मैत्री शब्द के रूप (Maitree Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Maitri Shabd

मैत्री शब्द (friendship, मैत्री, स्नेहभाव, सलोखा): मैत्री शब्द के ईकारान्त स्त्रीलिंग शब्द के शब्द रूप, मैत्री (Maitree) शब्द के अंत में ‘ई’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह ईकारान्त हैं। अतः Maitree Shabd के Shabd Roop की तरह मैत्री जैसे सभी ईकारान्त स्त्रीलिंग शब्दों के शब्द रूप (Shabd Roop) इसी प्रकार बनाते है। मैत्री शब्द के शब्द रूप संस्कृत में सभी विभक्तियों एवं तीनों वचन में शब्द रूप (Maitree Shabd Roop) नीचे दिये गये हैं।

मैत्री के शब्द रूप – Shabd roop of Maitree

विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथमा मैत्री मैत्र्यौ मैत्र्यः
द्वितीया मैत्रीम् मैत्र्यौ मैत्रीः
तृतीया मैत्र्या मैत्रीभ्याम् मैत्रीभिः
चतुर्थी मैत्र्यै मैत्रीभ्याम् मैत्रीभ्यः
पंचमी मैत्र्याः मैत्रीभ्याम् मैत्रीभ्यः
षष्ठी मैत्र्याः मैत्र्योः मैत्रीनाम्
सप्तमी मैत्र्याम् मैत्र्योः मैत्रीषु
सम्बोधन हे मैत्रि ! हे मैत्र्यौ ! हे मैत्र्यः !

मैत्री शब्द का अर्थ/मतलब

मैत्री शब्द का अर्थ friendship, मैत्री, स्नेहभाव, सलोखा होता है। मैत्री शब्द ईकारान्त शब्द है इसका मतलब भी ‘friendship, मैत्री, स्नेहभाव, सलोखा’ होता है। – दो व्यक्तियों के बीच का मित्र भाव । मित्रता । दोस्ती ।

मैत्री जैसे और महत्वपूर्ण शब्द रूप

उपर्युक्त शब्द रूप मैत्री शब्द के ईकारान्त स्त्रीलिंग शब्द के शब्द रूप हैं मैत्री जैसे शब्द रूप (Maitree shabd Roop) देखने के लिए Shabd Roop List पर जाएँ।

संस्कृत में धातु रूप देखने के लिए Dhatu Roop पर क्लिक करें और नाम धातु रूप देखने के लिए Nam Dhatu Roop पर जायें।

Related Posts

अवनति शब्द के रूप – Avanati Ke Shabd Roop – Sanskrit

Avanati Shabd अवनति शब्द (सामान्य स्थिति से नीचे गिरना, गिरावट, झुकाव): अवनति शब्द के इकारान्त स्त्रील्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, अवनति (Avanati) शब्द के अंत में “इ” की मात्रा का...Read more !

प्रधान शब्द के रूप – Pradhan Ke Shabd Roop – Sanskrit

Pradhan Shabd प्रधान शब्द (सबसे बड़ा, मुख्य, मुखिया): प्रधान शब्द के अकारान्त नपुंसकलिंग शब्द के शब्द रूप, प्रधान (Pradhan) शब्द के अंत में “अ” की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए...Read more !

स्थितवत् (स्थितवान्) शब्द के रूप (Sthitavat Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Sthitavat Shabd स्थितवत् शब्द (स्थितवान्, Situation): स्थितवत् शब्द के तकारांत डवतु प्रत्ययान्त पुल्लिङ्ग शब्द के शब्द रूप, स्थितवत् (Sthitavat) शब्द के अंत में “त्” का प्रयोग हुआ इसलिए यह तकारांत...Read more !

तपस्विन् (तपस्वी) शब्द के रूप (Tapasvin Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Tapasvin Shabd तपस्विन् शब्द (तपस्वी, वह जो तप करता हो, तपस्या करनेवाला): तपस्विन् शब्द के नकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, तपस्विन् (Tapasvin) शब्द के अंत में “न्” का प्रयोग...Read more !

यवक्री शब्द के रूप (Yavakri Ke Shabd Roop) – संस्कृत

Yavakri Shabd यवक्री शब्द (यवक्रत की गाथा): यवक्री शब्द के ईकारान्त पुल्लिंग शब्द के शब्द रूप, यवक्री (Yavakri) शब्द के अंत में ‘ई’ की मात्रा का प्रयोग हुआ इसलिए यह...Read more !