परमसखि (param sakhi) शब्द के रूप (Paramasakhi Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Paramasakhi Shabd

परमसखि शब्द (Closest Friend, सबसे प्रिय मित्र): परमसखि शब्द के इकारांत पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, परमसखि (Paramasakhi) शब्द के अंत में “इ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह इकारांत हैं। अतः Paramasakhi Shabd के Shabd Roop की तरह परमसखि जैसे सभी इकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। परमसखि शब्द के शब्द रूप संस्कृत में सभी विभक्तियों एवं तीनों वचन में शब्द रूप (Paramasakhi Shabd Roop) नीचे दिये गये हैं।

परमसखि के शब्द रूप – Shabd roop of Paramasakhi

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा परमसखा परमसखायौ परमसखायः
द्वितीया परमसखायम् परमसखायौ परमसखीन्
तृतीया परमसखिना परमसखिभ्याम् परमसखिभिः
चतुर्थी परमसखये परमसखिभ्याम् परमसखिभ्यः
पंचमी परमसखेः परमसखिभ्याम् परमसखिभ्यः
षष्ठी परमसखेः परमसख्योः परमसखीनाम्
सप्तमी परमसखौ परमसख्योः परमसखिषु
सम्बोधन हे परमसखे ! हे परमसखायौ ! हे परमसखायः !

परमसखि शब्द का अर्थ/मतलब

परमसखि शब्द का अर्थ Closest Friend, सबसे प्रिय मित्र होता है। परमसखि शब्द इकारांत शब्द है इसका मतलब भी ‘Closest Friend, सबसे प्रिय मित्र’ होता है।

परमसखि जैसे और महत्वपूर्ण शब्द रूप

उपर्युक्त शब्द रूप परमसखि शब्द के इकारांत पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप हैं परमसखि जैसे शब्द रूप (Paramasakhi shabd Roop) देखने के लिए Shabd Roop List पर जाएँ।

You may like these posts

वायु शब्द के रूप – Vayu Ke Roop, Shabd Roop – Sanskrit

Vayu Shabd वायु शब्द (Air, हवा): उकारांत पुंल्लिंग शब्द , इस प्रकार के सभी उकारांत पुल्लिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। जैसे – साधू, गुरु,...Read more !

शोभन शब्द के रूप, पुल्लिंग – Shobhan Ke Roop, Pulling – Sanskrit

Shobhan Pulling Shabd शोभन शब्द : अकारांत पुंल्लिंग विशेषण शब्द , इस प्रकार के सभी अकारांत पुल्लिंग विशेषण शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। संस्कृत व्याकरण...Read more !

दीर्घ नपुंसकलिंग शब्द के रूप – Dirgh Napunsak Ling ke roop – Sanskrit

Dirgh Shabd दीर्घ शब्द (Long): अकारांत नपुंसकलिंग विशेषण शब्द, नपुंसकलिंग में केवल प्रथमा और द्वितीया विभक्ति में परिवर्तन होता है वाकी के सभी रूप पुल्लिंग की भांति ही बनते हैं।...Read more !