नियुक्ति आवेदन पत्र का प्रारूप और लेखन की विधि और विशेषताएँ

नियुक्ति आवेदन पत्र का अर्थ व परिभाषा

नियुक्ति आवेदन पत्र से अभिप्राय उन पत्रों से लिया जाता है जो नौकरी प्राप्त करने हेतु किसी संस्था को आवेदक द्वारा भेजे जाते हैं। आवेदन पत्र में निम्न बातों का ध्यान रखना अपेक्षित है :

  1. आवेदन पत्र की भाषा शिष्ट, संयत एवं विनम्रतापूर्ण होनी चाहिए।
  2. आवेदक का नाम, पता एवं योग्यताओं का विवरण भी उसमें दिया होना चाहिए।।
  3. आवेदक का सन्दर्भ भी आवेदन पत्र में होना चाहिए।
  4. शैक्षिक योग्यताओं के साथ-साथ कार्यानुभव आदि का विवरण भी दिया जाना चाहिए।
  5. अत्यन्त विनम्रतापूर्वक उसमें अपनी कर्तव्यनिष्ठा एवं उत्तरदायित्व को वहन करने की क्षमता का उल्लेख करना भी आवश्यक है।
  6. पद के अनुकूल वांछित योग्यताओं का विवरण ही आवेदन पत्र में दिया जाना ठीक रहता है।
  7. आवेदन पत्र में अनावश्यक आत्मप्रशंसा से बचना चाहिए तथा जहां तक सम्भव हो, उसे औपचारिक ही रखना चाहिए।
  8. दी गई सूचनाओं की सम्पुष्टि हेतु आवश्यक प्रमाण पत्रों, अंक तालिकाओं की प्रमाणित प्रतिलिपि आवेदन पत्र के साथ संलग्न करनी चाहिए।
  9. आवेदन पत्र एक एक निश्चित प्रारूप में लिखा जाता है फिर भी उसमें नवीनता एवं मौलिकता रहनी चाहिए।

आवेदन पत्र का प्रारूप की विशेषताएँ

  1. पत्र में बायीं ओर सेवायोजक के पद एवं कार्यालय का नाम-पता।
  2. सम्बोधन–महोदय या महोदया।
  3. विषय-किस पद हेतु आवेदन किया जा रहा है।
  4. पद हेतु प्रकाशित विज्ञापन का सन्दर्भ या अन्य कोई स्रोत।
  5. शैक्षिक योग्यताओं का तालिका द्वारा विवरण प्रस्तुत करना।
  6. शिक्षणेतर गतिविधियों का उल्लेख।
  7. पूर्व कार्यानुभव का विवरण।
  8. जन्म तिथि एवं स्वास्थ्य सम्बन्धी उल्लेख।
  9. सेवायोजक को कार्य एवं निष्ठा का आश्वासन।
  10. साक्षात्कार के लिए बुलाए जाने की आशावादिता।
  11. पत्र का समापन एवं हस्ताक्षर।
  12. संलग्नकों की सूची।
  13. आवेदन पत्र प्रस्तुत करने का दिनांक।

उदाहरण १. किसी विद्यालय के प्रबन्धक के नाम हिन्दी प्रवक्ता पद हेतु अपनी नियुक्ति के लिए आवेदन-पत्र का प्रारूप लिखिए।

Vidyalaya ke Prabandhak ke liye Patra, Niyukti Avadan Patra ka Example

उदाहरण २. साहित्य भवन पब्लिकेशन्स, आगरा में कम्प्यूटर ऑपरेटर पद पर नियुक्ति हेतु आवेदन पत्र का प्रारूप प्रस्तुत कीजिए।

सेवा में,
           प्रबन्धक
           साहित्य भवन पब्लिकेशन्स
           बाई पास रोड, तुलसी सिनेमा के पास, आगरा
महोदय,
           दिनांक २५.६.२०१९ के दैनिक जागरण आगरा में आपके द्वारा ‘कम्प्यूटर ऑपरेटर’ पद हेतु प्रकाशित
विज्ञापन के सन्दर्भ में यह आवेदन पत्र प्रस्तुत कर रहा हूं। मेरी शैक्षिक योग्यताएं निम्नवत हैं :

परीक्षा वर्ष श्रेणी परीक्षा संस्था
हाईस्कूल
इंटर्मीडियट
बी.कॉम.
एम.सी.ए.
2009
2011
2014
2016
प्रथम
द्वितीय
प्रथम
प्रथम
माध्यमिक शिक्षा परिषद उ०प्र०
माध्यमिक शिक्षा परिषद उ०प्र०
डॉ. बी. आर. ए. विश्वविद्यालय
इन्दिरा गांधी विश्वविद्यालय

           विगत दो वर्षों से मैं कम्प्यूटर डेटा एन्ट्री ऑपरेटर एवं कम्प्यूटर प्रोग्रामर के रूप में नोएडा की कम्पनी में कार्य करता रहा हूं।
           मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि नियुक्त कर लिए जाने पर अपना कार्य पूर्ण उत्तरदायित्व एवं निष्ठा से करूंगा और आपको अपनी कार्यदक्षता से सन्तुष्ट करने का प्रयास करूंगा।
           कम्प्यूटर सम्बन्धी अन्य कार्यों को भी मैं आवश्यकता पड़ने पर कर सकूँगा क्योंकि इससे जुड़ी हुई अनेक समस्याओं का समाधान करने का अनुभव मुझे प्राप्त है।
           आशा है मुझे संस्थान की सेवा करने का अवसर प्रदान करेंगे।

