विश्व की भाषाएं – दुनिया की सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाएं

विश्व में भाषाओं और बोलियों की संख्या संयुक्त राष्ट्र संघ के अनुसार 6800 से अधिक है। इनमें से 23 भाषाएं लगभग विश्व की आधी से अधिक जनसंख्या द्वारा बोली जाती हैं। विश्व की ये 23 भाषाएं ही प्रमुख हैं- अंग्रेज़ी, चीनी, हिन्दी, स्पेनी, फ्रेंच, अरबी, बंगाली, रूसी, पुर्तगाली, इंडोनेशियन, उर्दू, जर्मन, जपानीज़, स्वाहिली, मराठी, तेलुगु, लहंदा, तमिल, तुर्की, कोरीअन, वियततनामी, इटालियन, हौसा, थाई, गुजराती, कन्नड, पर्शियन और भोजपुरी।

Vishwa Ki Bhasha

विश्व की प्राचीन भाषा

क्या आप जानते विश्व की वह कौन सी सबसे पहली प्राचीन भाषा है जो अभी भी अस्तित्व में है?

विश्व की पहली प्राचीन भाषा तमिल है– यह सबसे पहली खोजी गई भाषाओं में से है, यह अभी लगभग संसार के 12 करोड़ लोगों द्वारा बोली जाने वाली भाषा है। तमिल के बाद इस सूची में संस्कृत, उसके बाद ग्रीक, चीनी, हिब्रू और अरबी आतीं हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य

दुनियाँ में भाषाओं के बोलने बालों की संख्या बदलती रहती है। विश्व में लगभग 6800 से अधिक भाषाएं हैं। जिनमें से 40% भाषाओं के, प्रत्येक भाषा में एक हजार से भी कम व्यक्ति हैं। अर्थात प्रत्येक भाषा, एक हजार से भी कम व्यक्तियों के समूहों द्वारा बोली जाती हैं। दुनियाँ में लगभग 23 भाषाएं प्रमुख हैं, जो समस्त संसार की आधी आबादी को अपने आप में समेंट लेती हैं।

  • अमेरिका की कोई आधिकारिक भाषा नहीं है।
  • गिनीआ (Papua New Guinea) में विश्व की सबसे अधिक भाषाएं हैं। यहाँ 840 से अधिक भाषाएं हैं। जिनमें से अब 40 ही मुख्य भाषाएं हैं।
  • दुनिया की 6800 भाषाओं में लगभग 600 से अधिक भारत की भाषाएं आती हैं।
  • सुमेरियन भाषा सबसे पुरानी लिखित भाषाओं में से एक है। यह 3300 ई०पू० की लिखित भाषा है।
  • बाइबिल सबसे ज्यादा अनुवादित की गई पुस्तक है, इसे 683 भाषाओं एवं इसके भागों को 3000 से अधिक भाषाओं में अनुवादित किया गया है। बाइबिल मूलतः हिब्रू, अरामी और कोइन ग्रीक (Hebrew, Aramaic, and Koine Greek) भाषाओं में लिखी गई थी।
  • फ्रेंच को दुनिया की ‘प्यार की भाषा‘ (love language) कहते हैं।
  • पापुआन (Papuan) भाषा में सबसे कम वर्ण, 11 हैं। यह रोटोकास की भाषा है।
  • रूसी भाषा को ‘युद्ध की भाषा‘ कहा जाता है।
  • अंग्रेजी विश्व की सबसे प्रभावी भाषा है, परंतु यह सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा नहीं है।
  • कम्बोडियन भाषा में सबसे ज्यादा वर्ण, 73 से भी अधिक हैं।
  • चीन की मंदारिन भाषा में वर्ण के स्थान पर प्रतीकों (symbols) का प्रयोग होता है। इसीलिए यह विश्व की सबसे कठिन भाषा है। लोग कहते हैं वे लिखते नहीं है चित्र बनाते हैं। इसमें लगभग 9000 प्रतीक हैं। जिनमें से 3000 प्रतीकों का ज्ञान, एक अखबार पढ़ने के लिए जरूरी है।
  • छापाखाने या छपाई में प्रयुक्त पहली भाषा जर्मन है।
  • अंग्रेजी और फ्रेंच इंटरनेट की दुनिया में सबसे अग्रणी हैं। इसी बजह से अंग्रेजी को कई देशों में इसे अपने देश आधिकारिक भाषा का दर्जा देना पढ़ गया है।
  • यदि यही हाल रहा तो आने वाले दशकों में अंग्रेजी विश्व की लगभग सभी भाषाओं खा जाएगी। जैसे- अफ्रीका महाद्वीप में अंग्रेजी एक प्रथम भाषा बन गई है, नाइजीरिया में 9 करोड़ इंग्लिश बोलते हैं जबकि ब्रिटेन में 6 करोड़।
  • अमेरिका में अंग्रेजी भाषा की 24 से अधिक बोलियां बोली जातीं हैं।

विश्व की प्रमुख भाषाओं की सूची

क्या आप जानते है कि दुनिया की सबसे प्रसिद्ध भाषाएँ या सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाएँ कौन सी हैं? नहीं? जानें:

