समासोक्ति अलंकार – Samasokti Alankar परिभाषा उदाहरण अर्थ हिन्दी एवं संस्कृत

समासोक्ति अलंकार - Samasokti Alankar

समासोक्ति अलंकार 

‘परोक्तिभेदकैः श्लिष्टैः समासोक्तिः’ – श्लेषयुक्त विशेषणों के द्वारा दो अर्थों का संक्षेप होने से समासोक्ति अलंकार होता है। यह अलंकार, Hindi Grammar के Alankar के भेदों में से एक हैं।

समासोक्ति अलंकार के उदाहरण

लब्ध्वा तव बाहुस्पर्श यस्याः सो कोऽप्युल्लासः ।
जय लक्ष्मीस्तव विरहे न खलुज्ज्वला दुर्बला ननु सा ।।

स्पष्टीकरण– यहाँ केवल ‘जय लक्ष्मी’ शब्द कान्ता का वाचक है। अर्थात् जय लक्ष्मी शब्द नायिका
का बोधक है।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

यमक अलंकार – परिभाषा, उदाहरण, अर्थ – हिन्दी संस्कृत

यमक अलंकार यमक अलंकार में किसी काव्य का सौन्दर्य बढ़ाने के लिए एक शब्द की बार-बार आवृति होती है। प्रयोग किए गए शब्द का अर्थ हर बार अलग होता है।...Read more !

निपात-अवधारक – परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी व्याकरण

निपात-अवधारक किसी भी बात पर अतिरिक्त भार देने के लिए जिन शब्दों का प्रयोग किया जाता है उसे निपात (अवधारक) कहते है। जैसे :- भी , तो , तक ,...Read more !

ऋ , ए, ऐ , ओ और औ – से शुरू होने वाले पर्यायवाची शब्द (Paryayvachi Shabd)

(‘ऋ , ए, ऐ , ओ और औ’ से शुरू होने वाले पर्यायवाची) पर्याय का अर्थ है – समान। अतः समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द (Synonym...Read more !

उपसर्ग प्रकरण – संस्कृत में उपसर्ग : संस्कृत व्याकरण

“उपस्रज्यन्ते धतुनाम् समीपे क्रियन्ते इत्युपसर्गा” अर्थात जो धातुओ के समीप रखे जाते है उपसर्ग कहलाते हैं। परंतु उपसर्गों से केवल क्रियाओ का ही निर्माण नही होता, इससे अन्य शब्दो का...Read more !

संस्कृत में गिनती – Sanskrit mein 1 se 100 tak Ginti – Sanskrit Counting

संस्कृत गिनती: संस्कृत में 1 से 100 तक की गिनती इस प्रष्ठ में दी हुई है। जिसे आप आसानी से एक से सौ के बाद एक लाख तक बढ़ा सकते...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.