पर्याय अलंकार – पर्यायालंकार – हिन्दी & संस्कृत – व्याकरण

पर्याय अलंकार -  पर्यायालंकार

पर्याय अलंकार (पर्यायालंकार)

परिभाषा: “एक क्रमेणानेकस्मिन् पर्यायः” – एक क्रम से अनेक में पर्यायालंकार होता है। यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण (Hindi Grammar) के अलंकार के भेदों में से एक हैं।

उदाहरणस्वरूप : (पर्याय अलंकार – पर्यायालंकार के उदाहरण)

बिम्वोष्ठ एव रागस्ते तन्वि! पूर्वमदश्यत ।।
अधुना हृदयेऽप्येष मृगशावाक्षिः लक्ष्यते ।।

स्पष्टीकरण– यहाँ राग का वस्तुतः भेद होने पर भी औपचारिक एकत्व मान लेने से एकत्व का
विरोध नहीं होता।

 

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

Related Posts

ENGLISH TO SANSKRIT TRANSLATION

‘Translation’ means – Expressing the wospoken in one language in another language Here we discuss how to Translate English language in Sanskrit language – discuss this will do So Sanskrit...Read more !

UPTET 2019 Sanskrit New Syllabus , Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test

UPTET 2019 Sanskrit Syllabus UPTET उत्तर प्रदेश शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित कराई जाने वाली एक राज्य स्तरीय परीक्षा है। जिसकी पाठ्यवस्तु मे संस्कृत भी एक विषय होता है। अधिकतर अभ्यर्थी संस्कृत...Read more !

कालवाचक क्रियाविशेषण – परिभाषा, उदाहरण, भेद एवं अर्थ

परिभाषा कालवाचक क्रियाविशेषण  वे शब्द होते हैं जो हमें क्रिया के होने वाले समय का बोध कराते हैं, वह शब्द कालवाचक क्रियाविशेषण कहलाते हैं। यानी जब क्रिया होती है उस...Read more !

कारक – परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Karak in Hindi

कारक क्या होता है? संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप से वाक्य के अन्य शब्दों के साथ उसके सम्बन्ध का बोध होता है, उसे कारक कहते हैं। हिन्दी में आठ कारक...Read more !

निश्चयवाचक या संकेतवाचक सर्वनाम – Nishchay Vachak Sarvanam : हिन्दी व्याकरण

निश्चयवाचक/संकेतवाचक सर्वनाम जो सर्वनाम निकट या दूर की किसी वस्तु की ओर संकेत करे, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं। जैसे- यह लड़की है। वह पुस्तक है। ये हिरन हैं। वे...Read more !