समासोक्ति अलंकार – Samasokti Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

Samasokti Alankar
Samasokti Alankar

समासोक्ति अलंकार

परोक्तिभेदकैः श्लिष्टैः समासोक्तिः‘ – श्लेषयुक्त विशेषणों के द्वारा दो अर्थों का संक्षेप होने से समासोक्ति अलंकार होता है। यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों में से एक हैं।

समासोक्ति अलंकार के उदाहरण

लब्ध्वा तव बाहुस्पर्श यस्याः सो कोऽप्युल्लासः।
जय लक्ष्मीस्तव विरहे न खलुज्ज्वला दुर्बला ननु सा।।

स्पष्टीकरण– यहाँ केवल ‘जय लक्ष्मी’ शब्द कान्ता का वाचक है। अर्थात् जय लक्ष्मी शब्द नायिका का बोधक है।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

You may like these posts

संज्ञा (Sangya) – परिभाषा, भेद और उदाहरण : Noun in hindi

संज्ञा (Sangya in Hindi) संज्ञा (Sangya):- संज्ञा वह शब्द है जो किसी व्यक्ति ,प्राणी ,वस्तु ,स्थान, भाव आदि के नाम के स्वरूप में प्रयुक्त होते हैं। अत: सभी नामपदों को...Read more !

अपादान कारक (से) – पंचमी विभक्ति – संस्कृत, हिन्दी

अपादान कारक परिभाषा कर्त्ता अपनी क्रिया द्वारा जिससे अलग होता है, उसे अपादान कारक कहते हैं। अथवा– संज्ञा के जिस रूप से एक वस्तु का दूसरी से अलग होना पाया...Read more !

अयादि संधि – एचोऽयवायावः – Ayadi Sandhi, Sanskrit Vyakaran

अयादि संधि अयादि संधि का सूत्र एचोऽयवायाव: होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है। दीर्घ संधि,...Read more !