प्रमुख दर्शन और उनके प्रवर्तक – Darshan & Pravartak

DARSHAN AUR PRAVARTAK

Darshan 

 दर्शन (Philosophy): दर्शन उस विधा को कहा जाता है जिसके द्वारा तत्व का साक्षात्कार हो सके, दर्शन का अर्थ है तत्व का साक्षात्कार; मानव के दुखों की निवृति के लिए या तत्व साक्षात्कार कराने के लिए ही भारत में दर्शन का जन्म हुआ है। हिन्दी साहित्य के प्रमुख दर्शन और उनके प्रवर्तक की सूची नीचे दी हुई है।

दर्शन और प्रवर्तक

क्रम दर्शन प्रवर्तक
1. सांख्य कपिल
2. योग पतंजलि
3. न्याय अक्षपाद गौतम
4. वैशेषिक उलूक कणद
5. मीमांसा/पूर्व-मीमांसा जैमिनी
6. वेदांत/उत्तर मीमांसा बादरायण
7. लोकायत/बार्हस्पत्य चार्वाक (बृहस्पति का शिष्य)
8. बौद्ध/क्षणिकवाद गौतम बुद्ध
9. जैन/स्यादवाद महावीर
10. अद्वैत मत (स्मृति/स्मार्त संप्रदाय) शंकराचार्य (भक्ति आंदोलन की पृष्ठभूमि तैयार करने वाला)
11. विशिष्टाद्वैत मत (श्री संप्रदाय) मानुज आचार्य (भक्ति आंदोलन का प्रारंभिक प्रतिपादक)
12. द्वैताद्वैत/भेदाभेद मत (सनकादि/रसिक संप्रदाय) निम्बार्क आचार्य
13. द्वैत मत (ब्रह्म संप्रदाय) मध्व आचार्य
14. शुद्धाद्वैत मत (रूद्र संप्रदाय) विष्णु स्वामी
15. पुष्टिमार्ग/शुद्धाद्वैत मत (रूद्र संप्रदाय) वल्लभ आचार्य
16. अचिंत्यभेदाभेद मत (गौड़ीय वैष्णव संप्रदाय) चैतन्य
17. राधा वल्लभ संप्रदाय हित हरिवंश
18. रामावत/रामानंदी संप्रदाय रामानंद
19. कबीर पंथी संप्रदाय कबीर
20. सिख मत (नानक पंथी संप्रदाय) नानक
21. उदासी संप्रदाय श्रीचंद (गुरु नानक के पुत्र)
22. बिश्नुई संप्रदाय जंभनाथ
23. हरिदासी (सखी) संप्रदाय स्वामी हरिदास

परीक्षा की द्रष्टि से दर्शन और प्रवर्तक का महत्व 

हिन्दी साहित्य के प्रमुख दर्शन और उनके प्रवर्तक वहुत ही महत्वपूर्ण हैं। ये दर्शन और उनके प्रवर्तक विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं। अतः इन्हे अपनी नोटबूक में लिख लें और याद कर लें। यदि जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर अवश्य करें।

Related Posts

कुमाउनी, गढ़वाली, मेवाती – पहाड़ी हिन्दी की बोलियाँ – हिन्दी भाषा

पहाड़ी हिन्दी पहाड़ी का विकास ‘खस’ प्राकृत से माना जाता है। सर जार्ज ग्रियर्सन ने इसे  ‘मध्य पहाड़ी’ नाम से सम्बोधित किया है। पहाड़ी हिन्दी कुमाऊँ और गढ़वाल प्रदेश की...Read more !

Relations Name (rishton, sambandhiyon ke naam) in Hindi Sanskrit and English – Chart, List, Table

In this chapter you will know the names of Relations Name (rishton, sambandhiyon ke naam) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Relations’ Name’s List & Table...Read more !

हरियाणी बोली – haryanvi boli, खड़ी बोली में अंतर

हरियाणी बोली हरियाणी (haryanvi boli)- यह हिन्दी भाषा दिल्ली, करनाल, रोहतक, हिसार, पटियाला, नामा, जींद, पूर्वी हिसार आदि प्रदेशों में बोली जाती है। इस पर पंजाबी और राजस्थानी का पर्याप्त...Read more !

रीतिकाल के कवि और उनकी रचनाएँ – रचना एवं रचनाकार

रीतिकाल के कवि रीतिकाल का साहित्य अनेक अमूल्य रचनाओं का सागर है, इतना समृद्ध साहित्य किसी भी दूसरी भाषा का नहीं है और न ही किसी अन्य भाषा की परम्परा...Read more !

कर्त्ता कारक (ने) – प्रथमा विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

कर्त्ता कारक  कर्त्ता के जिस रूप से क्रिया (कार्य) के करने वाले का बोध होता है वह कर्त्ता कारक कहलाता है। इसका विभक्ति का चिह्न ने है। इस ने चिह्न का वर्तमानकाल...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.