संभाव्य भविष्यकाल – परिभाषा, वाक्य और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण

Sambhavya Bhavishyakal

संभाव्य भविष्य काल हिन्दी में – Hindi में Kaal के तीन भेद या प्रकार ‘भूतकाल, वर्तमान काल और भविष्य काल‘ आदि होते है। और भविष्य काल को पुनः चार भेदों में विभक्त किया गया है ‘सामान्य भविष्य काल, सम्भाव्य भविष्य काल, सातत्यबोधक भविष्य काल, हेतु-हेतुमद् भविष्य काल’। इस प्रष्ठ में Bhavishya Kal में से “संभाव्य भविष्य काल” के वाक्य, परिभाषा और उदाहरण आदि की जानकारी दी गई है।

सम्भाव्य भविष्यत् काल (Sambhavya Bhavishyakal)

परिभाषा: क्रिया के जिस रूप से भविष्य में कार्य होने की सम्भावना हो, उसे सम्भाव्य भविष्यत् काल (Doubtful Future Tense) कहते हैं। इसे संदेह भविष्यत् काल भी कहते हैं। जैसे-

  • शायद वह चला जाए।
  • सम्भवतः मैं नौकरी छोड़ दूँ।
  • संभव है श्याम पढे।

पहचान: जिन वाक्यों के अंत में गा,गे, गी, ए, ये, ऊ, के साथ संभावना सूचक शब्द जैसे संभव, शायद आदि शब्द आते हैं, उन्हें सम्भाव्य भविष्य काल कहते हैं।

संभाव्य भविष्य काल के उदाहरण

1. संभव है, प्रिया कल आये।

2. शायद रमन कल चला जाए।

3. सम्भवतः आज ट्रेन ना आए।

4. संभव है आज खेत में मजदूर ना आयें।

5. परीक्षा में शायद मुझे दो अंक प्राप्त होगे।

6. शायद मैं कल ट्यूशन पढ़ाने नहीं आ पाऊंगी।

7. शायद कल प्रवीन आगरा जाए।

8. मुझे लगता है कि टेस्ट में मुझे अच्छे नंबर मिल जाएंगे।

9. शायद आज वर्षा होगी।

10. शायद चोर पकड़ा जाए।

11. वह विजयी हो जाए।

12. हम सब शायद दो सप्ताह के बाद उत्सव में जाने वाले हैं।

13. परीक्षा में शायद मेरे अच्छे अंक आएं।

14. शायद रामू की चोरी पकड़ी जाए।

15. हो सकता है कि मैं कल दिल्ली जाऊं।

16. सम्भव है, वह पत्र लिखे।

17. सम्भवतः वह कल आए।

18. दादी शायद कल खिलौने लाए।

19. शायद पड़ोसी से समझौता हो जाए।

20. संभवतः वह विद्यालय आए।

21. शायद मैं कल वहाँ जाऊँ।

22. शायद कल मधु हलवा बनाएगी।

23. शायद कल दादा जी घूमने जाएँ।

24. परीक्षा में शायद मुझे अच्छे अंक प्राप्त होंगे।

25. शायद आज रात वर्षा होगी।

26. संभव है कि श्याम जल्दी सो जाए।

27. शायद नेहा कल नए कपड़े लेकर आए।

28. हो सकता है आज मम्मी बाज़ार जाए।

29. सम्भवना है की फसल अच्छी होगी।

30. लगता है की तुम सच बोलोगे।

पढ़ें अन्य भविष्य काल के भेद (Kaal in Hindi)

सामान्य भविष्य काल, सम्भाव्य भविष्य काल, सातत्यबोधक भविष्य काल, हेतु-हेतुमद् भविष्य काल

Frequently Asked Questions (FAQ)

1. संभाव्य भविष्यकाल की परिभाषा लिखिए?