Most Spoken Languages of The World

यहाँ इस लिस्ट में दुनियां की 36 सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाओं को उनके बोलने बालों की संख्या के आधार पर दिया गया है।

# भाषा (Language) भाषा-परिवार (Family ) वक्ता (Speakers)
1. अंग्रेजी इंडो-यूरोपियन 145.2 करोड़
2. मंडारिन (मानक चीनी) सिनो-तिब्बतीयन 111.8 करोड़
3. हिन्दी इंडो-यूरोपियन 60.2 करोड़
4. स्पैनिश इंडो-यूरोपियन 54.8 करोड़
5. फ्रेंच इंडो-यूरोपियन 27.41 करोड़
6. अरबी (मानक) अफ्रीकी-एशियाई 27.4 करोड़
7. बंगाली इंडो-यूरोपियन 27.27 करोड़
8. रूसी इंडो-यूरोपियन 25.82 करोड़
9. पुरगाली इंडो-यूरोपियन 25.77 करोड़
10. उर्दू इंडो-यूरोपियन 23.13 करोड़
11. इंडोनेशियन ऑस्ट्रोनेशियाई 19.9 करोड़
12. जर्मन (मानक) इंडो-यूरोपियन 13.46 करोड़
13. जपानीज़ जपोनिक 12.54 करोड़
14. नाइजीरियाई पिजिन अंग्रेजी क्रियोल 12.07 करोड़
15. मराठी इंडो-यूरोपियन 9.91 करोड़
16. तेलुगु द्रविड़ 9.57 करोड़
17. तुर्की तुर्की 8.81 करोड़
18. तमिल द्रविड़ 8.64 करोड़
19. यू चीनी सिनो-तिब्बतीयन 8.56 करोड़
20. वियतनामी ऑस्ट्रोएशियाटिक 8.53 करोड़
21. तागालोग ऑस्ट्रोएशियन 8.23 करोड़
22. वू चीनी सिनो-तिब्बतीयन 8.18 करोड़
23. कोरीयन कोरीयन 8.17 करोड़
24. ईरानी पर्शियन इंडो-यूरोपियन 7.74 करोड़
25. हौसा अफ्रीकी-एशियाई 7.71 करोड़
26. अरबी (मिश्र) अफ्रीकी-एशियाई 7.48 करोड़
27. स्वाहिली नाइजर-कांगो 7.14 करोड़
28. जवानीज़ ऑस्ट्रोएशियन 6.83 करोड़
29. इटालियन इंडो-यूरोपियन 6.79 करोड़
30. पश्चिमी पंजाबी इंडो-यूरोपियन 6.64 करोड़
31. कन्नड़ द्रविड़ 6.4 करोड़
32. गुजराती इंडो-यूरोपियन 6.2 करोड़
33. थाई क्रा-दाई 6.07 करोड़
34. अम्हारिक अफ्रीकी-एशियाई 5.75 करोड़
35. भोजपुरी इंडो-यूरोपियन 5.25 करोड़
36. पूर्वी पंजाबी इंडो-यूरोपियन 5.17 करोड़

विश्व की प्रमुख भाषाओं की लिपियाँ

यहाँ विश्व की कुछ प्रमुख भाषाएं (Languages) की लिपियों (Scripts) के नाम उदाहरण (Examples) के साथ दिए जा रहे है:

# भाषा (Language) लिपि (Script) उदाहरण (Example)
1. हिन्दी देवनागरी बच्चे खेल रहे हैं।
2. संस्कृत देवनागरी बालकाः क्रीड़न्ति।
3. अंग्रेजी रोमन The Boys are Playing
4. फ्रेंच रोमन Les garçons jouent.
5. पोलिश रोमन Chłopcy grają.
6. जर्मन रोमन Die Jungs spielen.
7. स्पेनिश रोमन Los chicos están jugando.
8. मराठी देवनागरी मुले खेळत आहेत।
9. नेपाली देवनागरी केटाहरू खेलिरहेका छन्।
10. पंजाबी गुरमुखी ਮੁੰਡੇ ਖੇਡ ਰਹੇ ਹਨ।
11. उर्दू फारसी لڑکے کھیل رہے ہیں۔
12. अरबी फारसी الأولاد يلعبون.
13. रूसी रूसी Мальчики играют.
14. बुल्गेरियन रूसी Момчетата играят.

यों तो हर भाषा की अपनी लिपि होती है, किन्तु कोई भी भाषा किसी भी लिपि में लिखी जा सकती है। हम हिन्दी को रोमन लिपि में और अंग्रेजी को देवनागरी में लिख सकते हैं। जैसे-

  • मोहन किताब खरीद रहा है। – Mohan Kitab Kharid raha hai.
  • John is going to Nepal. – जॉन इज गोइंग टू नेपाल।

हिन्दी विश्व शांति की भाषा

विश्व शान्ति सभी देशों और/या लोगों के बीच और उनके भीतर स्वतन्त्रता, शान्ति और खुशी का एक आदर्श है। विश्व शान्ति पूरी पृथ्वी में अहिंसा स्थापित करने का एक माध्यम है, जिसके तहत देश या तो स्वेच्छा से या शासन की एक प्रणाली के जरिये इच्छा से सहयोग करते हैं, ताकि युद्ध को रोका जा सके। सामान्यतः यह माना जाता है की विश्व मे चीनी भाषा (मंदारिन) सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है लेकिन वास्तविकता तो यह है की हिन्दी विश्व मे सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है। इसीलिए हिन्दी को विश्व शांति भाषा के रूप में प्रयोग करना चाहिए।

Multiple Choice Questions (MCQs)

1. विश्व में लगभग कितनी भाषाएँ हैं?

