ड , ढ़ , त , थ , द – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘ड , ढ़ , त , थ , द’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक शब्द भी कहा जाता है। व्यवहार में पर्याय या पर्यायवाची शब्द ही अधिक प्रचलित हैं। विद्यार्थियों के अध्ययन हेतु पर्यायवाची शब्दों की सूची प्रस्तुत है-

ड  -  पर्यायवाची शब्द

‘ड’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
डंडा सोंटा, छड़ी, लाठी।
डाली भेंट, उपहार।
डंका नगाड़ा, भेरी, दुंदभि, धौंसा।
डंस मच्छर, मस, डाँस, मच्छड़।
डगर राह, रास्ता, पथ, मार्ग, पंथ।
डर खौफ, भय, दहशत, भीति।
डाकू दस्यु, लुटेरा, डकैत, बटमार, राहजन।
डाल डाली, टहनी, वृंत, शाखा।
डाह द्वेष, ईर्ष्या, जलन, कुढ़न।
डोली पालकी, डोला, मियाना।
ढ़ -  पर्यायवाची शब्द

‘ढ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
ढब ढंग, रीति, तरीका, ढर्रा।
ढाँचा पंजर, ठठरी।
ढील शिथिलता, सुस्ती, अतत्परता।
ढूँढ खोज, तलाश।
ढँग शऊर, सलीका, कायदा, तौरतरीका।
ढिंढोरा मुनादी, ढँढोरा, डुगडुगी, डौंड़ी।
ढिग समीप, निकट, पास, आसन्न।
ढिबरी दीया, चिराग, डिबिया, लैंप।
ढीठ धृष्ट, उद्दंड, दुस्साहसी।
ढोंग पाखंड, प्रपंच, आडम्बर, ढोंगबाजी।
ढोल ढोलकी, ढोलक, पटह, प्रणव।
ढोर चौपाया, मवेशी।
त -  पर्यायवाची शब्द

‘त’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
तालाब सरोवर, जलाशय, सर, पुष्कर, ह्रद, पद्याकर , पोखरा, जलवान, सरसी, तड़ाग।
तोता सुग्गा, शुक, सुआ, कीर, रक्ततुण्ड, दाड़िमप्रिय।
तरुवर वृक्ष, पेड़, द्रुम, तरु, विटप, रूंख, पादप।
तलवार असि, कृपाण, करवाल, खड्ग, शमशीर चन्द्रहास।
तरकस तूण, तूणीर, त्रोण, निषंग, इषुधी।
तामरस कमल, पंकज, सरसिज, नीरज, पुण्डरीक, इन्दीवर।
तिमिर तम, अंधकार, अंधेरा, तमिस्त्रा।
तंगदस्त तंगहाल, गरीब, फटेहाल, निर्धन।
तंज कटाक्ष, ताना, व्यंग्य, फबती, छींटाकशी।
तंदुल धान, चावल, अक्षत, चाउर।
तकदीर किस्मत, मुकद्दर, नसीब, भाग्य, प्रारब्ध।
तट कगार, किनारा, कूल, तीर, साहिल।
तटिनी नदी, सरिता, दरिया, सलिला, तरंगिणी।
तड़ाग जलाशय, सरोवर, तालाब, पोखर।
तड़ित विद्युत, बिजली, दामिनी, सौदामिनी, गाज।
तथागत बुद्ध, सिद्धार्थ, बोधिसत्व, गौतम।
तदबीर तरकीब, उपाय, युक्ति।
तन काया, देह, शरीर, बदन, तनु।
तपस्वी तापस, मुनि, संन्यासी, तपसी, बैरागी।
तपेदिक टी.बी., दिक, यक्ष्मा, राजयक्ष्मा।
तबाह ध्वस्त, नष्ट, बरबाद।
तम अँधेरा, अंधकार, तिमिर, अँधियारा।
तमा रजनी, रात, निशा, रात्रि।
तमारि सूरज, सूर्य, दिवाकर, दिनकर, आदित्य, भानु, भास्कर।
तरनी नौका, नाव, किश्ती, नैया।
तरुण युवक, युवा, जवान, नौजवान।
तरुणाई युवावस्था, यौवन, जवानी, जोबन।
तहजीब संस्कृति, सभ्यता, तमद्दुन।
तिजारत व्यवसाय, व्यापार, सौदागरी।
तिरिया स्त्री, औरत, महिला, ललना।
तीमारदारी सेवाटहल, परिचर्या, सेवासुश्रूषा।
तुरंग घोड़ा, अश्व, हय, घोटक, तुरग।
तुला तराजू, काँटा, धर्मकाँटा।
त्वचा चर्म, चमड़ा, चमड़ी, खाल।
तीर शर, बाण, विशिख, शिलीमुख, अनी, सायक।
थ -  पर्यायवाची शब्द

