काव्यलिंग अलंकार – Kavyalinga Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

Kavyalinga Alankar
Kavyalinga Alankar

काव्यलिंग अलंकार

परिभाषा: हेतु का वाक्यार्थ अथवा पदार्थ रूप में कथन करना ही काव्यलिङ्गालङ्कार है। अर्थात जहाँ पर किसी युक्ति से समर्थित की गयी बात को काव्यलिंग अलंकार कहते हैं अथार्त जहाँ पर किसी बात के समर्थन में कोई -न -कोई युक्ति या कारण जरुर दिया जाता है।

यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण(Hindi Grammar) के Alankar के भेदों में से एक हैं।

काव्यलिंग अलंकार के उदाहरण

उदाहरण 1.

कनक कनक ते सौगुनी, मादकता अधिकाय।
उहि खाय बौरात नर, इहि पाए बौराए।।

काव्यलिङ्गालङ्कारः, संस्कृत

काव्यलिङ्गहेतोर्वाक्यपदार्थता‘ – हेतु का वाक्यार्थ अथवा पदार्थ रूप में कथन करना ही काव्यलिङ्गालङ्कार है।

उदाहरणस्वरूपः

उदाहरण 2.

वपुः प्रादुर्भावादनुमितमिदं जन्मनि पुरा
परारे! न प्रायः क्वचिदपि भवन्तं प्रणतवान् ।
नमन्मुक्तः सम्प्रत्यहमतनुरग्रेऽप्यनतिभाक्
महेश! क्षन्तव्यं तदिदमपराधद्वयमपि ।।

स्पष्टीकरण– यहाँ ‘पुरा जन्मनि भवन्तं न प्रणतवान्’ और ‘अग्रेऽप्यनतिभाक्’ इन वाक्यों का अर्थ अपराधद्वय का हेतु है।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

You may like these posts

तत्सम-तद्भव (Tatsam-Tadbhav) शब्द, परिभाषा, पहचानने के नियम और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण

तत्सम-तद्भव: संस्कृत भाषा के कुछ शब्द ऐसे होते हैं जो हिंदी में भी बिना परिवर्तन के प्रयुक्त होते हैं। उन शब्दों को तत्सम शब्द कहते हैं। तद्भव शब्द वे शब्द...Read more !

प्रकृति भाव संधि – ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम् – Prakriti Bhava Sandhi, Sanskrit Vyakaran

प्रकृति भाव संधि प्रकृति भाव संधि का सूत्र ईदूद्विवचनम् प्रग्रह्यम् होता है। यह संधि स्वर संधि के भागो में से एक है। संस्कृत में स्वर संधियां आठ प्रकार की होती है।...Read more !

समोच्चरित शब्द एवं वाक्य प्रयोग – संस्कृत व्याकरण समोच्चरित शब्द

समोच्चरित शब्द ऐसे शब्द होते हैं जिनका उच्चारण प्रायः समान होता है, परन्तु उनके अर्थ में भिन्नता होती है, उन्हें समोच्चारित शब्द कहते हैं। स्वाभिमान और अभिमान लगभग दोनों समोच्चारित...Read more !