निपात-अवधारक – परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण

निपात-अवधारक

Nipat-Avdharak Ki Paribhasha
Nipat-Avdharak Ki Paribhasha

किसी भी बात पर अतिरिक्त भार देने के लिए जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है उसे निपात (अवधारक) कहते है। जैसे :- भी , तो , तक , केवल , ही , मात्र आदि।

निपात के उदाहरण (Nipat Ke Udaharan)

  • तुम्हें आज रात रुकना ही पड़ेगा।
  • तुमने तो हद कर दी।
  • कल मै भी आपके साथ चलूँगा।
  • गांधीजी को बच्चे तक जानते है।
  • धन कमा लेने मात्र से जीवन सफल नहीं हो जाता।

निपात के भेद (Nipat Ke Bhed)

यास्क ने निपात के तीन भेद माने है-

  1. उपमार्थक निपात– इव, न, चित्, नुः
  2. कर्मोपसंग्रहार्थक निपात– न, आ, वा, ह;
  3. पदपूरणार्थक निपात– नूनम्, खलु, हि, अथ

यद्यपि निपातों में सार्थकता नहीं होती, तथापि उन्हें सर्वथा निरर्थक भी नहीं कहा जा सकता। निपात शुद्ध अव्यय नहीं है; क्योंकि संज्ञाओं, विशेषणों, सर्वनामों आदि में जब अव्ययों का प्रयोग होता है, तब उनका अपना अर्थ होता है, पर निपातों में ऐसा नहीं होता। निपातों का प्रयोग निश्र्चित शब्द, शब्द-समुदाय या पूरे वाक्य को अन्य भावार्थ प्रदान करने के लिए होता है।

निपात के कार्य

निपात के निम्नलिखित कार्य होते हैं-

  1. प्रश्न– जैसे : क्या वह जा रहा है ?
  2. अस्वीकृति– जैसे : मेरा छोटा भाई आज वहाँ नहीं जायेगा।
  3. विस्मयादिबोधक– जैसे : क्या अच्छी पुस्तक है !
  4. वाक्य में किसी शब्द पर बल देना- बच्चा भी जानता है।

निपात के प्रकार (Nipat Ke Prakar)

निपात के नौ प्रकार या वर्ग हैं-

  1. स्वीकृतिबोधक (स्वीकार्य) निपात – हा,जी,जी हाँ।
  2. नकारबोधक निपात – जी नहीं,नहीं।
  3. निषेधबोधक निपात – मत।
  4. प्रश्नबोधक निपात – क्या।
  5. विस्मयबोधक निपात – क्या,काश।
  6. तुलनाबोधक निपात – सा।
  7. अवधारणाबोधक निपात – ठीक,करीब,लगभग,तकरीबन।
  8. आदरबोधक निपात – जी।
  9. बल प्रदायकबोधक निपात – तो,ही,भी,तक,भर,सिर्फ,केवल।

You may like these posts

छन्द – परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Chhand in Hindi

छंद की परिभाषा: Chhand Ki Paribhasha छंद शब्द ‘चद्’ धातु से बना है जिसका अर्थ है ‘आह्लादित करना’, ‘खुश करना’। यह आह्लाद वर्ण या मात्रा की नियमित संख्या के विन्यास...Read more !

श्रुत्यानुप्रास अलंकार (Srutyanupras Alankar)

श्रुत्यानुप्रास अलंकार की परिभाषा जहाँ पर कानों को मधुर लगने वाले वर्णों की आवर्ती हो उसे श्रुत्यानुप्रास अलंकार कहते है। यह Alankar, शब्दालंकार के 6 भेदों में से Anupras Alankar...Read more !

दीपक अलंकार – Deepak Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

दीपक अलंकार परिभाषा– जहाँ पर प्रस्तुत और अप्रस्तुत का एक ही धर्म स्थापित किया जाता है वहाँ पर दीपक अलंकार होता है। यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों...Read more !