‘थ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
थोड़ा अल्प, न्यून, जरा, कम।
थाती जमापूँजी, धरोहर, अमानत।
थाक ढेर, समूह।
थप्पड़ तमाचा, झापड़।
थकान थकावट, श्रांति, क्लांति।
थल स्थान, स्थल, भूमि, जगह।
थवई राज, राजगीर, मिस्त्री, राजमिस्त्री।
थोथा सारहीन, खोखला, खाली।
थोबड़ा मुखड़ा, मुँह, थूथन।
थंभ खंभ, खंभा, स्तम्भ।
द -  पर्यायवाची शब्द

‘द’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द

शब्द पर्यायवाची
दूध दुग्ध, दोहज, पीयूष, क्षीर, पय, गौरस, स्तन्य।
दास नौकर, चाकर, सेवक, परिचारक, अनुचर, भृत्य, किंकर।
दुःख पीड़ा, कष्ट, व्यथा, वेदना, संताप, संकट, क्लेश, यातना, यन्तणा, शोक, खेद, पीर,।
देवता सुर, देव, अमर, वसु, आदित्य, निर्जर, त्रिदश, गीर्वाण, अदितिनंदन, अमर्त्य, अस्वप्न, आदितेय, दैवत, लेख, अजर, विबुध।
द्रव्य धन, वित्त, सम्पदा, विभूति, दौलत, सम्पत्ति।
दैत्य असुर, इंद्रारि, दनुज, दानव, दितिसुत, दैतेय, राक्षस।
दधि दही, गोरस, मट्ठा, तक्र।
दरिद्र निर्धन, ग़रीब, रंक, कंगाल, दीन।
दिन दिवस, याम, दिवा, वार, प्रमान, वासर, अह्न।
दीन ग़रीब, दरिद्र, रंक, अकिंचन, निर्धन, कंगाल।
दीपक दीप, दीया, प्रदीप।
दुष्ट पापी, नीच, दुर्जन, अधम, खल, पामर।
दाँत दशन, रदन, रद, द्विज, दन्त, मुखखुर।
दर्पण शीशा, आरसी, आईना, मुकुर।
दुर्गा चंडिका, भवानी, कुमारी, कल्याणी, सिंहवाहिनी, कामाक्षी, सुभद्रा, महागौरी, कालिका, शिवा, चण्डी, चामुण्डा।
दया अनुकंपा, अनुग्रह, करुणा, कृपा, प्रसाद, संवेदना, सहानुभूति, सांत्वना।
देव अमर, देवता, सुर, निर्जर, वृन्दारक, आदित्य।
दंगल कुश्ती, मल्लयुद्ध, पहलवानी, बाहुयुद्ध।
दक्ष निपुण, प्रवीण, चतुर, कुशल, होशियार।
दनुज असुर, दानव, दैत्य, राक्षस, निशाचर।
दम ताकत, बल, शक्ति, दमखम।
दर भाव, मूल्य, रेट, कीमत।
दरख्त वृक्ष, तरु, पेड़, विटप, द्रुम।
दरियादिल उदार, दानी, दानशील, फ़राख़दिल।
दरीचा खिड़की, गवाक्ष, झरोखा।
दशकंधर दशानन, लंकापति, दशकंठ, रावण।
दशरथ अवधेश, कौशलपति, दशस्यंदन, रावण।
दस्तूर रीति के पर्यायवाची – रिवाज, प्रथा, परंपरा, चलन।
दादा पितामह, बाबा, आजा।
दादुर मेंढक, मंडूक, भेक।
दारा बीवी, पत्नी, अर्धांगिनी, वामांगिनी, गृहणी।
दिनकर सूरज, सूर्य, भानु, भास्कर, दिवाकर, रवि, दिवेश, दिनेश।
दिवंगत स्वर्गीय, मृत, मरहूम, परलोकवासी।
दीदा नेत्र, नयन, आँख, चक्षु।
दुनिया जग, जगत, खलक, जहान, विश्व, संसार, भव।
दुर्गुण अवगुण, ऐब, बुराई, खामी।
दुर्जन दुष्ट, खल, शठ, असज्जन।
दुर्भिक्ष अकाल, दुकाल, दुष्काल, सूखा।
दुर्लभ अलभ्य, दुष्प्राप्य, अप्राप्य।
दुविधा कशमकश, पशोपेश, असमंजस, अनिश्चय।
दुश्मन रिपु, वैरी, अरि, शत्रु, बैरी।
दुष्कर कठिन, दुसाध्य, दूभर, मुश्किल।
देश राष्ट्र, राज्य, मुल्क।
देशज देशजात, देशीय, देशी, मुल्की, वतनी।
देशाटन यात्रा, विहार, पर्यटन, देशभ्रमण।
देहाती ग्रामवासी, ग्रामीण, ग्राम्य।
द्राक्षा अंगूर, दाख, रसा, रसाला।
द्वेषी विद्वेषी, ईर्ष्यालु, विरोधी।
द्वैत जोड़ा, युगल, द्वय, यमल, युग, युति।
द्वैपायन वेदव्यास, व्यास, पाराशर, कृष्ण।
देह काया, तन, शरीर, वपु, गात।

पर्यायवाची शब्द सूची



इ, ई
उ, ऊ
ऋ,ए,ऐ,ओ,औ





छ,ज,ट,ठ
ड,ढ़,त,थ,द







य,र,ल,व
श,स,ष,ह

Related Posts

विशेषोक्ति अलंकार – Visheshokti Alankar परिभाषा, उदाहरण – हिन्दी

विशेषोक्ति अलंकार  परिभाषा: संपूर्ण कारणों के होने पर भी फल का न कहना विशेषोक्ति है। अर्थात काव्य में जहाँ कार्य सिद्धि के समस्त कारणों के विद्यमान रहते हुए भी कार्य...Read more !

फ – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘फ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym words) कहते हैं। इन्हें प्रतिशब्द या समानार्थक...Read more !

RAS KE PRAKAR – रस के प्रकार – स्थायी भाव, रस और भाव

रस नौ प्रकार के होते हैं – वात्सल्य रस को दसवाँ एवं भक्ति रस को ग्यारहवाँ रस भी माना गया है, वत्सलता तथा भक्ति इनके स्थायी भाव हैं। भरतमुनी ने...Read more !

विरोधाभाष अलंकार – Virodhabhash Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

विरोधाभाष अलंकार  परिभाषा– जहाँ वास्तविक विरोध न होकर केवल विरोध का आभास हो, वहाँ विरोधाभास अलंकार होता है। अर्थात जब किसी वस्तु का वर्णन करने पर विरोध न होते हुए...Read more !

लाटानुप्रास अलंकार (Latanupras Alankar)

लाटानुप्रास अलंकार की परिभाषा जहाँ शब्द और वाक्यों की आवर्ती हो तथा प्रत्येक जगह पर अर्थ भी वही पर अन्वय करने पर भिन्नता आ जाये वहाँ लाटानुप्रास अलंकार होता है।...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.