  1. 3000
  2. 6500
  3. 7100
  4. 5400

उत्तर (2) 6500

2. ऑस्ट्रिया, लिकटेंस्टीन और स्विट्जरलैंड की सामान्य आधिकारिक भाषा कौन सी है?

  1. अंग्रेज़ी
  2. स्वीडिश
  3. जर्मन
  4. फ़्रेंच

उत्तर (3) जर्मन

3. राजभाषाओं की सबसे बड़ी संख्या वाला देश कौन सा है?

  1. चीन
  2. संयुक्त राज्य अमेरिका
  3. दक्षिण अफ़्रीका
  4. भारत

उत्तर (4) भारत

4. किस देश में संयुक्त राज्य अमेरिका की तुलना में अधिक अंग्रेजी बोलने वाले हैं?

  1. चीन
  2. यू.के
  3. जापान
  4. भारत

उत्तर (1) चीन

5. कितने देशों में राजभाषा नहीं है?

  1. 3
  2. 5
  3. 7
  4. 1

उत्तर (2) 5 देशों में आधिकारिक भाषाएं नहीं हैं।

6. बाह्य अंतरिक्ष में बोली जाने वाली पहली भाषा कौन सी थी?

  1. अंग्रेज़ी
  2. जर्मन
  3. रूसी
  4. इटैलियन

उत्तर (3) रूसी, सोवियत संघ, “यूरी गागरिन” द्वारा

7. यूरोप में सबसे व्यापक मूल भाषा कौन सी है?

  1. यूक्रेनियाई
  2. रूसी
  3. जर्मन
  4. अंग्रेज़ी

उत्तर (2) रूसी

8. सभी महाद्वीपों में से, सबसे अधिक भाषाएँ कौन सी हैं?

  1. एशिया
  2. दक्षिण अमेरिका
  3. उत्तर अमेरिका
  4. अफ़्रीका

उत्तर (1) एशिया

9. निम्नलिखित में से, इनमें से कौन सी दक्षिण पूर्व एशिया में सबसे व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली व्यावसायिक भाषा है?

  1. बाहसा
  2. मलय
  3. इंडोनेशियाई
  4. कैंटोनीज़

उत्तर (4) कैंटोनीज़

10. हिंदी भारत की राजभाषा कब बनी?

  1. 1965
  2. 1951
  3. 1971
  4. 1984

उत्तर (1) 1965

Related Posts

स्वतंत्रता के बाद हिन्दी का राजभाषा के रूप में विकास

स्वतंत्रता या आजादी के बाद हिन्दी का राजभाषा के रूप में विकास राजभाषा (Official Language) क्या है ? राजभाषा का शाब्दिक अर्थ है-राज-काज की भाषा। जो भाषा देश के राजकीय...Read more !

वैदिक संस्कृत – वैदिक संस्कृत की विशेषताएं, वैदिक व्याकरण संस्कृत

वैदिक संस्कृत वैदिक संस्कृत (2000 ई.पू. से 800 ई.पू. तक) प्राचीन भारतीय आर्य भाषा का प्राचीनतम नमूना वैदिक-साहित्य में दिखाई देता है। वैदिक साहित्य का सृजन वैदिक संस्कृत में हुआ...Read more !

मैथिली, मगही – बोली, भाषा – बिहारी हिन्दी

बिहारी हिन्दी बिहारी हिन्दी का विकास मागधी प्राकृत से हुआ है। यह पूर्वी उत्तर प्रदेश तथा बिहार क्षेत्र की भाषा है। कतिपय विद्वान बिहारी हिन्दी का सम्बन्ध बंगला से भी...Read more !

लौकिक संस्कृत – लौकिक संस्कृत का अर्थ

लौकिक संस्कृत लौकिक संस्कृत (800 ई.पू. से 500 ई.पू. तक) – लौकिक संस्कृत ‘प्राचीन-भारतीय-आर्य-भाषा‘ का वह रूप जिसका पाणिनि की ‘अष्टाध्यायी’ में विवेचन किया गया है, वह ‘लौकिक संस्कृत’ कहलाता...Read more !

बुंदेली – बुंदेली बोली – बुंदेलखंडी भाषा – पश्चिमी हिन्दी

बुंदेली – बुंदेलखंडी बुंदेली– बुंदेलखण्ड की भाषा को बुंदेली अथवा बुंदेलखण्डी कहा जाता है। चम्बल और यमुना नदियों तथा जबलपुर, रीवां और विन्ध्य पर्वत के बीच के प्रदेश को बुंदेलखण्ड...Read more !

Leave a Reply

Your email address will not be published.