क्रिया के जिस रूप से भविष्य में कार्य होने या करने की संभावना का पता चले उसे संभाव्य भविष्य काल कहते हैं। इस काल में क्रियाओं का निश्चित पता नहीं चलता। इस काल में भविष्य में किसी कार्य के होने की संभवना होती है। जैसे- शायद आज वर्षा होगी। शायद चोर पकड़ा जाए। वह विजयी हो जाए।

2. संभाव्य भविष्यकाल किसे कहते हैं?

क्रिया का वह रूप जिससे भविष्य में होने की संभावना का पता चलता हो, वह क्रिया संभाव्य भविष्यत काल की क्रिया कहलाती है। जैसे- हो सकता है कि मैं कल दिल्ली जाऊं। शायद रमन कल चला जाए। सम्भवतः आज ट्रेन ना आए। संभव है आज खेत में मजदूर ना आयें।

3. सम्भाव्य भविष्य काल क्या हैं?

इस काल की क्रिया से भविष्यत् काल में कार्य के होने की संभावना का बोध होता है। जैसे – शायद आज रात वर्षा होगी। संभव है कि श्याम जल्दी सो जाए। शायद नेहा कल नए कपड़े लेकर आए। हो सकता है आज मम्मी बाज़ार जाए। सम्भवना है की फसल अच्छी होगी।

4. सम्भाव्य भविष्य काल के उदाहरण लिखो?

सम्भाव्य भविष्य काल के उदाहरण निम्नलिखित हैं:- हो सकता है कि मैं कल वहाँ जाऊँ। शायद कल राधा खीर  बनाएगी। शायद कल मामाजी घूमने जाएँ। शायद चोर पकड़ा जाए। संभव है कि श्याम जल्दी सो जाए। शायद पूजा कल नए कपड़े लेकर आए। हो सकता है आज पापा बाज़ार जाए। हो सकता है कि मैं कल वहाँ जाऊँ। सम्भवना है की फसल अच्छी होगी। लगता है की तुम सच बोलोगे। शायद सीमा वहाँ मिलेगी।

5. संभाव्य भविष्य काल के वाक्य लिखिए?

सम्भाव्य भविष्य काल के वाक्य निम्नलिखित हैं:- शायद मैं कल वहाँ जाऊँ। शायद कल मधु हलवा बनाएगी। शायद कल दादा जी घूमने जाएँ। परीक्षा में शायद मुझे अच्छे अंक प्राप्त होंगे। शायद आज रात वर्षा होगी। संभव है कि श्याम जल्दी सो जाए। शायद नेहा कल नए कपड़े लेकर आए। हो सकता है आज मम्मी बाज़ार जाए। सम्भवना है की फसल अच्छी होगी। लगता है की तुम सच बोलोगे। शायद सोहन वहाँ मिलेगा। शायद चोर पकड़ा जाए।

पढ़ें हिन्दी व्याकरण के अन्य चैप्टर

भाषा, वर्ण, शब्द, पद, वाक्य, संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, क्रिया विशेषण, समुच्चय बोधक, विस्मयादि बोधक, वचन, लिंग, कारक, पुरुष, उपसर्ग, प्रत्यय, संधि, छन्द, समास, अलंकार, रस

You may like these posts

RAS KE PRAKAR – रस के प्रकार – स्थायी भाव, रस और भाव

रस नौ प्रकार के होते हैं – वात्सल्य रस को दसवाँ एवं भक्ति रस को ग्यारहवाँ रस भी माना गया है, वत्सलता तथा भक्ति इनके स्थायी भाव हैं। भरतमुनी ने...Read more !

श्लेष अलंकार – Shlesh Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

श्लेष अलंकार की परिभाषा जहाँ पर कोई एक शब्द एक ही बार आये पर उसके अर्थ अलग अलग निकलें वहाँ पर श्लेष अलंकार होता है। अर्थात श्लेष का अर्थ होता...Read more !

पुरुष – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Purush in hindi

पुरुष की परिभाषा: वे व्यक्ति जो संवाद के समय भागीदार होते हैं, उन्हें पुरुष कहा जाता है। जैसे: मेरा नाम सचिन है। इस वाक्य में वक्ता(सचिन) अपने बारे में बता...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *