म – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘म’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक शब्द भी कहा जाता है। व्यवहार में पर्याय या पर्यायवाची शब्द ही अधिक प्रचलित हैं। विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु पर्यायवाची शब्दों की सूची प्रस्तुत है-

म - पर्यायवाची शब्द

‘म’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
मछली मीन, मत्स्य, झख, झष, जलजीवन, शफरी, मकर।
महादेव शम्भु, ईश, पशुपति, शिव, महेश्र्वर, शंकर, चन्द्रशेखर, भव, भूतेश, गिरीश, हर, त्रिलोचन।
मेघ घन, जलधर, वारिद, बादल, नीरद, वारिधर, पयोद, अम्बुद, पयोधर।
मुनि यती, अवधूत, संन्यासी, वैरागी, तापस, सन्त, भिक्षु, महात्मा, साधु, मुक्तपुरुष।
मित्र सखा, सहचर, स्नेही, स्वजन, सुहृदय, साथी, दोस्त।
मोर केक, कलापी, नीलकंठ, शिखावल, सारंग, ध्वजी, शिखी, मयूर, नर्तकप्रिय।
मनुष्य आदमी, नर, मानव, मानुष, जन, मनुज।
मदिरा शराब, हाला, आसव, मधु, मद्य, वारुणी, सुरा, मद।
मधु शहद, रसा, शहद, कुसुमासव।
मृग हिरण, सारंग, कृष्णसार।
माता जननी, माँ, अंबा, जनयत्री, अम्मा।
मूर्ख गँवार, अल्पमति, अज्ञानी, अपढ़, जड़।
मृत्यु देहांत, मौत, अंत, स्वर्गवास, निधन, देहावसान, पंचत्व, इंतकाल, काशीवास, गंगालाभ, निर्वाण, मरण।
माँ अंबा, अम्बिका, अम्मा, जननी, धात्री, प्रसू।
मुर्गा तमचूक, अरुणशिखा, ताम्रचूड़, कुक्कुट।
मग पन्थ, मार्ग, बाट, पथ, राह।
मूढ़ मूर्ख, अज्ञानी, निर्बुद्धि, जड़, गंवार।
मैना सारी, सारिका, त्रिलोचना, मधुरालाषा, कलहप्रिया।
मूँगा प्रवाल, रक्तांग, विद्रुम, रक्तमणि।
मंजुल मोहक, मनोहर, आकर्षक, शोभनीय, सुंदर।
मंजूषा संदूक, बक्स, पिटारी, पिटक, पेटी, झाँपी।
मंतव्य अभिमत, सम्मति, राय, सलाह, विचार।
मंसूख रद्द, निरस्त, ख़ारिज, निरसित।
मकड़ी मकरी, लूता, लूतिका, लूत।
मकतब स्कूल, पाठशाला, विद्यालय, विद्यापीठ।
मकर मगर, मगरमच्छ, घड़ियाल, नक्र, ग्राह, झषराज।
मजार मकबरा, समाधि, कब्र, इमामबाड़ा।
मटका कुंभ, झट, घड़ा, कलश।
मत्सर द्वेष, ईर्ष्या, कुढ़न, जलन, डाह।
मनीषा मति, बुद्धि, मेधा, प्रज्ञा, विचार।
मयूख किरन, किरण, रश्मि, अंशु, मरीचि।
मरघट मसान, मुर्दघाट, श्मशान, श्मशानघाट।
मरहूम स्वर्गवासी, मृत, गोलोकवासी, दिवंगत।
मराल हंस, राजहंस, सितपक्ष, धवलपक्ष।
मरुत पवन, वायु, हवा, वात, समीर, मारुत।
मर्कट बंदर, कपि, कीश, वानर, शाखामृग।
मशहूर नामी, प्रसिद्ध, ख्यात, विख्यात, ख्यातिप्राप्त, प्रख्यात।
महक खुशुबू, सुवास, सुगंध, सुगंधि, सौरभ।
महाभारत भारत, जयकाव्य, पंचमवेद, जय, महायुद्ध।
महावत हाथीवान, पीलवान, फीलवान, आकुंशिक।
मिथुन युग्म, युगल, जोड़ा, यमल।
मुकुट ताज, उष्णीष, किरीट, राजमुकुट।
मुकुल कलिका, कली, शिगूफा, कोरक, गुंजा।
मुगालता भ्रांति, भ्रम, गलतफ़हमी, मतिभ्रम।
मुदर्रिस शिक्षक, अध्यापक, गुरु, आचार्य, उस्ताद।
मृषा मिथ्या, झूठ, असत्य, अनृत।
मोक्ष मुक्ति, परधाम, निर्वाण, कैवल्य, सद्गति, निर्वाण, परमपद, अपवर्ग।

पर्यायवाची शब्द सूची



इ, ई
उ, ऊ
ऋ,ए,ऐ,ओ,औ





छ,ज,ट,ठ
ड,ढ़,त,थ,द







य,र,ल,व
श,स,ष,ह

Related Posts

दृष्टान्त अलंकार – Drashtant Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

दृष्टान्त अलंकार  परिभाषा–जहाँ उपमेय और उपमान के साधारण धर्म में बिम्ब-प्रतिबिम्ब भाव दिखाया जाए, वहाँ दृष्टान्त अलंकार होता है। या  जहाँ दो सामान्य या दोनों विशेष वाक्यों में बिम्ब-प्रतिबिम्ब भाव...Read more !

ग – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘ग’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक...Read more !

व्यतिरेक अलंकार – Vyatirek Alankar परिभाषा और उदाहरण – हिन्दी & संस्कृत

व्यतिरेक अलंकार  परिभाषा: जहाँ कारण बताते हुए उपमेय की श्रेष्ठता उपमान से बताई जाए वहाँ व्यतिरेक अलंकार होता है। व्यतिरेक का शाब्दिक अर्थ होता है आधिक्य। व्यतिरेक में कारण का...Read more !

हिन्दी की प्रमुख रचनाएँ और कवि – हिन्दी व्याकरण

हिन्दी की रचनाएँ और उनके लेखक रचना: रचना शब्द ‘composition’ का हिन्दी रूपान्तरण है। भाषा के क्षेत्र में रचना के अन्तर्गत भावों व विचारों को शब्द-समूहों में सँवारते है। विचारों...Read more !

RAS KE PRAKAR – रस के प्रकार – स्थायी भाव, रस और भाव

रस नौ प्रकार के होते हैं – वात्सल्य रस को दसवाँ एवं भक्ति रस को ग्यारहवाँ रस भी माना गया है, वत्सलता तथा भक्ति इनके स्थायी भाव हैं। भरतमुनी ने...Read more !