संदिग्ध भूतकाल – परिभाषा, वाक्य और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण

Sandigdh Bhootkaal

संदिग्ध भूतकाल हिन्दी में – Hindi में Kaal के तीन भेद या प्रकार ‘भूतकाल, वर्तमान काल और भविष्य काल‘ आदि होते है। और भूतकाल को पुनः छः भेदों में विभक्त किया गया है ‘सामान्य भूतकाल, आसन्न भूतकाल, पूर्ण भूतकाल, अपूर्ण भूतकाल, संदिग्ध भूतकाल, हेतु-हेतुमद् भूतकाल’। इस प्रष्ठ में Bhootkaal में से “संदिग्ध भूतकाल” के वाक्य, परिभाषा और उदाहरण आदि की जानकारी दी गई है।

संदिग्ध भूतकाल (Sandigdh Bhootkaal)

परिभाषा: क्रिया के जिस रूप से भूतकाल में होने पर संदेह किया जाता है, उसे संदिग्ध भूतकाल कहते हैं। अर्थात क्रिया के जिस रूप से संदेह बना हो कि कार्य अभी पूरा हुआ है या नहीं वहाँ संदिग्ध भूतकाल (Doubtful Past Tense) होता है। जैसे-

  • वर्षा हुई होगी।
  • लड़के आए होंगे।

पहचान: संदिग्ध भूतकाल में वाक्यों के अंत में गा, गे, गी आदि आते हैं वे संदिग्ध भूतकाल होते हैं।

संरचना: संदिग्ध भूतकाल की संरचना के लिए सामान्य के बाद होगा/होगे/होगी लगाना चाहिए।

संदिग्ध भूतकाल के उदाहरण

1. वह इलाहाबाद चली गई होगी।

2. विवेक लखनऊ पहुँच गया होगा।

3. राधा ने खाना खा लिया होगा।

4. सिमरन हिसार गई होगी।

5. वे क्रिकेट खेले होंगे।

6. बस छूट गई होगी।

7. तू गाया होगा।

8. उसने खाना खाया होगा।

9. प्रिया चली गई होगी।

10. पंकज गोवा गया होगा।

11. मीरा ट्यूशन गई होगी।

12. वे क्रिकेट खेल रहे होंगे।

13. अमरीका ने हिरोशिमा पर बम गिराया होगा।

14. मेनका ने देखा होगा।

15. जापान उस घटना को भूल चुका होगा।

16. तुमने लिखा होगा।

17. उसने चुराया होगा।

18. मनोज आया होगा।

19. तुमने रामायण पढ़ी होगी।

20. छात्रावास में छात्र सो गए होंगे।

21. नेहा ने खा लिया होगा।

22. डॉक्टर ने दवाई दे दी होगी।

23. संगीता गाना गा चुकी होगी।

24. दुकानें बंद हो चुकी होगी।

25. वह गाँव गया होगा।

26. इस समय ऑफिस बंद होगा।

पढ़ें अन्य भूतकाल के भेद (Kaal in Hindi)

सामान्य भूतकाल, आसन्न भूतकाल, पूर्ण भूतकाल, अपूर्ण भूतकाल, संदिग्ध भूतकाल, हेतु-हेतुमद् भूतकाल

Frequently Asked Questions (FAQ)

1. संदिग्ध भूतकाल की परिभाषा लिखिए?

जिस क्रिया के करने या होने में संदेह हो उसे संदिग्ध भूत कहते है। जैसे- तुमने रामायण पढ़ी होगी। छात्रावास में छात्र सो गए होंगे। माँ ने खाना खा लिया होगा। संगीता गाना गा चुकी होगी। दुकानें बंद हो चुकी होगी।

2. संदिग्ध भूतकाल किसे कहते हैं?

यह भूतकाल की ऐसी क्रिया के रूप में सामने आता है जिसमें हमें वह कार्य वाक्यों का भूतकाल में होने पर संदेह हो उससे प्रायः संदिग्ध भूतकाल कहा जाता है। कई बार हम अपनी बातों में भी संदिग्ध भूतकाल का उपयोग किया करते हैं। उदाहरण के लिए- बस छूट गई होगी। प्रिया चली गई होगी। पंकज गोवा गया होगा। मीरा ट्यूशन गई होगी। वे क्रिकेट खेल रहे होंगे। जापान उस घटना को भूल चुका होगा।

3. संदिग्ध भूतकाल क्या हैं?

संदिग्ध भूत में इस बात का सन्देह बना रहता है कि कार्य समाप्त हुआ या नहीं। जैसे- तुमने लिखा होगा। उसने चुराया होगा।

4. संदिग्ध भूतकाल के उदाहरण लिखो?

संदिग्ध भूतकाल के उदाहरण निम्नलिखित हैं:- वे क्रिकेट खेले होंगे। बस छूट गई होगी। तू गाया होगा। उसने खाना खाया होगा। प्रिया चली गई होगी। पंकज गोवा गया होगा। मीरा ट्यूशन गई होगी। वे क्रिकेट खेल रहे होंगे। अमरीका ने हिरोशिमा पर बम गिराया होगा। मेनका ने देखा होगा। जापान उस घटना को भूल चुका होगा।

5. संदिग्ध भूतकाल के वाक्य लिखिए?

संदिग्ध भूतकाल के वाक्य निम्नलिखित हैं:- मनोज आया होगा। तुमने रामायण पढ़ी होगी। छात्रावास में छात्र सो गए होंगे। संगीता गाना गा चुकी होगी। दुकानें बंद हो चुकी होगी। वह गाँव गया होगा। इस समय ऑफिस बंद होगा। सुरेश नहा चुका होगा। मोहन ने गृहकार्य कर लिया होगा। प्रतिभा बस में बैठ गई होगी। फुटबॉल मैच शुरू हो गया होगा। माँ ने खाना खा लिया होगा।

पढ़ें हिन्दी व्याकरण के अन्य चैप्टर

भाषा, वर्ण, शब्द, पद, वाक्य, संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, क्रिया विशेषण, समुच्चय बोधक, विस्मयादि बोधक, वचन, लिंग, कारक, पुरुष, उपसर्ग, प्रत्यय, संधि, छन्द, समास, अलंकार, रस

You may like these posts

रूपक अलंकार – Roopak Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

रूपक अलंकार जहाँ पर उपमेय और उपमान में कोई अंतर न दिखाई दे वहाँ रूपक अलंकार होता है अथार्त जहाँ पर उपमेय और उपमान के बीच के भेद को समाप्त...Read more !

स्वभावोक्ति अलंकार – Svabhavokti Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

स्वभावोक्ति अलंकार परिभाषा– बालकादि की अपनी स्वाभाविक क्रिया अथवा रूप का वर्णन ही स्वभावोक्ति अलंकार है। अर्थात किसी वस्तु के स्वाभाविक वर्णन को स्वभावोक्ति अलंकार कहते हैं। यह अलंकार, हिन्दी...Read more !

यमक अलंकार – परिभाषा, उदाहरण, अर्थ – हिन्दी संस्कृत

यमक अलंकार यमक अलंकार में किसी काव्य का सौन्दर्य बढ़ाने के लिए एक शब्द की बार-बार आवृति होती है। प्रयोग किए गए शब्द का अर्थ हर बार अलग होता है।...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *