गिरिजा, भवानी, रुद्राणी, शिवा।
परिवार कुटुंब, कुनबा, खानदान, घराना।
परिवर्तन बदलाव, हेरफेर, तबदीली, फेरबदल।
पत्थर पाहन, पाषाण, प्रस्तर, उपल।
पथ मग, मार्ग, राह, पंथ, रास्ता।
पिता जनक, तात, पितृ, बाप।
प्रकाश ज्योति, चमक, प्रभा, छवि, द्युति।
पेड़ तरु, द्रुम, वृक्ष, पादप, रुक्ष।
पैर पाँव, पद, चरण, पाद, पग।
पंक कीचड़, कीच, कर्दम, चहला।
पंकज कमल, राजीव, पद्म, सरोज, नलिन, जलज।
पंख डैना, पक्ष, पर, पखौटा, पाँख।
पंगु अपाहिज, लंगड़ा, विकलांग, अपंग।
पत्ता पत्ती, पात, पाती, पल्लव, पर्ण।
पथिक राही, राहगीर, यात्री, बटोही, मुसाफिर, पंथी।
परवाना फतिंगा, पतंगा, शलभ, फुनगा, भुनगा।
परिणति नतीजा, अंजाम, फल, परिणाम।
परिणय शादी, विवाह, ब्याह, पाणिग्रहण।
परोपकार परहित, भलाई, नेकी, परकाज, परमार्थ, परार्थ।
पर्जन्य बादल, मेघ, घनश्याम, नीरद, वारिद, जलद।
पर्याय समानार्थी, एकार्थी, एकार्थवाची।
पलटन सेना, आर्मी, लश्कर, चमू, फौज।
पहेली प्रहेलिका, मुअम्मा, मुकरी, कूटप्रश्न, बुझौवल।
पाठशाला स्कूल, विद्यापीठ, विद्यालय, मदरसा।
पातक पाप, गुनाह, अघ, कल्मष।
पावस वर्षाकाल, वर्षाऋतु, बारिस।
पाशविक अमानवीय, बर्बर, क्रूर, अमानुषिक, पैशाचिक।
पाहुना मेहमान, अतिथि, पाहुन, अभ्यागत।
पिक कोयल, कोकिला, कोयलिया।
पृष्ठ पेज, वर्क, सफहा, सफा, पन्ना।
पौ सवेरा, सुबह, भोर, प्रातः।
पौरस्त्य पूरबी, पूर्वी, प्राच्य, मशरिक़ी।
प्रजा जनता, रिआया, रैयत, परजा।
प्रतिदिन रोजाना, हर दिन, हर रोज, रोज, रोज के पर्यायवाची -रोज।
प्रतियोगिता स्पर्धा, प्रतिस्पर्धा, मुकाबला, होड़।
प्रवाद अफवाह, किंवदंती, जनश्रुति।
प्रहरी द्वारपाल, पहरेदार, प्रतिहारी, दरबान, चौकीदार।
प्राज्ञ विद्वान, महाज्ञानी, बुद्धिमान, चतुर।
प्रासाद महल, राजमहल, राजनिवास, राजभवन।
प्रेक्षागृह नाट्यगृह, छविगृह, नाट्यशाला, रंगशाला, रंगभूमि, रंगस्थली।
पवन वायु, हवा, समीर, वात, मारुत, अनिल, पवमान, समीरण, स्पर्शन।

पर्यायवाची शब्द सूची



इ, ई
उ, ऊ
ऋ,ए,ऐ,ओ,औ





छ,ज,ट,ठ
ड,ढ़,त,थ,द







य,र,ल,व
श,स,ष,ह

Related Posts

तत्सम-तद्भव (Tatsam-Tadbhav) शब्द, परिभाषा, पहचानने के नियम और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण

तत्सम-तद्भव: संस्कृत भाषा के कुछ शब्द ऐसे होते हैं जो हिंदी में भी बिना परिवर्तन के प्रयुक्त होते हैं। उन शब्दों को तत्सम शब्द कहते हैं। तद्भव शब्द वे शब्द...Read more !

लाटानुप्रास अलंकार (Latanupras Alankar)

लाटानुप्रास अलंकार की परिभाषा जहाँ शब्द और वाक्यों की आवर्ती हो तथा प्रत्येक जगह पर अर्थ भी वही पर अन्वय करने पर भिन्नता आ जाये वहाँ लाटानुप्रास अलंकार होता है।...Read more !

अव्यय – परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Avyay in Hindi

अव्यय जिन शब्दों के रूप में लिंग, वचन, कारक आदि के कारण कोई परिवर्तन नही होता है उन्हें अव्यय (अ + व्यय) या अविकारी शब्द कहते है । अव्यय की...Read more !

श्लेष अलंकार – Shlesh Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

श्लेष अलंकार की परिभाषा जहाँ पर कोई एक शब्द एक ही बार आये पर उसके अर्थ अलग अलग निकलें वहाँ पर श्लेष अलंकार होता है। अर्थात श्लेष का अर्थ होता...Read more !

यमक और श्लेष अलंकार युग्म में अंतर

यमक और श्लेष यमक अलंकार में शब्द एक से अधिक बार प्रयुक्त होता है और प्रत्येक बार उसका अर्थ अलग होता है; यथा- नगन जड़ाती थीं वे नगन जड़ाती हैं।...Read more !