पर्याय अलंकार – पर्यायालंकार, हिन्दी & संस्कृत, व्याकरण

Paryay Alankar - Paryayalankar
Paryay Alankar (Paryayalankar)

पर्याय अलंकार (पर्यायालंकार)

परिभाषा: “एक क्रमेणानेकस्मिन् पर्यायः” – एक क्रम से अनेक में पर्यायालंकार होता है। यह अलंकार, हिन्दी व्याकरण (Hindi Grammar) के अलंकार के भेदों में से एक हैं।

उदाहरणस्वरूप: – पर्याय अलंकार (पर्यायालंकार) के उदाहरण

बिम्वोष्ठ एव रागस्ते तन्वि! पूर्वमदश्यत ।।
अधुना हृदयेऽप्येष मृगशावाक्षिः लक्ष्यते ।।

स्पष्टीकरण– यहाँ राग का वस्तुतः भेद होने पर भी औपचारिक एकत्व मान लेने से एकत्व का विरोध नहीं होता।

 सम्पूर्ण हिन्दी और संस्कृत व्याकरण

  • संस्कृत व्याकरण पढ़ने के लिए Sanskrit Vyakaran पर क्लिक करें।
  • हिन्दी व्याकरण पढ़ने के लिए Hindi Grammar पर क्लिक करें।

You may like these posts

Relations Name (rishton, sambandhiyon ke naam) in Hindi Sanskrit and English – Chart, List, Table

In this chapter you will know the names of Relations Name (rishton, sambandhiyon ke naam) in Hindi, Sanskrit and English. We are going to discuss Relations’ Name’s List & Table...Read more !

विरोधाभाष अलंकार – Virodhabhash Alankar परिभाषा, भेद और उदाहरण – हिन्दी

विरोधाभाष अलंकार परिभाषा– जहाँ वास्तविक विरोध न होकर केवल विरोध का आभास हो, वहाँ विरोधाभास अलंकार होता है। अर्थात जब किसी वस्तु का वर्णन करने पर विरोध न होते हुए...Read more !

पुरुष – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण : हिन्दी व्याकरण, Purush in hindi

पुरुष की परिभाषा: वे व्यक्ति जो संवाद के समय भागीदार होते हैं, उन्हें पुरुष कहा जाता है। जैसे: मेरा नाम सचिन है। इस वाक्य में वक्ता(सचिन) अपने बारे में बता...Read more !