दिनांक : २८-६-२०१९
संलग्नक :
१. अंक तालिकाओं की प्रमाणित प्रतिलिपियां
२. अनुभव प्रमाण पत्र
३. चरित्र प्रमाण पत्र
प्रार्थी
विनीत कुमार चावला
३२, बाग मुजफ्फर खाँ
आगरा

उदाहरण ३. बिरला जूट मिल्स, 29-B सर्वोदय नगर कानपुर में कार्यालय लिपिक पद हेतु आवेदन-पत्र का प्रारूप प्रस्तुत कीजिए।

सेवा में,
           प्रबन्धक
           बिरला जूट मिल्स
           29-B, सर्वोदय नगर, कानपुर

विषय-कार्यालय लिपिक पद हेतु आवेदन

महोदय,
           दिनांक १५-६-२००२ को दैनिक जागरण, कानपुर में आपके द्वारा कार्यालय लिपिक हेतु जो विज्ञापन प्रकाशित कराया गया है, उसी के सन्दर्भ में मैं यह आवेदन-पत्र प्रस्तुत कर रहा हूं।

मेरी शैक्षणिक योग्यताओं का विवरण निम्न प्रकार हैं :

परीक्षा वर्ष श्रेणी परीक्षा संस्था
हाईस्कूल
इंटर्मीडियट
बी.कॉम.
2009
2011
2014
प्रथम
द्वितीय
प्रथम
माध्यमिक शिक्षा परिषद उ०प्र०
माध्यमिक शिक्षा परिषद उ०प्र०
डॉ. बी. आर. ए. विश्वविद्यालय

           टंकण एवं आशुलिपि में भी मुझे दक्षता प्राप्त है। अंग्रेजी टंकण में मेरी गति ४० शब्द प्रति मिनट तथा हिन्दी टंकण में २५ शब्द प्रति मिनट है। आशुलिपिक के रूप में मुझे ८० शब्द प्रति मिनट लिखने का अभ्यास है।
           विगत दो वर्षों से मैं स्थानीय जे. के. सीमेन्ट उद्योग में अस्थायी लिपिक के रूप में कार्यरत हूं। आपकी संस्था में मुझे उन्नति के अधिक अवसर प्रतीत हो रहे हैं, अतः मेरा विनम्र निवेदन है कि मुझे सेवा का अवसर प्रदान करने की कृपा करें।
           मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि संस्था की सेवा पूर्ण उत्तरदायित्व एवं निष्ठा से करूंगा और आपको शिकायत का कोई अवसर प्रदान नहीं करूंगा।
           यह भी उल्लेखनीय है कि लिपिकीय कार्य के अतिरिक्त आवश्यकता पड़ने पर मैं एकाउण्टेण्ट का कार्य भी पूर्ण दक्षता से कर सकता हूं, क्योंकि डिग्री स्तर पर लेखा एवं विधि मेरा विषय रहा है।
           आशा है, मुझे सेवा का अवसर प्रदान कर अनुग्रहीत करेंगे।

दिनांक : २८-६-२०१९
संलग्नक :
१. अंक तालिकाओं की प्रमाणित प्रतिलिपियां
२. अनुभव प्रमाण पत्र
३. चरित्र प्रमाण पत्र
प्रार्थी
विनीत कुमार चावला
३२, बाग मुजफ्फर खाँ
आगरा

Related Posts

संपादक के नाम पत्र – कैसे लिखें? विशेषताएँ और उदाहरण

          सम्पादकीय पत्र अथवा संपादक के नाम पत्र वे पत्र हैं, जो पाठकों द्वारा समाचार पत्रों के सम्पादकों को सम्बोधित करके लिखे जाते हैं। इस प्रकार...Read more !

आवेदन पत्र (Application), Avedan Patra / Prarthna Patra – Praroop & RoopRekha

आवेदन पत्र           आवेदन (Application) शब्द से ही स्पष्ट हो जाता है कि अपने से किसी बड़े अधिकारी को ही लिखा जाने वाला पत्र आवेदन-पत्र कहलाता...Read more !

पत्र लेखन – Patra Lekhan in Hindi – हिन्दी

पत्र-लेखन (Letter-Writing) पत्र-लेखन आधुनिक युग की अपरिहार्य आवश्यकता है। पत्र एक ओर सामाजिक व्यवहार के अपरिहार्य अंग हैं तो दूसरी ओर उनकी व्यापारिक आवश्यकता भी रहती है। पत्र लेखन एक...Read more !

बैंक / विभिन्न व्यवसायों से सम्बन्धित ऋण प्राप्ति हेतु आवेदन-पत्र

बैंक/विभिन्न व्यवसायों से सम्बन्धित ऋण-प्राप्ति हेतु आवेदन-पत्र, Here we have given UP Board for Class 10 & 12 Samanya Hindi, बैंक/विभिन्न व्यवसायों से सम्बन्धित ऋण-प्राप्ति हेतु आवेदन-पत्र। ऋण प्राप्ति हेतु...Read more !

पत्राचार में बहुप्रयुक्त वाक्यांश (पत्रों में अधिकांश प्रयोग होने वाले वाक्य)

इस प्रष्ठ पर पत्राचार में बहुप्रयुक्त वाक्यांश या अधिकांश प्रयोग होने वाले प्रमुख वाक्य दिये जा रहे हैं। ये वाक्य अक्सर पत्र लेखन के समय प्रयोग होते हैं। इन वाक्यों...Read more !